Tuesday, Jul 7 2020 | Time 12:52 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • विभाग बंटवारे को लेकर आज और होगा 'वर्कआउट' - शिवराज
  • बारामूला में सुरक्षा बलों के शिविर पर ग्रेनेड हमला
  • एनएलएफटी के तीन उग्रवादियों को तीन दिन की न्यायिक हिरासत
  • पुलवामा में मुठभेड़, जवान शहीद, आतंकवादी ढेर
  • एम्स की नर्स को शादी का झांसा देकर लाखों की ठगी करने वाला गिरफ्तार
  • डीजल फिर महँगा
  • हांगकांग के बाजार से बाहर होगा टिकटॉक
  • सारण में युवक का शव बरामद
  • प्रतिबंधों से हुए नुकसान की भरपाई करे अमेरिका: ईरान
  • विश्व में कोरोना से 1 15 करोड़ से अधिक लोग संक्रमित, 5 37 लाख की मौत
  • अमेरिका में भी लग सकता है चीन के सोशल मीडिया ऐप पर प्रतिबंध
  • दक्षिण के तीन राज्यों में तेजी से बढ़ रहे कोरोना के मामले
  • देश में कोरोना संक्रमण के नये मामलों में कमी, मृतकों की संख्या 20 हजार के पार
  • भदोही मुठभेड़ में 50 हजार का इनामी बदमाश दीपक ढेर
लोकरुचि


लाकडाउन ने नट समुदाय को समझाया जड़ का महत्व

लाकडाउन ने नट समुदाय को समझाया जड़ का महत्व

मुरादाबाद 26 मई (वार्ता) वैश्विक महामारी कोविड-19 के कारण जारी लाकडाउन ने लोगों के जीने के अंदाज को बदल दिया है और इसमें नट समुदाय भी अछूता नहीं है।

हिन्दू रीतरिवाज के अनुसार सभी मांगलिक कार्यक्रम सम्पन्न करने वाले नट सिर्फ अंतिम संस्कार की प्रक्रिया शव की चिता सजाने के बजाय दफना कर पूरी करते रहे हैं लेकिन लाकडाउन के बाद जब दुनिया के अधिकांश देश सोशल डिस्टेसिंग का पालन करते हुये भारतीय परंपरा के अनुसार अभिवादन करने लगे तो इस समुदाय को अपनी संस्कृति का पूर्णत: पालन करने की हूक उठी और उन्होने हिन्दू तौर तरीकों के अनुरूप शवों के दाह संस्कार का फैसला लिया है।

मुरादाबाद जिले से लगभग 15 किमी दूर छजलैट ब्लॉक के गांव सलावा में करीब 200 नट समुदाय के परिवार रहते हैं। धार्मिक महत्व के सभी तीज त्यौहारों, विवाह संस्कार से लेकर अन्य सभी रीति रिवाजों को हिंदू परंपराओं के अनुसार मानने वाले नट समुदाय में केवल शवों के दाह संस्कार की जगह दफनाने का रिवाज चला आ रहा था। ग्राम सभा द्वारा आवंटित डेढ़ बीघा जमीन पर बने नियत स्थान पर शवों को दफनाया जाता था।

समाज का यह वर्ग परंपरागत रूप से कलाबाजी और सर्कस के समानांतर, लोकगीतों के मनोरंजन के साथ भैंस-भैंसों पर गाने बजाने के यंत्रों को लादकर गांव गांव घूमने में यायावरी जीवन व्यतीत करता हैं। खासतौर से खेती कार्यों से ठलवार के बरसात के मौसम में यहां-वहां घूम-फिरकर तमाशा दिखाने के बाद ,फिर वापस गांव लौटते ,लगभग पूरे साल भर यही सिलसिला जारी रहता है।

सामाजिक कार्यकर्ता राजिन्दर चौधरी कहते हैं कि लॉकडाउन नट समुदाय की जिंदगी में एक अवसर और वरदान दोनों साथ लाया है। हो भी क्यों न, ग्रामवासियों के लिए पहली बार इतने लंबे समय तक गांव में एक साथ ठहरने का अवसर प्राप्त हुआ हैं। देश-दुनिया की खबरों में सोशल डिसटैंसिग के चलते हाथ मिलाने के स्थान पर हाथ जोड़ कर अभिवादन करने तथा दुनिया के अनेकों देशों में शवों को दफनाने के स्थान पर दाह संस्कार करने की भारतीय पंरपराओं के बारे में अरसे बाद चाहकर भी दाह संस्कार न कर पाने की टीस ने नट समुदाय को अंदर तक हिला दिया।

