Thursday, Aug 22 2019 | Time 19:01 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • दो बेटियों से बलात्कार करने के आरोपी पिता को 20 साल की कैद
  • अरहर और मूंग दाल में तेजी, खाद्य तेल स्थिर, चीनी नरम
  • टीएयू देगी 20 लाख रुपये की छात्रवृत्ति
  • योगी वाराणसी पहुंचे, विकास कार्यों का लेंगे जायजा
  • जन आशीर्वाद यात्रा: खट्टर की करनाल को 109 करोड़ रूपये के विकास कार्यों की सौगात
  • बंगलादेश स्कूल ने फतेहाबाद स्कूल को 9-0 से हराया
  • चिदम्बरम 26 अगस्त तक सीबीआई की हिरासत में भेजे गये
  • फोटो कैप्शन दूसरा सेट
  • रुपया 26पैसे लुढ़का
  • स्थगित कैलाश मानसरोबर यात्रा फिर से शुरू, 17वां दल रवाना
  • 25 करोड़ रुपये के कारोबार वाले स्टार्टअप को मिलेगी आयकर छूट: सीबीडीटी
  • सास-ससुर की सेवा करने वाली बहुओं को सम्मानित करेगी पंचायत
  • प्रयागराज में जलस्तर बढ़ने से श्रद्धालु नहीं कर पा रहे है अक्षयवृक्ष के दर्शन
  • पावरलिफ्टिंग से निशानेबाजी में उतरे गौरव
राज्य » राजस्थान


विधायक एक वर्ष में एक हजार पेड़ लगाने का ले संकल्प-पारीक

विधायक एक वर्ष में एक हजार पेड़ लगाने का ले संकल्प-पारीक

जयपुर 17 जुलाई (वार्ता) राजस्थान विधानसभा के सभापति राजेन्द्र पारीक ने आज विधानसभा में कहा कि पर्यावरण को बचाने के उद्देश्य से हर विधायक को एक वर्ष में अपने विधानसभा क्षेत्र में एक हजार पेड़ लगाने का संकल्प लेना चाहिए।

श्री पारीक ने वन विभाग की अनुदान मांगों पर हो रही चर्चा के दौरान विधायक राजेन्द्र सिंह राठौड़ जब चर्चा कर रहे थे तब हस्तक्षेप करते हुए कहा कि प्रत्येक विधायक को अपने पांच वर्ष के कार्यकाल में अपने विधानसभा क्षेत्र में पांच हजार पेड़ लगवाने चाहिए। उन्होंने कहा कि केवल पेड़ लगाने का संकल्प ही नहीं ले, बल्कि इन पेड़ों के विकसित करना भी सुनिश्चित किया जाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि पक्ष एवं विपक्ष दोनों सदस्यों की राय बनती है तो विधायक कोष से इस बारे में मदद के बारे में बात की जा सकती है।

इस पर श्री राठौड़ ने कहा कि इस मामले में अगर सरकार कोई संकल्प लेकर आती है तो विपक्ष उनके साथ खड़ा होगा। उन्होंने कहा कि वृक्षारोपण के नाम पर बबूल के पेड़ लगा कर इसकी इतिश्री कर ली जाती है जो ठीक नहीं हैं। नीम के पेड़ बहुतायत में लगाये जाने चाहिए। उन्होंने कहा कि राज्य पुष्प रोहिड़ा संकट से गुजर रहा है। इसी तरह एक रिपोर्ट के आधार पर राज्य स्तर का दर्जा प्राप्त खेजड़ी में 50 प्रतिशत की कमी आई है। उन्होंने खेजड़ी को बचाने के लिए किये गये खेजड़ली में तीन सौ से अधिक लोगों के बलिदान को याद करते हुए कहा कि इस पर डाक्यूमेंट्री फिल्म बननी चाहिए तथा खेजड़ी को बढ़ावा दिये जाने के प्रयास किये जाने चाहिए।

image