Monday, Dec 16 2019 | Time 13:28 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • विराट ने डीआरएस रेफरल में देरी पर जताई नाराज़गी
  • पुलिस के खिलाफ जामिया कराएगी मामला दर्ज
  • जामिया मामले में मंगलवार को सुनवाई, बशर्ते हिंसा रुके
  • कश्मीर में केरान मार्ग खुला, माछिल, कर्नाह अभी भी बंद
  • मंगलुरु में तीन फर्जी सीआईएसएफ जवान गिरफ्तार
  • राजकोट में तेजाब पीकर किशोरी ने की खुदकुशी
  • समुद्र में डूबी तीन नौकाएं, तीन मछुआरों के शव मिले, एक लापता
  • नवंबर में 0 58 प्रतिशत रही थोक मुद्रास्फीति की दर
  • पायल रोहतगी को जेल भेजा
  • मोदी ने बंगलादेश की आजादी की लड़ाई में शहीद हुए जवानों को किया नमन
  • स्टालिन ने की जामिया छात्रों पर पुलिस हमले की निंदा
  • नवंबर 2019 में थोक मुद्रास्फीति की दर 0 58 प्रतिशत पर
  • सीएए के खिलाफ याचिकाओं की सुनवाई बुधवार को
  • पाकिस्तान में अमाल की मौत को लेकर विरोधाभास
  • झारखंड में 15 सीटों के लिए जारी मतदान में पड़े 28 56 प्रतिशत वोट
राज्य » पंजाब / हरियाणा / हिमाचल


श्रीखंड यात्रा फिर से शुरू, पार्वती बाग से आगे जाने की अनुमति नहीं

शिमला, 18 जुलाई (वार्ता) हिमाचल प्रदेश की सबसे कठिन श्रीखंड महादेव यात्रा मार्ग पर ग्लेशियरों और चट्टानों के गिरने के चलते प्रशासन ने आज सुबह सिंहगाड़ बेस कैम्प में रजिस्ट्रेशन के बाद इस शर्त पर इस मार्ग पर पुन: यात्रा शुरू की कि श्रद्धानु पार्वती बाग से आगे नहीं जाएंगे।
उल्लेखनीय है कि पार्वती बाग से आगे नैन सरोवर और भीम बही के रास्ते पर भारी बर्फबारी ने इस बार यात्रा को रोक दिया है। मंगलवार को नैन सरोवर के समीप ग्लेशियर गिरने से कई श्रद्धालु फंस गए थे और इसमें चार लोग घायल भी हुए थे। इसके बाद महाराष्ट्र की एक महिला की दम घुटने के कारण गत बुधवार को मौत हो गई थी। इन स्थानों पर अभी भी रुक रुक कर ग्लेशियरों और बढ़ी चट्टानों का गिरना जारी है। ऐसे में प्रशासन ने यात्रियों को पार्वती बाग से ही श्रीखंड महादेव के दर्शन कर वापस लौटने के निर्देश दिए हैं।

एसडीएम(आनी) चेत सिंह ने कहा कि इस साल गत वर्षों के मुकाबले काफी ज्यादा बर्फ श्रीखंड महादेव के रास्ते में है। प्रशासन की ओर से राहत एवं बचाव टीमें कई स्थानों पर तैनात की गई हैं। स्वास्थ्य जांच और उपचार आदि के लिए चिकित्सकों और अद्ध चिकित्साकर्मी भी तैनात किये गये हैं। उन्होंने श्रद्धालुओं से जान का जोखिम न लेने का आग्रह किया है और सुरक्षा के दृष्टिगत प्रशासन के निर्देशों का पालन करने की बात कही है। उन्होंने बताया कि मृत श्रद्धालु को आज बेस कैम्प पहुंचा दिया जाएगा जहां इसे परिजनों के सुपुर्द किया जाएगा।
गौरतलब है कि श्रीखंड महादेव भगवान शिव की तपोस्थली मानी जाती है। करीब 18570 फुट की ऊंचाई पर स्थित श्रीखंड महादेव पहुंचने के लिए कई ग्लेशियरों और ऊंची नीची पगडंडियों पार करना पड़ता है। हर साल हजारों श्रद्धालु देश विदेश से यहां यात्रा करने पहुंचते हैं। इस कठिन डगर पर हर साल ही कई लोगों की जान चली जाती है।
सं.रमेश2027वार्ता
image