Tuesday, Jul 16 2019 | Time 13:40 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • मुुंबई में इमारत गिरी, 40 से अधिक लोगों के फंसे होने की आशंका
  • पलायन करने वाले मजदूरो के लिए कानून बनाने पर सरकार बनाए कानून- महंत
  • मुंबई में चारमंजिला इमारत गिरी, 40 से अधिक लोगों के फंसे होने की आशंका
  • वाहनों की खुदरा बिक्री 5 4 प्रतिशत घटी
  • बाक्सिंग लीजेंड पेर्नेल की कार दुर्घटना में मौत
  • सरकार गिरने के भय से अध्यक्ष इस्तीफा स्वीकार नहीं कर रहे: याचिकाकर्ता
  • छत्तीसगढ़ में 24 करोड़ खर्च करने के बाद भी होटल प्रबंध संस्थान नही हो सका है शुरू
  • ‘जीरो बजट खेती’ का उद्देश्य किसानों की आय बढ़ाना : रूपाला
  • दिल्ली में सुबह का मौसम सुहाना
  • चीन द्वारा घुसपैठ के मुद्दे पर कांग्रेस का लोकसभा से बहिर्गमन
  • मोदी ने ‘गुरु पूर्णिमा’ पर गुरुओं के प्रति श्रद्धा जतायी
  • मार्क एस्पर अमेरिका के नया रक्षा मंत्री मनोनीत
  • डाक विभाग की परीक्षा रद्द करने की मांग को लेकर राज्यसभा में कागज फाड़े गये
  • हंगामें के कारण राज्यसभा की कार्यवाही दो बजे तक स्थगित
राज्य


रूपाणी ने खनन सेक्टर को उद्योग का दर्जा देने की घोषणा की

गांधीनगर, 20 जून (वार्ता) गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने गुरूवार को खनन (खान-खनिज) सेक्टर को उद्योग का दर्जा देने की घोषणा की है।
श्री रूपाणी ने कहा कि उद्योग एवं खान विभाग द्वारा 09 जनवरी 2019 के प्रस्ताव से प्रॉसेसिंग ऑफ माइनिंग एक्टिविटी को उद्योग का दर्जा पूर्व में दिया गया है। परंतु माइनिग इंडस्ट्रीज के साथ जुड़े औद्योगिक जगत के अग्रणी उत्पादकों द्वारा समग्र खनन सेक्टर को उद्योग का दर्जा देने की मांग को ध्यान में रखते हुए यह फैसला लिया गया है।
राज्य में माइनिंग सेक्टर (खनिज) प्रवृत्ति और उसके साथ संलग्न उद्योगों को अब इस निर्णय के चलते जमीन राजस्व धारा के अंतर्गत लेने की 66 एए और 65 बी जैसी मंजूरियां सरलता से प्राप्त हो सकेंगी। खनन प्रवृत्ति मूलभूत रूप से जमीन के बिन खेती उपयोग के साथ संलग्न होने के कारण जमीन राजस्व कानून के तहत भी उद्योगपतियों को वास्तव में औद्योगिक उद्देश्य ना होने से बिन खेती अनुमति प्राप्त करने में मुश्किल का सामना करना पड़ता था। इसका निवारण हो जाने से अब माइनिंग क्षेत्र का औद्योगिक विकास तेजी से हो सकेगा। समग्र प्रक्रिया का सरलीकरण होने से खनिज क्षेत्र के ब्लॉक्स तेजी से कार्यान्वित होंगे और राज्य सरकार को रॉयल्टी के स्वरूप में आय भी प्राप्त होगी। जमीन की सरल उपलब्धता होने से इस क्षेत्र में व्यापक निवेश और उत्पादकीय प्रवृत्ति को गति मिलेगी और रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे। साथ ही उद्योगों को मिलनेपात्र ऋण-सहायता या अन्य योजनागत लाभ भी अब माइनिंग सेक्टर में मिल सकेंगे।
अनिल राम
वार्ता
image