Monday, Oct 14 2019 | Time 14:03 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • राजस्थान में अब पार्षद चुनेंगे नगर निकाय प्रमुख
  • विवादित स्थल पर दीपोत्सव के लिये अब अदालत जायेंगे साधु
  • जिलों में भी होगी पेयजल की गुणवत्ता की जांच :पासवान
  • अफगानिस्तान में हवाई हमले में नौ आतंकवादी ढेर
  • लगातार दूसरे दिन स्थिर रहे पेट्रोल-डीजल के दाम
  • निराला के कहने पर बॉम्बे टॉकीज का प्रस्ताव ठुकराया गिरिजा कुमार माथुर ने
  • सोनिया के लिए अभद्र टिप्पणी पर माफी मांगे खट्टर : कांग्रेस
  • विहिप को नहीं मिली विवादित परिसर में दीपोत्सव की मंजूरी
  • स्वर्णकार पर हमला कर चार लाख रुपए एवं सोना लूटा
  • मोबाइल पर नवंबर से उपलब्ध होगा इसरो का ‘नाविक’
  • सितंबर में थोक मुद्रास्फीति 0 33 प्रतिशत पर
  • बंटी और बबली के सीक्वल में काम करेंगे माधवन
  • बंटी और बबली के सीक्वल में काम करेंगे माधवन
भारत


12वीं सदी की बुद्ध की प्रतिमा संस्कृति मंत्री को सौंपा

12वीं सदी की बुद्ध की प्रतिमा संस्कृति मंत्री को सौंपा

नयी दिल्ली, 17 सितंबर (वार्ता) केन्द्रीय वित्त एवं कंपनी मामलों की कंपनी निर्मला सीतारमण ने 57 वर्ष पूर्व चोरी हुयी और ब्रिटेन में एक नीलामी के दौरान बरामद की गयी 12वीं सदी की भगवान बुद्ध की प्रतिमा को संस्कृति मंत्री प्रह्लाद पटेल को सौंप दिया है।

भूमिपसारा मुद्रा वाली यह प्रतिमा 57 वर्ष पूर्व अगस्त 1961 में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के नालंदा स्थित संग्रहालय स्थल से चोरी हुयी 19 कांस्य प्रतिमाओं में शामिल थी। पिछले वर्ष के प्रारंभ में लंदन में एक डीलर द्वारा आयोजित नीलामी में यह प्रतिमा देखी गयी थी। इसकी सूचना मिलने के बाद राजस्व सतर्कता निदेशालय के लंदन स्थित भारतीय उच्चायोग में पदस्थ अधिकारी ने इस मुद्दे को भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण, यूके सीमा शुल्क और लंदन मेट्रोपॉलिटन पुलिस के समक्ष रखा था। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण इस संबंध में वर्ष 1961 में दर्ज प्राथमिकी और अन्य साक्ष्य पेश किये जिसके बाद संग्रहालयों की अंतरराष्ट्रीय परिषद ने प्रतिमा की समीक्षा की और यह पुष्टि की कि यह वर्ष 1961 में नालंदा से चोरी हुयी प्रतिमा हर है।

इसके बाद इस प्रतिमा को स्वदेश लाने की प्रक्रिया शुरू हुयी और अंतत: इस प्रतिमा को भारत जाया जा सका।

इस प्रतिमा को संस्कृति मंत्री को सौंपे जाने के दौरान राजस्व सचिव अजय भूषण पांडेय, केन्द्रीय अप्रत्यक्ष कर एवं सीमा शुल्क बोर्ड, संस्कृति मंत्रालय और भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

शेखर.श्रवण

वार्ता

image