Sunday, May 31 2020 | Time 14:50 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • असम में भीड़ द्वारा पीट-पीट कर युवक की हत्या
  • तमिलनाडु में लॉकडाउन 30 जून तक के लिए बढ़ा, कुछ प्रतिबंधों में ढील
  • नमस्ते ट्रंप कार्यक्रम के कारण फैला कोरोनाः राउत
  • तीन सप्ताह बाद उछला शेयर बाजार, सेंसेक्स 1751 अंक चमका
  • मणिपुर में कोरोना संक्रमितों की संख्या 64 हुई
  • भावनगर में ट्रैक्टर में लगी आग, तीन किसानों की मौत
  • कोल्हापुर में कोरोना के छह नए मामले
  • लॉकडाउन में फोटोग्राफर के कैमरा का शटर हुआ ‘लॉक’
  • मार्च 24 के बाद देश में आया बड़ा बदलाव : कांग्रेस
  • कैमूर में वज्रपात से एक व्यक्ति की मौत
  • कैमूर में आंधी में मकान का छज्जा गिरने से बच्ची की दबकर मौत
  • कैमूर में वाहनों से लूटपाट करने वाले सात लुटेरे गिरफ्तार
  • लखीसराय में सड़क दुर्घटना में ग्रामीण की मौत
  • लखीसराय में ट्रक के पलटने से खलासी की मौत
  • धीरे-धीरे बढ़ रही है घरेलू उड़ानों की संख्या
राज्य » उत्तर प्रदेश


इटावा जेल में 45 महिला कैदियों ने रखा करवाचौथ व्रत

इटावा जेल में 45 महिला कैदियों ने रखा करवाचौथ व्रत

इटावा , 17 अक्टूबर (वार्ता) उत्तर प्रदेश की इटावा जिला जेल में निरूद्ध 45 महिला कैदियों ने गुरूवार को पति की दीर्घायु की कामना करते हुये करवा चौथ का व्रत रखा। जेल प्रशासन ने कैदियों के लिए पूजा के सभी इंतजाम किये थे।

जेल अधीक्षक राजकिशोर सिंह ने बताया कि जिला जेल मे 100 महिलाएं कैद है जिनमे 45 महिलाओं में आज करवा चौथ का व्रत रखा। जिन महिला कैदियों ने करवा चैथ का व्रत रखा हुआ है उनके लिये पूजा सामग्री के तौर पर जेल प्रशासन ने करवा, सिरकी, समेत अन्य सामग्री का प्रबंध कर दिया है।

जेल के सभी बंदियों के लिए विशेष तौर से कडी-भात बनवाया गया था और महिलाओं के लिए कडी भात के साथ पूडी सब्जी भी बनवाई गई थी। जिला जेल मे बंदियो से मुलाकात को वक्त मुर्करर किया गया । इसी कडी मे ढेर सारी महिलाए बंदी पतियो से मिलने से जेल पहुंची। जेल गेट पर लंबी लंबी लाइनो के माध्यमो से उन्होने काफी वक्त इंतजार भी किया। उधर बंदी महिलाओ के पतियो ने भी उनसे मुलाकात करके उनका हाल चाल लिया।

उन्होंने बताया कि यह पहला मौका है जब इटावा जेल में महिला कैदियो ने करवाचैथ का व्रत इतनी बडी तादात में रखा है । इटावा जिला जेल ब्रिटिश कालीन है । जिस समय जेल बनकर तैयार हुई थी, उस समय इस जेल में बंदियों की क्षमता 610 की थी । लेकिन वर्तमान में यहां पर 1900 से अधिक बंदी निरुद्ध हैं । प्रतिदिन जेल में बंदियों की संख्या घटती बढती रहती है ।

सं प्रदीप

वार्ता

image