Wednesday, Dec 11 2019 | Time 16:45 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • वरिष्ठ फुटबॉल प्रशासक भाटिया को लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड
  • टोक्यो ओलंपिक में रूसी एथलीटों का विरोध करेंगे अमेरिकी
  • टोक्यो ओलंपिक में रूसी एथलीटों का विरोध करेंगे अमेरिकी
  • पूरे देश में शिक्षा प्रणाली एक जैसी हो: योगी
  • 250 नये स्टोर खोलेगी जेनेरिक दवा विक्रेता कंपनी मेडिकार्ट
  • गुजरात पाठ्य पुस्तक मंडल के गोदाम से 42 लाख के पुस्तक गायब
  • श्रीनगर हवाई अड्डे पर उड़ानें पांचवे दिन भी स्थगित
  • सरकार की नीतियों के विरुद्ध 14 दिसम्बर को कांग्रेस की रैली
  • वकीलों का पीआईसी में उत्पात: चार मरीजों की मौत
  • पीएसएलवी का मिशन-50, नौ सैटेलाइट का सफल प्रक्षेपण
  • पैंथर्स को मात देकर गुजरात पहले स्थान पर
  • पैंथर्स को मात देकर गुजरात पहले स्थान पर
  • अजमेर में भाषा शिक्षण पर तीन दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन शुरु
  • राजस्थान सरकार के सहरिया क्षेत्र में पांच प्रतिशत आरक्षण को मंजूरी सहित कई अह्म फैसले
  • संस्कृत विश्वविद्यालय विधेयक लोकसभा में पेश
राज्य » उत्तर प्रदेश


योगी सरकार कर सकती है आयु निर्धारण का फैसला : उच्च न्यायालय

योगी सरकार कर सकती है आयु निर्धारण का फैसला : उच्च न्यायालय

लखनऊ 16 नवम्बर (वार्ता) इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ ने राज्य लोक सेवा अधिकरण के अध्यक्ष , उपाध्यक्ष और सदस्यों के मामले में फैसला देते हुए कहा है कि राज्य सरकार इनकी सेवानिवृति आयु निर्धारित कर सकती है।

अदालत ने सरकार द्वारा चेयरमैन और सदस्यों की सेवानिवृति आयु घटाकर 65 व 62 किये जाने को उचित ठहराया है लेकिन सरकार के उस आदेश को खरिज कर दिया है जिसमे आयु घटाने का प्रभाव पूर्व वर्ती लागू किया था । कोर्ट ने पहले से काम कर रहे चेयरमैन व अन्य सदस्यों पर सरकार का सेवानिवृति आयु कम करने का आदेश कानून के खिलाफ मानते हुए निरस्त कर दिया है ।

अदालत के इस आदेश से वर्तमान में ट्रिब्यूनल में कार्य कर रहे चेयरमैन , वाइसचेयरमैन तथा सदस्य कार्य करते रहेंगे । न्यायमूर्ति पंकज कुमार जायसवाल व न्यायमूर्ति जसप्रीत सिंह की पीठ ने यह आदेश न्यायमूर्ति रहे वर्तमान में ट्रिब्यूनल के चेयरमैन सुधीर सक्सेना व अन्य की ओर से अधिवक्तता डॉक्टर एल पी मिश्रा व गौरव मेहरोत्रा तथा जयदीप नारायन माथुर द्वारा दायर याचिका को आंशिक स्वीकार करते हुए दिए है ।

याचिका दायर कर कहा गया कि ट्रिब्यूनल का चेयरमैन हाईकोर्ट से सेवानिवृत्त न्यायमूर्ति होंगे तथा अन्य सदस्य भी प्रशासनिक सेवा से सेवानिवृत्त ही होंगे । कहा गया कि एक्ट में प्रावधान है कि नियुक्ति से आगे 5 वर्ष तक और बाद में रिन्यूअल का प्रवधान है । बाद में सरकार ने चेयरमैन की सेवानिवृति आयु 70 से घटाकर 65 कर दी तथा वाइस चेयरमैन व सदस्यों की आयु 65 से कम करके 62 कर दी थी । साथ ही सरकार ने कहा कि यह आदेश पूर्ववर्ती प्रभाव का होगा । इससे वर्तमान मे कार्यरत लोग भी प्रभावित हो गए ।

अदालत ने फैसला देते हुए सरकार के आयु घटाने ने निर्णय को उचित ठहराया है । जो आगे होने वाली नियुक्तियों पर लागू होगा । अदालत ने सरकार के द्वारा पारित पूर्ववर्ती प्रभाव के आदेश को निरस्त कर दिया है ।

सं प्रदीप

वार्ता

More News
नागरिकता बिल के विरोध में कांग्रेस कार्यकर्ताओ ने किया प्रदर्शन

नागरिकता बिल के विरोध में कांग्रेस कार्यकर्ताओ ने किया प्रदर्शन

11 Dec 2019 | 4:24 PM

प्रयागराज,11 दिसम्बर (वार्ता) उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में नागरिकता संशोधन बिल का विरोध करते हुए कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया और विधेयक की प्रतियां जलाई।

see more..
भारत - रूप संयुक्त सैन्य युद्धाभ्यास बबीना में शुरू

भारत - रूप संयुक्त सैन्य युद्धाभ्यास बबीना में शुरू

11 Dec 2019 | 4:04 PM

लखनऊ, 11 दिसम्बर(वाता)भारत और रूस की सेनाओं के बीच द्विपक्षीय त्रिसेवाओं के द्वितीय संस्करण के सैन्य ‘युद्धाभ्यास- इन्द्र 2019’ का उद्घाटन समारोह बुधवार काे झांसी के पास बबीना में किया गया।

see more..
image