Sunday, Sep 20 2020 | Time 18:43 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • शिअद ने राष्ट्रपति से कृषि विधेयकों पर हस्ताक्षर न करने की अपील की
  • आनंदीबेन ने कृषि संबंधित विधेयकों के पारित होने का स्वागत किया
  • चावला ने हरभजन को पीछे छोड़ा
  • बिहार विधानसभा चुनाव में तीन चौथाई से अधिक सीट जीतेगा राजग : जदयू
  • फेक न्यूज का सच जानने में मदद करने वाला सर्च इंजन लांच
  • फेक न्यूज का सच जानने में मदद करने वाला सर्च इंजन लांच
  • ब्रावो चेन्नई के अगले मैच में भी रहेंगे अनुपलब्ध
  • विदेशी अभिदाय विनियमन (संशोधन) विधेयक लोकसभा में पेश
  • बिहार में कोविड-19 से 1555 संक्रमित, कुल पॉजिटिव 168542
  • इमरान को सत्ता से बेदखल करने को विपक्ष एकजुट
  • धोनी ने चेन्नई के लिए जीता 100वां मैच
  • आंध्र में कोरोना के सक्रिय मामलों में गिरावट जारी
  • “अल-कायदा आतंकवादी मुशरर्फ सीधा-साधा दिखता था”
  • लखनऊ में यातायात नियमों की अनदेखी करने वाले 1618 लोगों का चालान
  • राज्यसभा में हुए हंगामे के मद्देनजर लोकसभा की कार्यवाही बाधित
राज्य » उत्तर प्रदेश


यू पी टीईटी 2017 का परिणाम दो माह में घोषित करें-उच्च न्यायालय

लखनऊ, 21 नवम्बर (वार्ता) इलाहाबाद उच्य न्यायालय की लखनऊ खंड पीठ ने वर्ष 2017 में उत्तर प्रदेश में हुयी यू पी टीईटी परीक्षा का परिणाम दो माह में घोषित करने के निर्देश परीक्षा नियामक प्राधिकारी को दिये हैं ।
अदालत ने इसके दो माह बाद सहायक शिक्षक भर्ती परीक्षा, 2018 कराने के आदेश भी दिए है। पीठ ने राज्य सरकार की विशेष अपील को मंजूर करते हुए दिए है ।
न्यायमूर्ति पंकज कुमार जायसवाल और न्यायमूर्ति इरशाद अली की खंडपीठ ने राज्य सरकार के बेसिक शिक्षा विभाग की तरफ से दायर विशेष अपील को मंजूर करते हुए आज यह अहम फैसला सुनाया। इसमें,एकल न्यायाधीश के 6 मार्च 2018 के उस आदेश को चुनौती दी गई थी, जिसमें टीईटी के 14 सवालों का परिणाम रद्द कर इनको हटाकर सभी कापियों को नए सिरे से जांचने के बाद परिणाम घोषित करने के निर्देश दिए थे। साथ ही सहायक शिक्षक भर्ती परीक्षा 2018 को अगली किसी तारीख तक बढ़ा दिया था।
खंडपीठ ने एकल पीठ के इस आदेश को खारिज कर दिया है । न्यायालय ने राज्य सरकार के सचिव बेसिक शिक्षा की ओर से विशेष अपील दायर कर एकल पीठ के आदेश को चुनौती दी थी ।
राज्य सरकार की ओर से महाधिवक्ता राघवेन्द्र सिंह ने बहस की थी । कहा गया था कि एकल पीठ का आदेश न्यायोचित नहीं है । इस आदेश को खारिज करने की मांग विशेष अपील में की थी । अदालत ने सरकार की ओर से दायर इस विशेष अपील को मंजूर करते हुए यह आदेश दिया है ।
सं त्यागी
वार्ता
image