Friday, Oct 23 2020 | Time 08:16 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • ब्राजील में कोरोना से मरने वालों की संख्या 155900 हुई
  • चीन में कोरोना के 18 नए मामले सामने आए
  • द कोरिया में कोरोना के 155 नए मामले, कुल संक्रमित 25698
  • रीकजेंस रिड्ज में महसूस किए गए भूकंप के तेज झटके
  • कनाडा गोलीबारी की जांच 2022 के अंत तक होगी पूरी
  • एस्पर और इजरायल के रक्षा मंत्री के बीच पश्चिम एशिया पर चर्चा हुई
  • फ्रांस में एक दिन में कोरोना के 41000 से ज्यादा नए मामले
  • महाराष्ट्र के जलगांव में युवक ने आत्महत्या की
  • मोरक्को में कोरोना के रिकॉर्ड 4151 मामलों की पुष्टि
  • लेबनान में एक दिन में कोरोना से रिकॉर्ड 16 लोगों की मौत
भारत


लोन मोरेटोरियम मसले पर जल्द कोई योजना लाये केन्द्र: सुप्रीम कोर्ट

लोन मोरेटोरियम मसले पर जल्द कोई योजना लाये केन्द्र: सुप्रीम कोर्ट

नयी दिल्ली, 28 सितंबर (वार्ता) उच्चतम न्यायालय ने केन्द्र सरकार को लोन मोरेटोरियम के बारे में अपनी योजना जल्द प्रस्तुत करने का निर्देश देते हुए इस मामले की सुनवाई की तिथि पांच अक्टूबर निर्धारित की है।

सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने तीन न्यायाधीशों की पीठ से कहा कि केन्द्र सरकार ने लोन मोरेटोरियम की अवधि बढ़ाने, मोरेटोरियम अवधि के ब्याज आदि मुद्दों पर विचार के लिए एक उच्च स्तरीय समिति गठित की है। इस समिति ने अपनी रिपोर्ट देने के लिए कुछ और समय की मांग की है। पीठ में न्यायमूर्ति अशोक भूषण, न्यायमूर्ति आर सुभाष रेड्डी और एम आर शाह हैं।

इस मामले की 10 सितम्बर को हुई सुनवाई के दौरान उच्चतम न्यायालय ने केन्द्र को मोरेटोरियम मुद्दे पर एक योजना के साथ आने के लिए दो सप्ताह का वक्त दिया था। गौरतलब है कि कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए लगाये गये लॉकडाउन को देखते हुए भारतीय रिजर्व बैंक ने 27 मार्च को सभी बैंकों को एक मार्च से 31 मई तक कर्ज की किश्तें अदा करने में छूट देने की अनुमति दी थी।

रिजर्व बैंक ने इसके बाद छूट की यह अवधि 31 अगस्त तक बढ़ा दी थी। इसके बाद केन्द्र सरकार ने कहा था कि यह लोन मोरेटोरियम की अवधि दो वर्ष तक बढ़ायी जा सकती हैै। इस पर शीर्ष अदालत ने केन्द्र सरकार से अपना रुख स्पष्ट करने को कहा था।

श्री मेहता ने शीर्ष अदालत से कहा कि केन्द्र सरकार ने इस मुद्दे को बहुत गंभीरता से लिया है और सरकारी नीति निर्धारण से जुड़े सर्वोच्च स्तर पर इस मसले पर विचार किया जा रहा है। आगरा के गजेन्द्र शर्मा की उस याचिका पर उच्चतम न्यायालय सुनवाई कर रहा है जिसमें लोन मोरेटोरियम की अवधि में ब्याज न लेने का निर्देश देने की गुहार की गयी है। याचिका में कहा गया है कि कोरोना वायरस के कारण लोगों की आय और व्यवसाय पर बुरा असर पड़ा है।

पीठ ने कहा, “ इस मसले पर सरकार सक्रियता के साथ विचार कर रही है और दो या तीन दिनों में इस पर कोई निर्णय हो जाने की उम्मीद है।”

याचिकाकर्ता ने अदालत से इस मसले पर कोई अंतरिम आदेश जारी करने का आग्रह किया जिसे शीर्ष अदालत ने स्वीकार नहीं किया। अदालत ने साॅलिसिटर जनरल से कहा कि वह एक अक्टूबर तक इस बारे में एक नीति लेकर आयें जिससे सभी लोग इसका अध्ययन कर सकें। उच्चतम न्यायालय ने स्पष्ट किया कि वह इस मसले पर सुनवाई की तिथि आगे बढ़ाने के पक्ष में नहीं है।

श्रवण जितेन्द्र

वार्ता

More News
कोरोना मामले साढ़े 77 लाख के पार,सक्रिय मामले 6.96 लाख

कोरोना मामले साढ़े 77 लाख के पार,सक्रिय मामले 6.96 लाख

22 Oct 2020 | 10:27 PM

नयी दिल्ली, 22 अक्टूबर (वार्ता) देश में कोरोना संक्रमण के मामले साढ़े 77 लाख के पार हो गये हैं और इस दौरान कोरोना के सक्रिय मामलों की संख्या घटकर अब 6.96 लाख के करीब पहुंच गई है।

see more..
निशंक ने एनआईटी वारंगल के नए भवनों का किया शिलान्यास

निशंक ने एनआईटी वारंगल के नए भवनों का किया शिलान्यास

22 Oct 2020 | 10:19 PM

नयी दिल्ली, 21 सितंबर (वार्ता) केंद्रीय शिक्षा मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने गुरुवार को एक ऑनलाइन कार्यक्रम के माध्यम से इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी (एनआईटी) वारंगल के 18वें दीक्षांत समारोह को संबोधित किया और एक महिला हॉस्टल सहित चार भवनों का शिलान्यास किया।

see more..
नौसेना प्रमुख ने संचालन तैयारियों की समीक्षा की

नौसेना प्रमुख ने संचालन तैयारियों की समीक्षा की

22 Oct 2020 | 10:04 PM

नयी दिल्ली 22 अक्टूबर (वार्ता) नौसेना प्रमुख एडमिरल कर्मबीर सिंह ने आज पश्चिमी नौसेना कमान में कारवार नौसैनिक अड्डे पर नौसेना की संचालन तथा युद्धक तैयारियों की समीक्षा की।

see more..
दिल्ली में कोरोना के सक्रिय मामले 25000 के पार

दिल्ली में कोरोना के सक्रिय मामले 25000 के पार

22 Oct 2020 | 8:55 PM

नयी दिल्ली 22 अक्टूबर (वार्ता) राजधानी दिल्ली में गुरुवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 3,882 नये मामले सामने से संक्रमितों की कुल संख्या 3.44 लाख के पार पहुंच गयी लेकिन चिंता की बात यह है कि इस दौरान मरीजों के स्वस्थ होने की दर में कमी दर्ज की गयी है जिससे सक्रिय मामलों में वृद्धि हुई है।

see more..
image