Wednesday, Oct 28 2020 | Time 19:49 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • गुजरात में सरकारी बिजली कंपनियों ने फ्यूल सरचार्ज में प्रति की कटौती
  • टेरर फंडिंग : कश्मीर में कईं ठिकानों पर एनआईए की छापेमारी
  • नोएडा में एटीएम कार्ड की क्लोनिंग कर करोड़ो की धोखाधड़ी,दो विदेशी गिरफ्तार
  • जम्मू-कश्मीर में कोरोना के 536 नये मामले,546 स्वस्थ
  • सोनीपत में कोरोना से एक मौत, 67 नए मामले आए
  • 15वें वित्त आयोग ने पूर्व अध्यक्षाें के साथ बातचीत की
  • पूर्व फौजी पर विदेश भेजने के नाम पर 12 लाख रुपये की ठगी का आरोप
  • मोदी एकता दिवस पर सीप्लेन सेवा की शुरूआत करेंगे
  • स्मृति ईरानी भी हुईं कोरोना संक्रमित
  • तमिलनाडु में कोरोना रिकवरी दर 95 फीसदी के करीब
  • स्मृति ईरानी कोरोना पॉजिटिव
  • वनवासी कल्याण आश्रम की निकिता के हत्यारों को कड़ी सजा देने की मांग
  • महाराजा अग्रसेन टीले की जल्द शुरू होगी खुदाई, केंद्र खर्चेगा 100 करोड़ रुपए
  • उप्र के प्रमुख नगरों में आज का तापमान इस प्रकार रहा
  • मुंबई ने टॉस जीतकर गेंदबाजी चुनी
राज्य » पंजाब / हरियाणा / हिमाचल


हरियाणा कृषि मंत्री नेे कृषि विधेयकों का स्वागत किया

चंडीगढ़, 20 सितंबर (वार्ता) हरियाणा के कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री जेपी दलाल ने आज राज्यसभा में पारित कृषि उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन एवं सरलीकरण) विधेयक 2020 और कृषक (सशक्तीकरण और सुरक्षा) कीमत आश्वासन और कृषि सेवा करार विधेयक 2020, का स्वागत करते हुए कहा कि यह विधेयक कृषि एवं किसान दोनों को ही आत्मनिर्भर बनाने में कारगर सिद्ध होंगे।
यहां जारी एक वक्तव्य में श्री दलाल ने कहा कि वर्ष 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लक्ष्य को पूरा करने में भी ये बिल महत्वपूर्ण कड़ी साबित होंगे। उन्होंनेे कहा कि देश में कृषि क्षेत्र काफी विस्तृत है और इन विधेयकों के पास होने से अब किसान खुद या किसान उत्पादन समूहों के माध्यम से अपनी उपज देश के किसी भी राज्य की मंडियों में बेच सकेगा।
श्री दलाल ने कहा कि कुछ राजनेता किसान के नाम पर राजनीति करने के आदी हो गए हैं। बेहतर होता कि इन विधेयकों को पूरी तरह पढ़ कर बयानबाजी करते। उन्होंने कहा कि जैसा कि केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने राज्यसभा में अपने जवाब में कहा है कि फसलों की खरीद न्यूनतम समर्थन मूल्य पर पहले की तरह मंडियों में होती रहेगी। इससे स्पष्ट है कि न तो एमएसपी बंद होगी न ही मंडियां बंद होंगी।
महेश विक्रम
वार्ता
image