Wednesday, Nov 25 2020 | Time 16:58 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • खेती को अधिक उत्पादक एवं रोजगारोन्मुखी बनाने में कृषि शिक्षा की हो महती भूमिका-मिश्र
  • तुर्की में दिसंबर से कोरोना वायरस टीकाकरण
  • उत्तराखंड की नीति घाटी में जियो के दो 4-जी टॉवर शुरू, पहली बार घनघनाई मोबाइल घंटियां
  • भारत शिक्षा के क्षेत्र में नेतृत्व की भूमिका को और आगे ले जाएगा: डॉ निशंक
  • उत्तराखंड की नीति घाटी के गांवों में जियो के दो 4-जी टॉवर शुरू, पहली बार घनघनाई मोबाइल घंटियां
  • न्यूजीलैंड में लगभग सौ पायलट व्हेल मछलियों की मौत
  • भारत-ऑस्ट्रेलिया वनडे इतिहास के 40 साल पूरे
  • गुरुग्रंथ साहिब अपमान मामले को स्थानांतरित करने संबंधी याचिका खारिज
  • अफगानिस्तान में कार बम विस्फोट, 18 घायल
  • कर्नाटक के पूर्व मंत्री रोशन बेग अस्पताल में भर्ती
  • मंत्रिमंडल ने लक्ष्‍मी विलास बैंक के डीबीएस बैंक में विलय को दी मंजूरी
  • मुनाफावसूली से घरेलू शेयर बाजार धड़ाम
  • एक राजनीतिज्ञ तथा एक इंसान के तौर पर याद किए
  • नवीन ने केन्द्र से बोर्ड परीक्षाओं की समय सीमा स्पष्ट करने का अनुरोध किया
राज्य » उत्तर प्रदेश


सैनिक स्कूल के भवन का वास्तु भारतीयता का प्रतीक बने: योगी

सैनिक स्कूल के भवन का वास्तु भारतीयता का प्रतीक बने: योगी

लखनऊ 27 अक्टूबर (वार्ता) उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि सैनिक स्कूल के भवन का वास्तु भारतीयता और यहां की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत का प्रतीक होना चाहिये।

श्री योगी ने मंगलवार को गोरखपुर के प्रस्तावित नवीन सैनिक स्कूल की स्थापना के लिये अनावासीय/आवासीय भवनों के निर्माण के सम्बन्ध में प्रस्तुतीकरण के मौके पर कहा कि भवनों का निर्माण भविष्य की जरूरतों के दृष्टिगत किया जाए। भवनों को वर्टिकल रूप से निर्मित किये जाने पर विचार किया जाए, जिससे खेल मैदानों की उपलब्धता जरूरत के अनुसार सुनिश्चित की जा सके। आडिटोरियम की क्षमता में वृद्धि किये जाने के निर्देश देते हुए उन्होंने कहा कि निर्माण की प्रक्रिया चरणबद्ध व समयबद्ध ढंग से तेजी के साथ पूर्ण की जाए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि भवन का स्वरूप भारतीय परम्परा और संस्कृति को दर्शाए। भवनों और स्कूल के निर्माण में भारतीय महापुरुषाें, वीरांगनाओं और स्वाधीनता संग्राम सेनानियों के शौर्य और पराक्रम की गौरव गाथा को प्रदर्शित किया जाए। इसकी शैली उत्कृष्ट और जीवन्त हो। उन्होंने निर्माण में प्राचीन भारतीय विरासत के साथ-साथ आधुनिकता का समन्वय करते हुए तकनीक, डिजाइन और सुविधाओं का समावेश किए जाने के निर्देश दिए।

श्री योगी को अधिकारियों ने बताया कि प्रस्तावित सैनिक स्कूल में मल्टीपरपज हाॅल, आडिटोरियम, सोलर लाइटिंग सिस्टम एवं सीसीटीवी, बागवानी व जैविक खेती, गौशाला, ध्यानकेन्द्र, शूटिंग रेंज, घुड़सवारी, स्विमिंग पूल आदि सम्बन्धी व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जा रही हैं। आवासीय/अनावासीय भवनों सहित इनके निर्माण की चरणबद्ध योजना बनायी गयी है।

इस अवसर पर उप्र राज्य आपदा प्रबन्धन प्राधिकरण के उपाध्यक्ष जनरल आरपी शाही, अपर मुख्य सचिव माध्यमिक शिक्षा आराधना शुक्ला, प्रमुख सचिव लोक निर्माण नितिन रमेश गोकर्ण, सचिव मुख्यमंत्री आलोक कुमार सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

प्रदीप

वार्ता

image