Wednesday, Jun 19 2019 | Time 06:50 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • ईरान के मुद्दे पर सहयोगियों के साथ मिलकर काम करेगा अमेरिका: पोम्पियो
  • मार्क एस्पर होंगे अमेरिका के नए कार्यकारी रक्षा मंत्री
  • झारखंड में होगी केवल एक जल योजना : रघुवर
  • केरल माकपा प्रमुख के बेटे पर दुष्कर्म का मामला दर्ज
  • किसानों को प्रति बूंद अधिक फसल योजना का लाभ देने में झारखंड अव्वल
लोकरुचि


राधारमण मंदिर में खूब बही श्रद्धा,भक्ति और संगीत की त्रिवेणी

राधारमण मंदिर में खूब बही श्रद्धा,भक्ति और संगीत की त्रिवेणी

मथुरा, 18 मई (वार्ता) वृन्दावन के सप्त देवालयों में प्राचीन राधारमण मंदिर में शनिवार को श्रद्धा, भक्ति एवं संगीत की त्रिवेणी उस समय प्रवाहित होती रही जब मंदिर के मुख्य विग्रह का दूध, दही, बूरा, शहद, घी, औषधियों, वनौषधियों एवं महाऔषधियों से तीन घंटे से अधिक समय तक अभिषेक किया गया।

मंदिर के मुख्य विगृह का आज प्राकट्योत्सव था तथा इसके लिए पहले मंदिर के सेवायत यमुना तट पर जाकर वहां से यमुनाजल लाकर अभिषेक कार्यक्रम की शुरूआत की। अभिषेक के दौरान देशी विदेशी भक्तों द्वारा अनवरत रूप से जहां हरिनाम संकीर्तन किया गया वहीं मंदिर का जगमोहन वैदिक मंत्रों की मधुर घ्वनि से गुंजायमान होता रहा।

मंदिर के सेवायत आचार्य दिनेश चन्द्र गोस्वामी ने बताया कि अभिषेक कार्यक्रम समाप्त होने के बाद मुख्य विगृह के काजल लगाना, यज्ञोपवीत धारण कराना,राई लोन उतारना आदि कार्यक्रम उसी प्रकार सम्पन्न हुए जिस प्रकार एक नवजात शिशु के जन्म पर किये जाते हैं।

इस कार्यक्रम का जहां वह अंश महत्वपूर्ण था जिसमें अभिषेक के बाद गोस्वामीगणों ने वात्सल्य भाव से नन्दबाबा के रूप में कान्हा को दीर्घ आयु का आशीर्वाद दिया वहीं वह अंश भी अति महत्वपूर्ण था जहां श्रंगार के बाद गोस्वामियों ने दास्य भाव से ठाकुर से प्रार्थना की कि उनके चरणों में उनकी यानी गोस्वामियों की अनवरत भक्ति बनी रहे।

उन्होंने बताया कि राधारमण मंदिर का मुख्य श्री विगृह स्वयं प्राकट्य होने के कारण चमत्कारी है। नेपाल की गंडकी नदी में स्नान के दौरान गोपाल भट्ट गोस्वामी को यह मूल विगृह आकाशवाणी होने के बाद प्राप्त हुआ था। चैतन्य महाप्रभु साक्षात राधारमण महराज हैं जिसके अंतःकरण में कृष्ण और वाह्य परिकर में राधारानी विराजमान हैं।

गोस्वामी दिनेशचन्द्र के अनुसार लाला को गर्मी न लगे इसलिए राजभोग आरती घी की बत्ती की जगह फूलों से की गई तथा दूसरे चरण की सेवा में ठाकुर के लिए भव्य फूल बंगला बनाकर 56 भोग ठाकुर को अर्पित किया गया था। आज ठाकुर को तिल एवं गुड़ का विशेष भोग वर्ष में एक बार ही लगाया गया।

सेवा के दोनो ही चरणों में ठाकुर ने जगमोहन में विराजमान होकर भक्तों को जहां दर्शन दिया वहीं मंदिर में दिन भर भक्ति रस की गंगा में हजारों भक्तों ने अवगाहन किया।

सं प्रदीप

वार्ता

More News
राधारमण मंदिर में श्रद्धा, भक्ति एवं संगीत की त्रिवेणी

राधारमण मंदिर में श्रद्धा, भक्ति एवं संगीत की त्रिवेणी

16 Jun 2019 | 4:37 PM

मथुरा, 16 जून (वार्ता) वृन्दावन के सप्त देवालयों में मशहूर प्राचीन राधारमण मंदिर में दिव्य ग्रीष्मकालीन निकुंज सेवा में श्रद्धा, भक्ति एवं संगीत की त्रिवेणी बह रही है।

see more..
असीम संभावानाओं वाला पचनद स्थल उपेक्षा का है शिकार

असीम संभावानाओं वाला पचनद स्थल उपेक्षा का है शिकार

15 Jun 2019 | 11:38 PM

जालौन 15 जून (वार्ता) उत्तर प्रदेश की सूखाग्रस्त बुंदेलखंड की धरती पर जालौन जिला मुख्यालय से महज 55 किलोमीटर की दूरी पर हरे भरे जंगलों और ग्रामीण अंचल के बीच एक ऐसा मनोहारी दर्शनीय स्थल मौजूद है जो एकबार बुंदेलखंड में होने का एहसास ही भुला देता है और वह स्थान है पांच नदियों के संगम से बना “ पचनद स्थल ” ।

see more..
निखिल संग परिणय सूत्र में बंधने जा रही नुसरत

निखिल संग परिणय सूत्र में बंधने जा रही नुसरत

14 Jun 2019 | 6:37 PM

कोलकाता 14 जून (वार्ता ) तृणमूल कांग्रेस सांसद एवं लोकप्रिय बंगाली अभिनेत्री नुसरत जहां शीघ्र ही बिजनेसमैन निखिल जैन के साथ परिणयसूत्र में आबद्ध होने जा रही हैं।

see more..
‘धोपाप’ में श्रीराम को मिली थी ब्रह्मदोष से मुक्ति

‘धोपाप’ में श्रीराम को मिली थी ब्रह्मदोष से मुक्ति

11 Jun 2019 | 12:03 PM

सुलतानपुर, 11 जून (वार्ता) उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर जिले में आदिगंगा गोमती के तट पर स्थित तीर्थ स्थल ‘धोपाप’ के बारे में मान्यता है कि लंका में रावण का वध करने के बाद श्रीराम ने इसी स्थान पर गंगा में डुबकी लगायी थी और उन्हे ब्रह्मदोष से मुक्ति मिली थी।

see more..
मथुरा में 11 जून से होगी निकुंज महोत्सव की शुरूआत

मथुरा में 11 जून से होगी निकुंज महोत्सव की शुरूआत

09 Jun 2019 | 1:15 PM

मथुरा, 09 जून (वार्ता) वृन्दावन के सप्त देवालयों में 11 जून से ग्रीष्मकालीन निकुंज सेवा महोत्सव की शुरूआत होगी। इस दौरान विभिन्न धार्मिक अनुष्ठानों एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे।

see more..
image