इस वेदना को उन्होंने गांववालों के समक्ष रखा तो इस मुद्दे पर सभी का साथ मिला, तय हुआ कि वह अपनी जड़ों को लौटेंगे, अब दफनाएंगे नहीं, दाह संस्कार की मूल परंपरा को अपनाएंगे। जागरूक ग्राम प्रधान सरोज देवी रंधावा ने नटों की वेदना को समझा और समझने के बाद सोशल डिस्टेसिंग का ख्याल रखते हुए लॉकडाउन के दौरान गांव में इस मुद्दे पर पंचायत बैठाई। नटों के इस मुद्दे पर नटों के अलावा जाट और विश्नोई समाज के लोग भी पंचायत का हिस्सा बने।

चौधरी ने बताया कि पंचायत में सभी की सहमति से तय हुआ कि अब नट समुदाय भी गांव के एकमात्र सामुदायिक श्मशान घाट पर शवों का दाह संस्कार करेंगे। इस तरह कोरोना और लॉकडाउन ने गांव के इतिहास में नया अध्याय दर्ज कर दिया। पंचायत के ऐतिहासिक फैसले से सलावा ही नहीं आसपास के गांव भी खुश हैं। इस तरह लाकडाउन के ठहराव ने दाह संस्कार का अधिकार देकर नट समुदाय को मुख्यधारा में लौटने का अवसर प्रदान किया है। किन्हीं परिस्थितिवश अपनी मूल परंपराओं से कटे समाज के लिए कोरोना संक्रमण का लाकडाउन वरदान साबित हुआ।

सं प्रदीप

वार्ता


 

More News
सावन के पहले सोमवार पर भक्तों ने भगवान शिव का किया दर्शन-पूजन

सावन के पहले सोमवार पर भक्तों ने भगवान शिव का किया दर्शन-पूजन

06 Jul 2020 | 5:51 PM

लखनऊ, 06 जुलाई(वार्ता)उत्तर प्रदेश में सावन के पहले सोमवार को श्रद्धालुओं ने कोराना वायरस के संक्रमण के कारण सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए भगवान शिव का दर्शन-पूजन किया।

see more..
असफलताओं से आप ज्यादा सीखते हैं: अनुपम खेर

असफलताओं से आप ज्यादा सीखते हैं: अनुपम खेर

06 Jul 2020 | 3:49 PM

सोलन, 06 जुलाई (वार्ता) अभिनेता अनुपम खेर ने आज यहां कहा कि असफलताएं जीवन का हिस्सा हैं और इनसे डरना नहीं चाहिए क्योंकि सफलताओं के मुकाबले असफलताएं ज्यादा सिखा जाती हैं।

see more..
बंदियों द्वारा तैयार वस्त्रों की बिक्री होगी अब जेल परिसर से

बंदियों द्वारा तैयार वस्त्रों की बिक्री होगी अब जेल परिसर से

05 Jul 2020 | 9:53 PM

सागर, 05 जुलाई (वार्ता) मध्यप्रदेश के सागर केंद्रीय जेल में बंदियों द्वारा हाथकरघा की मदद से तैयार किए गए वस्त्रों की बिक्री अब 'रिटेल आउटलेट' से होगी।

see more..
मथुरा के द्वारकाधीश मंदिर में नहीं होगा सावन झूला

मथुरा के द्वारकाधीश मंदिर में नहीं होगा सावन झूला

05 Jul 2020 | 3:39 PM

मधुरा, 05 जुलाई (वार्ता) कोरोना वायरस के कारण सावन की अदभुत छटा के साथ मशहूर भारत विख्यात द्वारकाधीश मंदिर में श्रद्धालु इस बार सावन में सोने चांदी के विशालकाय झूले में ठाकुर के झूलन का मनोहारी दृश्य नहीं देख सकेंगे।

see more..
भूजलसंरक्षण के लिए आगे आये समुदाय : उमाशंकर

भूजलसंरक्षण के लिए आगे आये समुदाय : उमाशंकर

04 Jul 2020 | 7:06 PM

झांसी 04 जून (वार्ता) बुंदेलखंड के सूखे की समस्या एक ऐसी समस्या है जिससे आजादी के बाद की हर सरकार जूझती आयी है और सभी ने इस क्षेत्र को पानीदार बनाने के लिए गंभीर प्रयास किये लेकिन इसके बावजूद आजादी के 70 साल बाद भी यह समस्या ज्यों की त्यों ही बनी हुई है ।

see more..
image