Thursday, Feb 20 2020 | Time 16:04 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • एशियाई हाथी, गोडावण विलुप्त हो रही प्रजातियों की सूची में शामिल होंगे
  • जमशेदपुर को हरा गोवा ने एएफसी चैंपियंस लीग के ग्रुप चरण में किया प्रवेश
  • निर्भया कांड के दोषी विनय ने गंभीर मानसिक रोगी बता कर दायर की याचिका
  • महिला विश्व कप में विजयी शुरुआत करने उतरेगा भारत
  • मोदी ने मिजोरम, अरुणाचल प्रदेश के स्‍थापना दिवस पर बधाई दी
  • बस हादसे में मारे गये यात्रियों की मौत पर मोदी ने जताया शोक
  • ट्राईसाईक्लाजोल और बूप्रोफेजिन पर रोक के फैसले को वापस ले सरकार: एसीएफआई
  • हर घर में शुद्ध पेेयजल पहुंचाया जायेगा
  • दिव्या ने जीता स्वर्ण, भारत की झोली में छठा पदक
  • जीव संस्कृति का इस्तेमाल कर होगा प्रवासी प्रजातियों का संरक्षण
  • टाईसाईक्लाजोल और बूप्रोफेजिन पर रोक के फैसले को वापस ले सरकार: एसीएफआई
  • ट्रैक्टर पलटने से चार की मौत दस घायल
  • चिन्मयानंद की जमानत पर रिहाई के खिलाफ पीड़िता पहुंची सुप्रीम कोर्ट, सोमवार को सुनवाई
  • पूर्व मंत्री खुर्शीद अहमद और विधायक उदय लाल को विस में श्रद्धांजलि
  • कांग्रेस ने बागी विधायकों को फिर जनादेश प्राप्त करने की दी चुनौती
राज्य » राजस्थान


सार्वजनिक रूप से माफी मांगे धारीवाल- सराफ

सार्वजनिक रूप से माफी मांगे धारीवाल- सराफ

जयपुर, 20 अगस्त (वार्ता) राजस्थान में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व मंत्री कालीचरण सराफ ने राज्य सरकार पर असंवेदनशील होने का आरोप लगाते हुए नगरीय विकास एवं स्वायत्त शासन मंत्री शान्ति धारीवाल एवं पुलिस आयुक्त आनन्द श्रीवास्तव से सार्वजनिक रूप से माफी मांगने की मांग की है।

श्री सराफ ने आज अपने बयान में कहा कि कांग्रेस की सरकार में पुलिस की प्रताड़ना के चलते एक दुष्कर्म पीड़िता को अपने पुत्र के सामने जयपुर स्थित वैशाली नगर थाने में आत्मदाह करना पड़ा, यह जयपुर के इतिहास की शर्मनाक घटनाओं में से एक है और इससे ज्यादा शर्म की बात यह है कि उस महिला के आत्मदाह के बाद में जयपुर के पुलिस आयुक्त प्रेस काँफ्रेंस करके दुष्कर्म के मामले को आपसी सहमति का मामला बताते हैं तथा अपने पुलिस अधिकारियों का बचाव करते है।

उन्होंने कहा कि उसी के आधार पर विधानसभा में सदन के पटल पर मुख्यमंत्री के प्रतिनिधि के रूप में श्री धारीवाल सदन को झूठ बोलकर गुमराह किया और जब भाजपा के दबाव में सरकार इस मामले की जांच क्राइम ब्रांच को देती है। क्राइम ब्रांच के अधिकारी मामले को दुष्कर्म का मानते हुए आरोपी को गिरफ्तार करते है।

श्री सराफ ने कहा कि मिलीभगत दुष्कर्म पीड़िता की नहीं थी, मिलीभगत पुलिसकर्मियों की आरोपी के साथ में थी और उनकी इसी मिलीभगत के कारण एक बच्चा हमेशा के लिए अपनी मां की ममता से महरूम हो गया और एक परिवार आजीवन सामाजिक प्रताड़ना झेलेगा।

उन्होंने दोषी अधिकारियों पर आत्महत्या के लिए प्रेरित करने का मुकदमा दर्ज कर कड़ी कार्रवाई करने की मांग की।

जोरा

वार्ता

image