Friday, Dec 6 2019 | Time 19:24 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • निर्माता वैकल्पिक ईंधन से संचालित वाहन बनाएं : गडकरी
  • विदेशी मुद्रा भंडार पहली बार 450 अरब डॉलर के पार
  • साइबर अपराधियों ने जौहरी के 2़ 98 करोड़ रुपये उड़ाये
  • जम्मू-कश्मीर नेशनल पैंथर्स पार्टी ने शनिवार को पूर्ण जम्मू बंद की अपील की
  • राष्ट्रव्यापी जीएसटी हितधारक फीडबैक दिवस का आयोजन कल
  • जनहित के मुद्दों को लेकर फरवरी में होगी खाप महापंचायत
  • रेणुका सिंह गिनायेंगी 100 दिन की उपलब्धि
  • जल और हरियाली के बिना जीवन की परिकल्पना बेमानी : नीतीश
  • अविनाश खन्ना हरियाणा और गोवा प्रदेशाध्यक्षों के चुनाव हेतु पर्यवेक्षक नियुक्त
  • वित्त आयोग ने वर्ष 2020-21 के लिए रिपोर्ट वित्त मंत्री को सौंपी
  • आदि महोत्सव में 20 करोड़ रुपए की बिक्री
  • संवाद से रखी जाती है बेहतर भविष्य की नींव : मोदी
  • अजहरुद्दीन के नाम पर स्टैंड का अनावरण
  • अजहरुद्दीन के नाम पर स्टैंड का अनावरण
  • कारागार सुधार गृह हैं, इन्हें अपराध का गढ़ नहीं बनने दिया जाएगा:योगी
भारत


सुरक्षित घर और पड़ोस बनाने की आवश्यकता:ईरानी

सुरक्षित घर और पड़ोस बनाने की आवश्यकता:ईरानी

नयी दिल्ली 19 नवंबर (वार्ता) केंद्रीय महिला और बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने मंगलवार को कहा कि महिलाओं और बच्चों को हिंसा और दुर्व्यवहार से बचाने के लिए उनके घरों और पास पड़ोस में सुरक्षा सुनिश्चित करना तात्कालिक आवश्यकता है।

श्रीमती ईरानी ने यहां महिला और बाल विकास मंत्रालय तथा सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट फेसबुक द्वारा आयोजित दूसरे दक्षिण एशिया सुरक्षा शिखर सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि महिलाओं के विरूद्ध दर्ज अपराध के तीन लाख मामलों में अपराधी पति और संबंधी थे। इसलिए महिलाओं और बच्चों की सुरक्षा का विषय घर के नजदीक होता है। उन्होंने बताया कि आंकड़ों के अनुसार 42 प्रतिशत पुरुष घरेलू हिंसा को उचित बताते हैं और 62 प्रतिशत महिलाएं घरेलू हिंसा का समर्थन करती हैं।

केंद्रीय मंत्री ने बताया कि स्थानीय क्षेत्र में महिलाओं की आवश्यकताओं के लिए वन-स्टॉप सेंटर जैसे अनेक कदम उठाए गए हैं। प्रत्येक महीने 10 वन-स्टॉप सेंटर खुल रहे हैं और इस वर्ष के अंत तक प्रत्येक जिले में एक वन-स्टॉप सेंटर होगा। उन्होंने बताया कि प्रत्येक जिले में तस्करी विरोधी इकाइयां होंगी। थानों तक महिलाओं और बच्चों की पहुंच को सहज बनाने के लिए प्रत्येक थाने में महिला सहायता डेस्क स्थापित किया जा रहा है क्योंकि अपनी सुरक्षा और जीवन को खतरा मानते हुए महिलाएं जब कभी संकट से घिरी होती हैं वे पहले थाना पहुंचती हैं।

सम्मेलन में 125 नागरिक संगठन, महिला अधिकार समूह, बाल सुरक्षा विशेषज्ञ तथा शिक्षाविद लैंगिग समस्या तथा जनसंचार पर विचार कर रहे हैं। इस सम्मेलन में सुरक्षा व्यवहारकर्ता, मानसिक स्वास्थ्य तथा आत्महत्या निरोधक संगठन, दिव्यांगजन अधिकार समूह भाग ले रहे हैं।

सत्या

वार्ता

More News
मोदी-आबे वार्षिक बैठक 15-17 दिसंबर को पूर्वोत्तर में

मोदी-आबे वार्षिक बैठक 15-17 दिसंबर को पूर्वोत्तर में

06 Dec 2019 | 7:18 PM

नयी दिल्ली, 06 दिसंबर (वार्ता) भारत-जापान 14वीं वार्षिक शिखर बैठक 15 से 17 दिसंबर के बीच होगी जिसमें शामिल होने के लिए जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे भारत आएंगे।

see more..
नित्यानंद के बारे में सभी देशों को सूचना भेजी

नित्यानंद के बारे में सभी देशों को सूचना भेजी

06 Dec 2019 | 7:09 PM

नयी दिल्ली 06 दिसंबर (वार्ता) विदेश मंत्रालय ने भगोड़े संन्यासी नित्यानंद के बारे में दुनिया भर में अपने मिशनों के माध्यम से सभी देशों को जानकारी दे दी है और उसे शरण नहीं देने का अनुरोध किया है।

see more..
image