Tuesday, Jan 21 2020 | Time 13:27 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सचिन, वॉल्श बुशफायर राहत मैच में करेंगे कोचिंग
  • सचिन, वॉल्श बुशफायर राहत मैच में करेंगे कोचिंग
  • रेल संरक्षा आयुक्त ने की ट्रेन दुर्घटना की जांच
  • चार किलोग्राम अफीम सहित तीन तस्कर गिरफ्तार
  • अयोध्या विवाद: पीस पार्टी ने दायर की क्यूरेटिव याचिका
  • हरमूज जलडमरूमध्य में एंटी पायरेसी यूनिट भेजेगा द कोरिया
  • एजीआर भुगतान को लेकर दूरसंचार कंपनियों की अर्जी पर विचार को तैयार सुप्रीम कोर्ट
  • पत्नी पति एवं भाई भाई के सामने लड़ रहे हैं चुनाव
  • अयोध्या विवाद: पीस पार्टी ने सुप्रीम कोर्ट में दायर की क्यूरेटिव पिटीशन
  • इम्तियाज अली ने की सारा खान की तारीफ
  • इम्तियाज अली ने की सारा खान की तारीफ
  • इम्तियाज अली ने की सारा खान की तारीफ
  • अमरेली में तेंदुए ने हमला करके बच्ची को किया घायल
  • पत्नी की हत्या कर पति ने की आत्महत्या
  • चैंपियन ऑफ चेंज अवॉर्ड से सम्मानित की गयी शिल्पा शेट्टी
राज्य » बिहार / झारखण्ड


विकास का इंतजार कर रहा रढुआ धाम

विकास का इंतजार कर रहा रढुआ धाम

औरंगाबाद 12 नवंबर (वार्ता) बिहार के औरंगाबाद जिले में ऐतिहासिक, पौराणिक और धार्मिक महत्व के रढुआ धाम को आज भी विकास का इंतजार है।

जिले के जम्होर पंचायत में बटाने और पुनपुन नदी के संगम स्थल पर स्थित इस धाम की काफी धार्मिक मान्यता है। धार्मिक और लोक मान्यताओं के अनुसार, भगवान विष्णु कभी यहां प्रकट हुए थे और उन्होंने एक तपस्विनी पुनिया को आशीर्वाद दिया था जिसके फलस्वरूप वह धरती पर पुनपुन नदी के रूप में प्रवाहित हुई। पुनपुन नदी को भगवान विष्णु के आशीर्वाद से पृथ्वी पर अवतरित होने के प्रमाणा कई धार्मिक ग्रंथों में उपलब्ध है। इसीलिए, पुनपुन नदी को आदि गंगा कहा गया है।

मान्यता है कि पुनपुन और बटाने नदी के संगम पर ही पुनिया नामक तपस्विनी ने भगवान विष्णु की आराधना की थी, जिसके बाद भगवान विष्णु प्रकट हुए थे और उसे आशीर्वाद दिया था। जिस स्थल पर भगवान विष्णु के प्रकट होने की बात कही जाती है वहां लंबे अरसे से पूजा-आराधना होती रही थी। बाद में कुछ श्रद्धालुओं ने इस संगम स्थल पर भगवान विष्णु का एक मंदिर बना दिया जो आज भी मौजूद है और इसे रढुआ धाम मंदिर कहा जाता है। हालांकि इस परिसर में कालांतर में भगवान सूर्य और अन्य देवी-देवताओं के भी मंदिर बन गए पर वस्तुत: यह विष्णुधाम ही कहा जाता है। धाम में रामसेतु का एक पत्थर भी है जो पानी पर तैरता रहता है।

कथा है कि भगवान राम ने ऐसे ही पत्थरों से लंका विजय के लिए पुल बनवाया था। ऐसा ही एक और पत्थर पटना के महावीर मंदिर में भी है। रढुआ धाम के रामशिला पत्थर को देखने के लिए बड़ी संख्या में लोग यहां पहुंचते हैं। आज भी कार्तिक में यहां विशाल मेला लगता है और लोग स्नान कर भगवान विष्णु की आराधना करते हैं। पुनपुन और बटाने नदी के संगम पर हमेशा श्रद्धालुओं की भीड़ लगी रहती है।

सं सूरज

जारी (वार्ता)

image