Tuesday, Jul 7 2020 | Time 22:28 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • रांची के रिम्स में एएसआई से दो लाख रुपये की लूट
  • रेल के निजीकरण समेत अन्य जनविरोधी नीतियों के खिलाफ विपक्ष करेगा धरना -प्रदर्शन
  • लखनऊ में यातायात नियमों की अनदेखी करने वाले 1915 लोगों का चालान
  • नीतीश के मुख्यमंत्री आवास से गेस्ट हाउस में शिफ्ट होने की खबर भ्रामक
  • विमान टिकट रिफंड मामले पर केंद्र, डीजीसीए से जवाब तलब
  • बंगाल में कोरोना मामले 24,000 के करीब, 800 से अधिक की मौत
  • वेस्टइंडीज को इंग्लिश परिस्थितियों के हिसाब से ढलना होगा :लारा
  • वेस्टइंडीज को इंग्लिश परिस्थितियों के हिसाब से ढलना होगा :लारा
  • ललितपुर : कोरोना संक्रमण के दो नये मामले,कुल संख्या 18
  • मेरठ में 45 नये कोरोना संक्रमित, संख्या पहुंची 1254
  • राजस्थान में कोरोना संक्रमण के 716 नये मामले, संख्या पहुंची 21 हजार पार
  • देश में कोरोना के मामले 7 40 लाख के पार, रिकवरी दर 61 फीसदी से अधिक
  • नीतीश ने वज्रपात से सात लोगों की मौत पर जताया शोक, चार लाख मुआवजे का दिया निर्देश
  • झांसी: राज्यसभा सांसद,पूर्व विधायक और जिलाध्यक्ष समेत 25 समाजवादियों के खिलाफ मुकद्मा
  • गुजरात में सातवें दिन भी कोरोना के नये मामलों का रिकार्ड
राज्य » मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़


सहकारी कर्मचारी को प्रशिक्षण दिया जाये-गोविंद

भोपाल, 21 नवम्बर (वार्ता) मध्यप्रदेश के सहकारिता मंत्री डॉ गोविन्द सिंह ने आज निर्देश दिये हैं कि प्रदेश में कार्यरत 40 हजार सहकारी संस्थाओं के प्रत्येक कर्मचारी और संचालक मंडल के सदस्यों को अनिवार्य रूप से प्रशिक्षण दिलाया जाए। इसके लिए सहकारी संघ द्वारा राज्य स्तर के साथ ही संभाग एवं जिला स्तर पर भी प्रशिक्षण केन्द्र विकसित करें।
श्री सिंह ने राज्य सहकारी संघ के कार्यों की समीक्षा करते हुए कहा कि प्रदेश के शेष 14 जिलों में भी सहकारी संघों के गठन की कार्रवाई की जाए। उन्होंने सहकारी संघों की परिसंपत्तियों का विकास कर अतिरिक्त आय के लिए योजनाबद्ध प्रयास किए जाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि भोपाल में त्रिलंगा स्थिति राज्य सहकारी संघ के परिसर को पीपीटी मॉडल के रूप में विकसित कर वहाँ प्रशिक्षण केन्द्र-सह-शॉपिंग कॉम्प्लेक्स विकसित करने की योजना बनाएं। इंदौर में किला मैदान स्थित सहकारी संघ की संपत्ति पर उच्च स्तरीय सहकारी शोध एवं प्रशिक्षण संस्थान बनाने का प्रस्ताव भी तैयार करे। साथ ही जबलपुर, भोपाल तथा नौगांव के सहकारी प्रशिक्षण केन्द्रों को विकसित करें। इसके अलावा, जिन जिला सहकारी संघों के पास जमीन है, वहाँ भी प्रशिक्षण केन्द्र-सह-वाणिज्यिक केन्द्र विकसित करने पर विचार करें। उन्होंने प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे गुना जिले की सहकारी समितियों के सेल्स मेन के तीन दिवसीय प्रशिक्षण का अवलोकन भी किया।
नाग
वार्ता
image