Wednesday, Aug 12 2020 | Time 03:41 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • लेबनान में सात हजार से अधिक लोग कोरोना से संक्रमित
  • यूएई में कोरोना के 262 नए मामले, अबतक 63 हजार लोग संक्रमित
  • कनाडा में कोरोना मामले 120,000 के पार
  • गोवा में बिजली उपभोक्ताओं को 18 3 करोड़ रुपये की मिलेगी छूट
लोकरुचि


मूंछे हो तो नत्थूलाल जैसी वरना न हों

मूंछे हो तो नत्थूलाल जैसी वरना न हों

जौनपुर, 06 नवम्बर (वार्ता) 90 के दशक की चर्चित हिन्दी फिल्म शराबी का मशहूर डायलाग ‘मूंछे हो तो नत्थूलाल जैसी वरना न हो’ ने यहां हजारों लोगों के चेहरों पर मुस्कान ला दी जब बदलापुर महोत्सव में इसी डायलाग पर आधारित अनूठी प्रतियोगिता में 18 से अधिक मूंछधारियों में हिस्सा लिया।

जिलाधिकारी दिनेश कुमार सिंह की पहल पर शानदार मूंछे रखने वालो की प्रतियोगिता कराया गया है। मंगलवार देर शाम आयोजित प्रतियोगिता को देखने भारी भीड़ उमड़ पड़ी थी। भीड़ में शामिल तमाम युवा शराबी फिल्म का डायलाॅग दोहराते रहे। इस प्रतियोगिता का खिताब पलईराम को मिला जबकि पीआरडी जवान ओमप्रकाश यादव ने दूसरा और पुलिस विभाग के सुभाष चंद्र मौर्या को तीसरा स्थान मिला। इसके अलावा चार मूंछ धारियों को सांत्वना पुरस्कार दिया गया।

श्री सिंह ने बताया कि समाज में हर तरह के लोग रहते है। इसी समाज में मुछ रखने वालो की अच्छी खासी तादात है। उनका सम्मान बढ़ाने के लिए यह कार्यक्रम आयोजित किया गया है ।

महोत्सव के आयोजक एवं बदलापुर के विधायक रमेश चंद मिश्र ने कहा कि मूंछ प्रतियोगिता में प्रथम स्थान पाने वाले को दस हजार रुपए , दूसरे स्थान पर रहने वाले को पाँच हजार रुपये और तीसरा स्थान पाने वाले को तीन हजार रुपये का नकद पुरस्कार दिया गया , साथ ही साथ चार मूंछ धारियों को एक-एक हजार रुपये का सान्त्वना पुरस्कार प्रदान किया गया ।

सं प्रदीप

वार्ता

More News
श्रीकृष्ण की ससुराल कुंडिनपुर को नहीं मिला पौराणिक महत्व

श्रीकृष्ण की ससुराल कुंडिनपुर को नहीं मिला पौराणिक महत्व

10 Aug 2020 | 12:34 PM

औरैया, 10 अगस्त (वार्ता) उत्तर प्रदेश का औरैया जिला जहां क्रांतिकारियों की भूमि के नाम से इतिहास में दर्ज है वही पौराणिक धरोहरों के साथ जिले के गांव कुदरकोट (पूर्व में कुंडिनपुर) का नाम भी इतिहास के पन्नो में दर्ज है। मान्यता है कि यहां भगवान श्रीकृष्ण की ससुराल है । यहां भगवान श्रीकृष्ण द्वारा रुकमिणी के हरण करने के प्रमाण भी मिलते हैं।

see more..
फिजां से गुम हो चुकी है बुंदेली लोकसंगीत की सुरमयी मिठास

फिजां से गुम हो चुकी है बुंदेली लोकसंगीत की सुरमयी मिठास

09 Aug 2020 | 8:19 PM

झांसी 09 अगस्त (वार्ता) पाश्चात्य संगीत के बढ़ते प्रभाव के चलते बुंदेलखंड की संस्कृति का पर्याय माने जाने वाली लाेकगायन की मिठास फिजां से लुप्त होती जा रही है।

see more..
कोरोना के चलते ‘कजली महोत्सव’ की सदियों पुरानी परंपरा इसबार टूट गई

कोरोना के चलते ‘कजली महोत्सव’ की सदियों पुरानी परंपरा इसबार टूट गई

04 Aug 2020 | 7:52 PM

महोबा, 04 अगस्त (वार्ता) वैश्विक महामारी कोरोना के दुष्प्रभाव के चलते उत्तर प्रदेश की वीरभूमि महोबा में ‘कजली महोत्सव’ की सदियों पुरानी परम्परा इसबार टूट गई।

see more..
अयोध्या में मंदिर के लिये बुधवार को भूमि पूजन तो मथुरा में होगा कृष्ण दर्शन

अयोध्या में मंदिर के लिये बुधवार को भूमि पूजन तो मथुरा में होगा कृष्ण दर्शन

03 Aug 2020 | 9:29 PM

मथुरा 03 अगस्त (वार्ता)-पांच अगस्त को जब मर्यादा पुरूषोत्तम श्री राम की जन्मभूमि अयोध्या में भूमि पूजन के समारोह से गुंजायमान हो रही होगी उसी समय मथुरा के श्रीकृष्ण जन्मस्थान स्थित केशवदेव मंदिर में भगवान केशवदेव राम रूप में भक्तों को दर्शन दे रहे होंगे।

see more..
रक्षाबंधन पर्व अछूता नही रह सका आधुनिकता के प्रभाव से: डा कुमुद दुबे

रक्षाबंधन पर्व अछूता नही रह सका आधुनिकता के प्रभाव से: डा कुमुद दुबे

03 Aug 2020 | 1:07 PM

प्रयागराज, 03 अगस्त (वार्ता) भारतीय संस्कृति की गौरवमयी परंपरा और भाई-बहन के प्रेम का प्रतीक रक्षाबंधन भी आधुनिकता के प्रभाव से अछूता नही रहा और परंपरागत राखियों के स्थान ने रेशम के चमकीले एवं चांदी और सोने के जरी युक्त राखियों ने ले लिया है।

see more..
image