Tuesday, Dec 6 2022 | Time 08:40 Hrs(IST)
image
भारत


रक्त बहने से होने वाली मौत रोकने की दवा ईजाद

नयी दिल्ली, 12 मार्च (वार्ता) वैज्ञानिकों ने करीब नौ वर्षों के शोध के बाद ऐसी दवाइयों को ईजाद किया है जिससे अत्यधिक मात्रा में रक्त बह जाने से होने वाली मौत की रोकथाम में सहायक होंगी।
ये दवायें दुर्घटना, गर्भावस्था, आपरेशन आदि के समय अधिक मात्रा में रक्त निकल जाने से होने वाली मृत्यु को रोकने में मदद करेंगी।
फारमाज़ इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के 'फारमाज इन्वेस्टिगेटर्स मीटिंग' का आयोजन किया जिसका मुख्य उद्देश्य उन दवाओं की शोध की जानकारी देनी था जिनके माध्यम से ऐसी दवाओं का निर्माण हो रहा है। ये दवायें क्लिनिकल ट्रायल तक पहुंच गयी हैं और उम्मीद है कि जल्द ही ये दवाइयां सर्वप्रथम देश के चिकित्सकों को उपलब्ध होंगी और लाखों जानें बचाने में सहायक होंगी| रविवार को हुई बैठक में करीब 70 चिकित्सकों ने भाग लिया जिनमें कुछ अमेरिका के भी हैं। इसमें शोध से संबंधित अनेक पहलुओं पर चर्चा की गयी जिसकी बारीकियों को भागीदारों ने समझा।
कंपनी के संस्थापक एवं निदेशक डॉ. प्रो. अनिल गुलाटी ने मंगलवार को यहां बताया कि इन दवाइयों का क्लिनिकल ट्रायल भारत में 25 प्रमुख चिकित्सा संस्थानों में चल रहा है जिनकी निगरानी 20 क्लिनिकल विशेषज्ञ कर रहे हैं।
उन्होंने कहा, “हमें पूरी उम्मीद है की ये दवाइयां लाखों लोगों की भारत में जान बचने में समर्थ होंगी और यह एक ‘थेराप्यूटिक रेवोलुशन’ होगा|
उन्होंने कहा कि अक्सर सुना जाता है कि कार या मोटरसाइकिल दुर्घटना में घायल व्यक्ति की अधिक रक्त बह जाने के कारण मौत हो जाती है। एक अनुमान के अनुसार देश में लगभग प्रतिवर्ष साढ़े छह लाख लोगों की सड़क दुर्घटनाओं में मौत हो जाती है। प्रसव के बाद अत्यधिक रक्तस्राव से करीब एक लाख महिलाआें की मौत हो जाती है। एक अनुमान के अनुसार देश में प्रति वर्ष करीब आठ लोगों की मौत अत्यधिक रक्तस्राव के कारण हो जाती है।
श्रवण मिश्रा
वार्ता
More News
सत्येंद्र जैन के मामले में जांच अधिकारी को नोटिस जारी

सत्येंद्र जैन के मामले में जांच अधिकारी को नोटिस जारी

05 Dec 2022 | 11:12 PM

नयी दिल्ली 05 दिसंबर (वार्ता) दिल्ली की एक अदालत ने सोमवार को केजरीवाल सरकार में स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन के मामले में जांच अधिकारी को नोटिस जारी किया।

see more..
दान का स्वागत है, लेकिन यह धर्मांतरण के लिए नहीं हो सकता : सुप्रीम कोर्ट

दान का स्वागत है, लेकिन यह धर्मांतरण के लिए नहीं हो सकता : सुप्रीम कोर्ट

05 Dec 2022 | 11:07 PM

नयी दिल्ली 05 दिसंबर (वार्ता) उच्चतम न्यायालय ने सोमवार को कहा कि धर्म की स्वतंत्रता में जबरन धर्मांतरण शामिल नहीं है और किसी भी दान का स्वागत है, लेकिन यह धर्मांतरण के उद्देश्य से नहीं हो सकता है।

see more..
image