Wednesday, Jan 29 2020 | Time 10:09 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • ब्राजील में बाढ़ से 52 लोगों की मौत
  • चीन में कोरोनावायरस से मरने वालों की संख्या हुई 132
  • जापान में भूकंप के तेज झटके
  • माली में हिंसा से दो लाख लोग विस्थापित : संरा प्रवक्ता
  • दुनियाभर में कोरोना वायरस के 4593 मामलों की पुष्टि
  • यरूशलेम में इजरायली बलों के साथ झड़पों में 12 फिलिस्तीनी घायल
  • इराक में सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन जारी
  • क्यूबा में भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए
  • हमास ने अमेरिका के शांति समझौते को खारिज किया
  • जमैका में महसूस किए गए भूकंप के तेज झटके
  • कोरोना वायरस का तेल बाजार पर असर को लेकर सऊदी ने की चर्चा
  • सीएआर में सशस्त्र समूह के दो ग्रुप के बीच भिड़ंत में दर्जनों की मौत
  • चिली में महसूस किए गए भूकंप के झटके
  • उत्तरी सेना कमांडर रनबीर ने मुर्मु से की मुलाकात
राज्य » अन्य राज्य


विधानसभा में श्राइन बोर्ड के गठन को लेकर विपक्ष का हंगामा

देहरादून 09 दिसंबर (वार्ता) उत्तराखंड विधानसभा सत्र के चौथे दिन सोमवार को सदन में प्रश्नकाल शुरू होते ही विपक्षी सदस्यों ने उत्तराखंड श्राइन बोर्ड के गठन को लेकर लाए गए विधेयक का विरोध में हंगामा किया।
विपक्षी कांग्रेस विधायक वेल में आकर धरने पर बैठ गए। उन्होंने सरकार पर तीर्थपुरोहितों की उपेक्षा और धार्मिक मान्यताओं से खिलवाड़ का आरोप लगाते हुए इस विधेयक को वापस लेने की मांग की। हंगामा के कारण प्रश्नकाल के दौरान सदन की कार्यवाही चार बार स्थगित करनी पड़ी। प्रश्नकाल विपक्ष के हंगामे की भेंट चढ़ गया।
प्रश्नकाल के बाद भी सदन में हंगामा होता रहा, इस दौरान सरकार ने चारधाम श्राइन बोर्ड विधेयक सदन में पेश कर दिया। सरकार ने दो विधेयक सदन के पटल पर रखे। सरकार का कहना है कि वह वैष्णोदेवी और तिरुपति बालाजी मंदिर की तर्ज पर चारधाम श्राइन बोर्ड बनाकर यात्रा संचालन करेगी। श्राइन बोर्ड बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री धाम और 51 मंदिरों की व्यवस्था और मैनेजमेंट संभालेगा।
केदारनाथ विधायक मनोज रावत आरोप लगाया कि सरकार अपनी मनमर्जी पर उतारू है। सरकार के पास बहुमत है इसलिए नियमो को ताक पर रखा जा रहा है। कांग्रेस ने श्राइन बोर्ड विधेयक को लेकर कार्यमंत्रणा समिति में जानकारी न देने का आरोप लगाया है।
मदन कौशिक ने कहा कि श्राइन बोर्ड बनने के बाद ही वैष्णोदेवी मंदिर का विकास हुआ और लाखों श्रद्धालु प्रति वर्ष सुविधाओं के साथ दर्शन कर रहे। सरकार दक्षिण भारत के तिरुपति बालाजी मंदिर सहित तमाम मंदिरों में श्राइन बोर्ड व्यवस्था की ख़ूबियाँ भी गिनाया। उन्होंने कहा कि श्राइन बोर्ड बनने से न केवल नये रोजगार पैदा होंगे बल्कि यात्रा व्यवस्था सुधरेगी और मंदिरों के हालात बेहतर होगी।
चारधाम श्राइन बोर्ड के अध्यक्ष मुख्यमंत्री होंगे और इसमें संस्कृति मंत्री से लेकर तीन सांसद और छह विधायक शामिल होंगे। तीर्थ पुरोहित समाज के तीन प्रतिनिधि भी इसका हिस्सा होंगे और सीनियर आईएएस सीईओ के तौर पर बोर्ड का जिम्मा संभालेगा। बोर्ड की सभी अहम जिम्मेदारियाँ हिन्दू धर्मावलंबियों को ही दी जाएँगी।
सं राम
(वार्ता)
image