Saturday, Jan 19 2019 | Time 03:56 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • घृणापूर्ण भाषण से गुरेज करें लोग: गुटेरेस
  • मेक्सिको में 6 0 तीव्रता के भूकंप झटके
  • राहुल ने मल्लू को पार्टी के विधायक दल का नेता नियुक्त किया
  • मोदी दादर एवं नगर हवेली में कई विकास योजनाओं का करेंगे लोकार्पण
  • कोविंद ने राष्ट्रपति भवन में देखी फिल्म मणिकर्णिका
फीचर्स Share

कैंसर के बाद सबसे गंभीर बीमारी ‘लिवर सिरोसिस’

कैंसर के बाद सबसे गंभीर बीमारी ‘लिवर सिरोसिस’

(डाॅ़ आशा मिश्रा उपाध्याय से )

नयी दिल्ली 16 सितम्बर (वार्ता) शरीर की सबसे बड़ी ग्रंथी एवं महत्वपूर्ण अंगों में से एक यकृत में होने वाली सिरोसिस की बीमारी कैंसर के बाद सबसे भंयकर है जिसका अंतिम इलाज ‘लिवर प्रत्यारोपण’है। भारत और पाकिस्तान समेत विकासशील देशों में करीब एक करोड़ लोग इस बीमारी की गिरफ्त में हैं।

इस अंग का महत्व चिकित्सकों और वैज्ञानिकों साथ-साथ आम लाेगों को भी खूब मालूम है ,तभी तो भावुक क्षणों में लोग अपने प्रियजनों को कभी ‘जिगर’तो कभी ‘कलेजे’का टुकड़ा तक कह डालते हैं।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यू एच ओ) की रिपोर्ट के अनुसार लिवर सिरोसिस के 20 से 50 प्रतिशत मामले शराब के अधिक सेवन से देखने को मिले हैं। समय रहते इलाज नहीं हाेने पर लिवर काम करना बंद कर देता है और यह स्थिति जानलेवा होती है।

पाकिस्तान के लाहौर स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ हेल्थ साइंसेंस(यूएचएस) के कुलपति प्रोफेसर डॉ. जावेद अकरम ने ‘यूनीवार्ता’ को रविवार को बताया कि वायरल इंफेक्शन- हेपेटाइटिस -‘सी’ और ‘बी’ लिवर सिरोसिस के मुख्य वजहों में से एक हैं। यह संक्रमण पााकिस्तान, भारत एवं बंगलादेश समेत विकासशील देशों में बहुत आम हो गया है। यह संक्रमण अस्पतालों के कुछ मामूली उपकरणों की उचित रख-रखाव एवं सफाई की कमी और प्रयोग में लायी गयी सीरिंज आदि के दोबारा उपयोग करने से होता है। अगर कोई स्वस्थ्य व्यक्ति इस वायरल से संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आता है तो वह भी इससे संक्रमित हो सकता है। इन देशों में करीब एक करोड़ लोग लिवर सिरोसिस से ग्रस्त हैं और लगभग चार करोड़ हेपेटाइटिस -सी और बी से संक्रमित हैं। ”

प्रोफेसर अकरम ने कहा ,“ शराब भी इस बीमारी के मुख्य कारणों में से एक है। लंबे समय से शराब के अधिक सेवन से लिवर में सूजन पैदा हो जाती है जो इस बीमारी का कारण बन सकती है।” लेकिन जो व्यक्ति शराब में हाथ तक नहीं लगाता ,वह भी इस बीमारी की चपेट में आ सकता है। इसे ‘नैश सिरोसिस’ यानी नॉन एल्कोहलिक सिएटो हेपेटाइटिस से जाना जाता है। ”

उन्होंने कहा कि सिरोसिस का अंतिम उपचार लिवर प्रत्यारोपण है। इसकी सफलता का दर करीब 75 प्रतिशत है जिसे अच्छा माना जाता है। परिवार के किसी भी सदस्य के जिगर का छोटा-सा हिस्सा लेकर मरीज के लिवर में प्रत्यारोपित किया जाता है। डोनर को किसी तरह का कोई खतरा लगभग नहीं के बाराबर है।

इस रोग की चपेट में आने से सूजन के कारण बड़े पैमाने पर लिवर की कोशिकाएं नष्ट हो जाती हैं और उनकी जगह फाइबर तंतु ले लेते हैं। इसके अलावा लिवर की बनावट भी असामान्य हो जाती है और इससे ‘पोर्टल हाइपरटेंशन’ की स्थिति पैदा हो जाती है। शराब का अत्यधिक मात्रा में सेवन के अलावा हेपेटाइटिस बी और वायरल -सी का संक्रमण होने पर भी इस बीमारी का हमला हो सकता है। इस दौरान रुधिर में लौह तत्व की मात्रा का बढ़ जाती है और लिवर में वसा जमा हो जाने से यह धीरे-धीरे नष्ट होने लगता है। इसके साथ ही मोटापा और मधुमेह इस बीमारी के प्रमुख कारण हैं।

लिवर सिरोसिस में पेट में एक द्रव्य बन जाता है और यह स्थिति रक्त और द्रव्य में प्रोटीन और एल्बुमिन का स्तर बने रहने की वजह से निर्मित होती है। लिवर के बढ़ने से पेट मोटा हाे जाता है और इसमें दर्द भी शुरू हो जाता है।

