Tuesday, Sep 17 2019 | Time 21:48 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • दुमका में बांस कारीगर मेला कल से, सभी तैयारियां पूरी
  • कुख्यात हथियार तस्कर ने किया आत्मसमर्पण
  • मऊ में बिजली गिरने से पति-पत्नी सहित तीन लोगों की मृत्यु
  • फोटो कैप्शन-तीसरा सेट
  • झारखंड पुलिस बल के कर्मियों को मिलेगा अतिरिक्त मानदेय
  • बाढ़ से बर्बाद हो रहे गांवों को बचाने का सरकार स्थायी समाधान निकालेगी:योगी
  • अमित, मनीष, संजीत, कविंदर क्वार्टरफाइनल में, पदक से एक कदम दूर
  • जौनपुर में बिजली गिरने से दो लोगों की मृत्यु
  • झारखंड में खुलेगा जनजातीय विश्वविद्यालय : अर्जुन मुंडा
  • दिल्ली वुशू टीम ने जीते 4 स्वर्ण और 4 रजत
  • काबुल में आत्मघाती हमले में 22 मरे, 38 घायल
  • प्रधानमंत्री जन आरोग्‍य योजना के तहत 47 लाख लोगों ने उपचार कराया
  • वाराणसी में 12 नवम्बर को विश्वप्रसिद्ध ‘देव दीपावली’
  • हाउडी मोदी मेगा शो में दुनिया के लिए तमाम सबक भी होंगे: जयशंकर
  • अमित, मनीष, संजीत क्वार्टरफाइनल में, पदक से एक कदम दूर
राज्य


मंगलवार को चंद्रमा की कक्षा में पहुँच जायेगा चंद्रयान

मंगलवार को चंद्रमा की कक्षा में पहुँच जायेगा चंद्रयान

बेंगलुरु, 19 अगस्त (वार्ता) चाँद पर भारत का दूसरा मिशन चंद्रयान-2 मंगलवार को चंद्रमा की कक्षा में पहुँच जायेगा।

चंद्रयान-2 का प्रक्षेपण 22 जुलाई को दोपहर बाद 2.43 बजे आँध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से किया गया था। पहले 22 दिन पृथ्वी की कक्षा में चक्कर लगाने के बाद 14 जुलाई को तड़के 2.21 बजे इसकी छह दिन की चंद्र यात्रा शुरू हुई थी। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने बताया कि चंद्रयान 20 अगस्त को चंद्रमा की कक्षा में पहुँच जायेगा।

पृथ्वी से चंद्रमा तक की यात्रा के सीधे रास्ते से चंद्रमा की वक्र कक्षा में इसे स्थापित करने की जटिल प्रक्रिया को सुबह 8.30 बजे से 9.30 बजे के बीच अंजाम दिया जायेगा। इसके लिए चंद्रमा के पास पहुँचने पर चंद्रयान के लिक्विड इंजन को चालू कर चंद्रयान की दिशा बदली जायेगी। आरंभ में इसे 118 किलोमीटर गुणा 18,078 किलोमीटर की कक्षा में स्थापित किया जायेगा।

इसके बाद 21 अगस्त, 28 अगस्त, 30 अगस्त और एक सितंबर को इसकी कक्षा में चार बार बदलाव किये जायेंगे। एक सितंबर को आखिरी बदलाव के बाद चंद्रयान 114 किलोमीटर गुणा 128 किलोमीटर की वक्र चंद्र कक्षा में पहुँच जायेगा।

चंद्रयान के तीन हिस्से हैं -ऑर्बिटर, विक्रम नाम का लैंडर और प्रज्ञान नाम का रोवर। विक्रम और उसके साथ जुड़ा रोवर 02 सितंबर को ऑर्बिटर से अलग हो जायेगा और 03 सितंबर को इनकी गति कम की जायेगी।

मिशन का सबसे महत्वपूर्ण दिन सात सितंबर को होगा जब लैंडर चंद्रमा की कक्षा से उसकी सतह की ओर उतरना शुरू करेगा और अंतत: चंद्रमा के दक्षिण ध्रुव के क्षेत्र में उतरेगा।

चंद्रमा पर उतरने के बाद रोवर भी विक्रम से अलग हो जायेगा और 500 मीटर के दायरे में घूम कर तस्वीरें अन्य जानकारी एकत्र करेगा।

यह मिशन इस मायने में महत्वपूर्ण है कि चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर आज तक कोई और देश नहीं पहुँच पाया है। वैज्ञानिकों के लिए यह क्षेत्र बिल्कुल अछूता रहा है और वहाँ से मिलने वाली जानकारी चंद्रमा के बारे में इंसानी समझ को सिरे से बदल भी सकती है। इस मिशन में काफी नयी जानकारियाँ मिलने की उम्मीद है।

अजीत.श्रवण

वार्ता

More News
मुकुल रॉय को 8 नवंबर तक गिरफ्तारी से राहत

मुकुल रॉय को 8 नवंबर तक गिरफ्तारी से राहत

17 Sep 2019 | 9:32 PM

कोलकाता, 17 सितंबर (वार्ता) कलकत्ता उच्च न्यायालय ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता मुकुल रॉय की गिरफ्तारी पर लगी रोक आठ नवंबर तक बढ़ा दी है।

see more..
झारखंड में खुलेगा जनजातीय विश्वविद्यालय : अर्जुन मुंडा

झारखंड में खुलेगा जनजातीय विश्वविद्यालय : अर्जुन मुंडा

17 Sep 2019 | 9:28 PM

खूंटी 17 सितंबर (वार्ता) केंद्रीय जनजातीय मामले मंत्री अर्जुन मुंडा ने आज कहा कि यदि झारखंड सरकार प्रस्ताव भेजे तो राज्य में जनजातीय विश्वविद्यालय खुलने का मार्ग आसान हाे जाएगा।

see more..
image