Tuesday, Aug 11 2020 | Time 11:50 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • राजस्थान में करीब सवा छह सौ नये मामलों के साथ दस और कोरोना मरीजों की मौत
  • कुपवाड़ा में तीन संदिग्ध आतंकवादी गिरफ्तार
  • बुलंदशहर में एसपी क्राईम और एसपी देहात भी कोरोना पॉजिटिव
  • साक्षी महाराज को फोन पर बम से उड़ाने की धमकी
  • मोदी के जल जीवन मिशन से एक साल में जुड़े पांच करोड़ से ज्यादा परिवार
  • अजमेर में अजमेर जेल में 26 कैदियों में कोरोना
  • विश्व में कोरोना संक्रमितों की संख्या दो करोड़ के पार
  • नवादा में व्यवसायी घर डकैती, पुत्र की हत्या
  • देवरिया में सड़क हादसे में बैंककर्मी सहित तीन की मृत्यु
  • शिवहर में किशोर की तलवार से काटकर हत्या
  • केजरीवाल ने अमर शहीद खुदीराम बोस को किया नमन
  • उपराष्ट्रपति कार्यकाल के तीन वर्ष पूरे होने पर वेंकैया को नकवी ने दी बधाई
  • संक्रमणमुक्त हुए 55 59 प्रतिशत कोरोना मरीज चार राज्यों में
  • कोरोना संक्रमण के 53601 नये मामले, 47746 रोगमुक्त
राज्य » उत्तर प्रदेश


सैफई मेडिकल यूनीवर्सिटी मे ईपीएफ घोटाले का मुकदमा दर्ज

इटावा, 7 दिसम्बर (वार्ता) समाजवादी पार्टी (सपा) प्रमुख अखिलेश यादव के गांव मे स्थापित सैफई मेडिकल यूनीवसिर्टी में प्राइवेट फर्म द्वारा करोडों के गबन का मामला सामने आने के बाद प्रशासन ने दोषी फर्म को ब्लैकलिस्ट कर थाना में मुकदमा दर्ज कराया है ।
यूनीवसिर्टी के कुलसचिव सुरेश चंद्र शर्मा ने आज यहाॅ बताया कि विश्वविद्यालय से भुगतान किए जाने के बाद भी आयुर्विज्ञान संस्थान ने प्राइवेट फर्म शाबरीन चैधरी फर्म के द्वारा एक करोड 53 लाख 32 हजार 454 रुपये के ईपीएफ का भुगतान नहीं किया गया है । आरोपी फर्म के द्वारा ईपीएफ के सरकारी पैसों का गबन किया है । यह गबन वर्ष 2007 से 2017 के बीच दस वर्षों में किया गया है ।
उन्होने बताया कि फर्म मेसर्स शाबरीन चैधरी बिल्डिंग मैटेरियल सप्लायर एन्ड प्लमबरिंग वर्क्स इटावा (प्रो.सिराज चैधरी) जो कि विश्वविद्यालय में वर्ष 2007 से सफाई व्यवस्था का कार्य देख रही थी, के खिलाफ वित्तीय राजस्व की हानि एवं गबन घोटाला के प्रावधानों के अंतर्गत पांच दिसम्बर को थाना सैफई में मुकदमा दर्ज करवाया गया है ।
फर्म के सेनिटेशन एवं सिंपल वेस्ट डिस्पोजल कार्यों तथा कर्मचारियों के ईपीएफ न जमा करने के सम्बंध में शिकायत प्राप्त हुई थी । जिसके बाद विश्वविद्यालय की तरफ से एक जांच समिति का गठन किया गया था । जांच समिति की संस्तुति के आधार पर जनहित में आरोपी फर्म को अक्टूबर 2019 में ब्लैकलिस्ट कर दिया गया था ।
उन्होने बताया कि जांच समिति के द्वारा फर्म की तमाम अनियमितताएं पाई गई जिनमें फर्म के द्वारा अपने कर्मचारियों का ईपीएफ जमा न करना, फर्म द्वारा बिलों को चार-चार माह तक भुगतान के लिए प्रस्तुत न करना, फर्म कर्मचारियों और सुपरवाइजरों की सही सूची उपलब्ध न करवाना, फर्म के कर्मचारियों और सुपरवाइजरों को पहचान पत्र और वर्दी उपलब्ध न करवाना शामिल है।
कुलपति ने बताया कि जांच समिति की रिपोर्ट सामने आने के बाद विश्वविद्यालय प्रशासन की तरफ से थाना सैफई में दोषी फर्म के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाया गया है । मामले में सैफई थाना पुलिस ने जांच शुरु कर दी है ।
सं प्रदीप
वार्ता
More News
बागपत में भाजपा नेता एवं पूर्व जिलाध्यक्ष की गोली मारकर हत्या

बागपत में भाजपा नेता एवं पूर्व जिलाध्यक्ष की गोली मारकर हत्या

11 Aug 2020 | 9:10 AM

बागपत,11 अगस्त (वार्ता) उत्तर प्रदेश के बागपत में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नेता एवं पूर्व जिलाध्यक्ष संजय खोखर की बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी और फरार रहो गये।

see more..
image