सिरोसिस में लिवर से संबंधित कई समस्याओं के लक्षण एक साथ देखने को मिलते हैं।

सिरोसिस के लक्षण तीन स्तर पर सामने आते हैं। शुरूआती स्तर में व्यक्ति को अनावश्यक थकावट महसूस होती है। साथ ही, उसका वजन भी बेवजह काम कम हाेने लगता । इसके अलावा पाचन संबंधी समस्याएं सामने आती हैं। इस बीमारी के दूसरे चरण में व्यक्ति काे अचानक चक्कर आने लगता है और उल्टियां होने लगती हैं। उसे भूख नहीं लगती है और बुखार जैसे लक्षण होते हैं।

तीसरी एवं अंतिम अवस्था में मरीज को उल्टियों के साथ खून आता है और वह बेहोश हो जाता है। इस बीमारी में दवाओं का कोई असर नहीं होता। प्रत्यारोपण ही एकमात्र उपचार है।

लिवर के रोगग्रस्त हाेने के मुख्य लक्ष्ण त्वचा की रंगत का गायब होना और आंखों के रंग का पीला होना है। ऐसा खून में बिलीरूबिन (एक पित्त वर्णक) का स्तर अधिक होने से हाेता है जिसकी वजह से शरीर से व्यर्थ पदार्थ बाहर नहीं निकल पाता है।

आशा नीरज

वार्ता

More News
उत्तर प्रदेश में सुधरी बिजली की चाल, गर्मियों में होगी अग्नि परीक्षा

उत्तर प्रदेश में सुधरी बिजली की चाल, गर्मियों में होगी अग्नि परीक्षा

09 Jan 2019 | 1:45 PM

लखनऊ 04 जनवरी (वार्ता) दशकों तक बिजली की किल्लत का दंश झेलने वाले उत्तर प्रदेश ने बीते साल ऊर्जा क्षेत्र में स्वालंबन की दिशा में मजबूती से कदम बढ़ाये मगर बिजली विभाग की अग्नि परीक्षा आगामी गर्मी के मौसम में होगी।

 Sharesee more..
2018 में राहुल का राजनीतिक ‘कद’ बढ़ा

2018 में राहुल का राजनीतिक ‘कद’ बढ़ा

04 Jan 2019 | 11:27 AM

नयी दिल्ली, 04 जनवरी (वार्ता) श्री राहुल गांधी के कांग्रेस अध्यक्ष पद संभालने के बाद पार्टी को मिली सफलता से न केवल वह पार्टी में एकछत्र नेता बनकर उभरे बल्कि उनका राजनीतिक कद बढ़ा है तथा यह माना जाने लगा है कि वह अगले कुछ महीनों में होने वाले लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिये बड़ी चुनौती बन सकते हैं।

 Sharesee more..
बीते साल रक्तरंजित रहा कश्मीर, रिकार्ड तोड़ आतंकवादी ढेर

बीते साल रक्तरंजित रहा कश्मीर, रिकार्ड तोड़ आतंकवादी ढेर

02 Jan 2019 | 12:24 PM

नयी दिल्ली 02 जनवरी (वार्ता) लगभग तीन दशकों से आतंकवाद से जूझ रहे जम्मू-कश्मीर में बीते वर्ष सेना आतंकवादियों पर भारी पड़ी और उसने जहां 250 से अधिक आतंकवादियों को ढेर किया वहीं आतंकियों से लोहा लेते हुए 90 से अधिक सुरक्षाकर्मी शहीद हुए तथा 37 नागरिक मारे गये।

 Sharesee more..
छत्तीसगढ़ में सत्ता के बदलाव के लिए याद किया जायेगा बीत रहा वर्ष

छत्तीसगढ़ में सत्ता के बदलाव के लिए याद किया जायेगा बीत रहा वर्ष

31 Dec 2018 | 12:58 PM

रायपुर 31 दिसम्बर(वार्ता)बीत रहा यह वर्ष छत्तीसगढ़ में 15 वर्षो से सत्ता पर काबिज रही भारतीय जनता पार्टी की विदाई एवं विपक्ष में बैठी कांग्रेस के दो तिहाई से भी अधिक बहुमत हासिल कर सत्ता में जोरदार वापसी के लिए याद किया जायेगा।

 Sharesee more..
बुंदेलखंड में होने लगी विकास की सुगबुगाहट

बुंदेलखंड में होने लगी विकास की सुगबुगाहट

30 Dec 2018 | 4:20 PM

झांसी 29 दिसम्बर (वार्ता) राजनीतिक इच्छाशक्ति के अभाव में दशकों से बदहाली का दंश झेलने वाले बुंदेलखंड में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेतृत्व वाली मौजूदा केंद्र और प्रदेश सरकार की महत्वाकांक्षी योजनाओं से विकास की सुगबुगाहट शुरू हो चुकी है हालांकि पृथक बुंदेलखंड राज्य की मांग को लेकर आंदोलनरत एक तबका अब भी सरकार की योजनाओं से संतुष्ट नहीं दिखता है।

 Sharesee more..
image