Saturday, Jan 25 2020 | Time 18:22 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • अफगानिस्तान में सात तालिबानी आतंकवादी ढेर
  • भाजपा का गौरक्षा का नारा और दावा झूठाः हुड्डा
  • पाकिस्तान ने बंगलादेश से जीती टी-20 सीरीज
  • “हम सभी नागरिक हैं”: ममता
  • उत्तरी कमान के प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह को परम विशिष्ट सेवा पदक
  • बीएसएफ ने शुरू किया ऑपरेशन ‘सर्द हवाएं’
  • हिमाचल में दो बसों में टक्कर, 16 लोग घायल
  • महिला हॉकी टीम ने 4-0 की जीत से शुरू किया न्यूजीलैंड दौरा
  • महिला हॉकी टीम ने 4-0 की जीत से शुरू किया न्यूजीलैंड दौरा
  • भाजपा के कपिल मिश्रा के चुनाव प्रचार पर 48 घंटे की रोक
  • मारुति ने लाँच किया सियाज-एस
  • सीएए-एनआरसी के विरोध में वामदलों ने बनाई मानव-श्रृंखला
  • कांग्रेस ने की हिमाचल में 36 ब्लॉक अध्यक्षों की नियुक्ति
  • गणतंत्र दिवस पर होगा भारत केसरी दंगल
राज्य » उत्तर प्रदेश


मुजफ्फरनगर कचहेरी में 23 साल से धरना दे रहे विजय सिंह उठे

मुजफ्फरनगर कचहेरी में 23 साल से धरना दे रहे विजय सिंह उठे

मुजफ्फरनगर,18 सितम्बर (वार्ता) उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में सरकारी भूमि पर अवैध कब्जे हटाने की मांग को लेकर 23 साल से धरने पर मास्टर विजय सिंह बुधवार को जिलाधिकारी (डीएम) सेल्वा कुमारी जे के आदेश वहां से फिलहाल उठ गये और दूसरे स्थान की तलाश कर रहे हैं।

श्री सिंह कचहेरी धरनास्थल से उठकर शिवचौक पर गये । वहां उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि उन्होंने जिलाधिकारी के आदेश का सम्मान करते हुए कचहेरी परिसर से अपना धरना फिलहाल उठा लिया है, लेकिन समाप्त नहीं किया है। वह अवैध कब्जेदारों के खिलाफ आन्दोन जारी रखेंगे। उनका कहना है कि जिला प्रशासन की दलील थी कि जिस चौसाना गांव की सरकारी भूमि पर अवैध कब्जे को लेकर वह यहां धरने पर बैठे थे वह गांव शामली जिले में चला गया ।

उन्हाेंने कहा कि अवैध कब्जे को हटाने की मांग को लेकर उन्होंने 26 फरवरी 1996 से यहां कचहेरी परिसर में जिलाधिकारी कार्यलाय के सामने अपना धरना शुरु किया जा था जब वह मुजफ्फरनगर जिले का हिस्सा था। शामली जिला बनने पर चौसाना गांव उसी जिले का हिस्सा हो गया और यहां धरने का औचित्य नहीं हैं।

श्री सिंह ने कहा कि वह अब लखनऊ एवं दिल्ली जाकर मुख्यंत्री या प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आवास के आसपास धरने पर बैठेगें और जब तक उनकी मांग नहीं मानी जाती अपना आन्दोलन जारी रखेंगे। उनका कहना है कि उनके धरने के कारण सैंकडों एकड़ जमीन कब्जे से मुक्त हो गई लेकिन अभी काफी जमीन भू-माफियाओ के कब्जे में है। उन्होंने कहा कि वह धरने से उठे हैं उसे समाप्त नहीं किया है। अपना आन्दोलन और मजबूती के साथ चलायेंगे ।

गौरतलब है कि 26 फरवरी 1996 से मुजफ्फनगर कचहेरी परिसर में भू-माफियाओं के खिलाफ धरने पर बैठने के कारण मास्टर विजय सिंह का नाम लिम्काबुक में भी दर्ज हैं।

सं त्यागी

वार्ता

image