Saturday, Jul 20 2024 | Time 15:27 Hrs(IST)
image
राज्य » अन्य राज्य


तेलंगाना में 64 प्रतिशत मतदान

तेलंगाना में 64 प्रतिशत मतदान

हैदराबाद, 30 नवंबर (वार्ता) तेलंगाना विधानसभा चुनाव में गुरुवार को कुछ छिटपुट घटनाओं को छोड़कर मतदान शांतिपूर्ण रहा और राज्य के करीब 64 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया।

एक चुनाव अधिकारी ने बताया कि मतदान के समापन के निर्धारित समय शाम पांच बजे तक कुल 3.26 करोड़ मतदाताओं में से 63.94 प्रतिशत मतदाता अपने मताधिकार को इस्तेमाल करने मतदान केंद्र पर पहुंचे। राज्य में कुल 119 निर्वाचन क्षेत्रों में से हालांकि 13 नक्सलवाद प्रभावित सीटों पर मतदान एक घंटा पहले (चार बजे) समाप्त हो गया था।

चुनाव अधिकारी ने मतदान के अंतिम आंकड़े बढ़ने की संभावना जतायी है।

गौरतलब है कि 2018 में राज्य विधानसभा चुनाव में 73 प्रतिशत मतदान हुआ था। इस बार मतदान प्रतिशत पिछले विधानसभा चुनाव के तुलना में कम हुआ है। अंतिम मतदान प्रतिशत आने के बाद स्थिति स्पष्ट हो सकेगी।

तेलंगाना के मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) विकास राज ने कहा, “ विभिन्न स्थानों पर एक या दो छोटी-मोटी झड़पों को छोड़कर मतदान कुल मिलाकर शांतिपूर्ण रहा।”

सीईओ राज ने बताया कि दो जगहों पर तकनीकी खराबी के कारण ईवीएम बदली गयीं। उन्होंने कहा कि उनके कार्यालय को भारत राष्ट्र समिति (बीआरएस) एमएलसी के. कविता और अन्य राजनीतिक नेताओं के खिलाफ शिकायतें मिलीं, जिन्हें संबंधित जिला चुनाव अधिकारियों को उनकी रिपोर्ट मांगने के लिये भेजा गया था।

उन्होंने कहा, “ हमें सुश्री कविता के खिलाफ एक शिकायत मिली है, जिसमें कहा गया है कि उन्होंने आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन किया है। हमने विस्तृत रिपोर्ट के लिये शिकायत को संबंधित जिला चुनाव अधिकारी (डीईओ) के पास भेज दिया है। हमें अन्य नेताओं के खिलाफ भी शिकायतें मिली हैं। ऐसी सभी शिकायतें डीईओ को उनके जवाब

के लिये भेज दी गयी हैं।”

हैदराबाद में पुलिस ने आदर्श आचार संहिता (एमसीसी) का उल्लंघन करने के लिये एमबीटी याकूतपुरा के उम्मीदवार अमजेदुल्ला खान और एआईएमआईएम नेता यासर अराफात के खिलाफ कार्रवाई करते हुये उन्हें कुछ समय के लिए हिरासत में लिया और मामले दर्ज किये। श्री अराफात को कथित तौर पर कुछ लोगों से मतदाता सूची छीनने के बाद हिरासत में लिया गया था। बाद में दोनों को रिहा कर दिया गया।

केंद्रीय मंत्री और तेलंगाना भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) अध्यक्ष जी किशन रेड्डी ने निर्वाचन आयोग और सीईओ को पत्र लिखकर बीआरएस उम्मीदवारों और उनके कार्यकर्ताओं पर 'चुनावी कदाचार' का आरोप लगाया है। रिपोर्टों में कहा गया है कि जनगांव निर्वाचन क्षेत्र में बूथ संख्या 244 पर उस समय तनाव व्याप्त हो गया जब बीआरएस-कांग्रेस-भाजपा के बीच झड़प हो गयी। कार्यकर्ताओं को तितर-बितर करने के लिये पुलिस को हल्का लाठीचार्ज करना पड़ा।

इसके अलावा निज़ामाबाद जिले के बोधन टाउन में बीआरएस और कांग्रेस नेताओं के बीच झड़प हुई, जिसके बाद पुलिस को हस्तक्षेप करना पड़ा। इब्राहिमपट्टनम निर्वाचन क्षेत्र के खानापुर गांव में पुलिस ने बीआरएस और कांग्रेस कार्यकर्ताओं के भिड़ने पर उन पर हल्का लाठीचार्ज किया। कुछ पार्टी कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया गया और कुछ मौके से फरार होने में सफल रहे।

राज्य में व्यापक एवं कड़े सुरक्षा व्यवस्था के बीच एकल चरण में मतदान शांतिपूर्ण ढंग से सम्पन्न हुआ। शहरी केंद्रों की तुलना में ग्रामीण इलाकों में मतदाताओं में अधिक उत्साह देखा गया, जहां मतदान केन्द्रों के बाहर मतदाताओं को अपने मताधिकार का इस्तेमाल करने के लिए लम्बी कतारों में देखा गया।

मुख्यमंत्री के.चंद्रशेखर राव, मंत्री, विभिन्न राजनीतिक दलों के नेता और नौकरशाह अपने परिवारों के साथ अपने-अपने क्षेत्र के मतदान केन्द्रों में मताधिकार का इस्तेमाल करने

पहुंचे। इसके अलावा मेगास्टार चिरंजीवी सहित कई प्रसिद्ध फिल्मी हस्तियों ने भी हैदराबाद में मतदान किया।

राज्य विधानसभा चुनाव में अपनी किस्मत अजमाने वाले 2290 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला अन्य चार अन्य राज्यों छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, मिजोरम और राजस्थान के साथ तीन दिसंबर को आयेगा। इन चार राज्यों में पिछले कुछ हफ्तों के दौरान विधानसभा चुनाव हुये थे।

उप्रेती.श्रवण

वार्ता

More News
लोपार तूफान के कारण ओडिशा में और अधिक बारिश के आसार

लोपार तूफान के कारण ओडिशा में और अधिक बारिश के आसार

20 Jul 2024 | 12:12 AM

भुवनेश्वर, 19 जुलाई (वार्ता) उत्तर-पश्चिम और उससे सटे पश्चिम-मध्य बंगाल की खाड़ी के ऊपर बना कम दबाव का क्षेत्र शुक्रवार को दक्षिण ओडिशा और उत्तरी आंध्र प्रदेश तट के क्षेत्र में एक दबाव क्षेत्र में बदल गया।

see more..
कानून-प्रवर्तन एजेंसियों के अलावा किसी को प्रवासी श्रमिकों के कागजात की जांच करने का अधिकार नहीं: संगमा

कानून-प्रवर्तन एजेंसियों के अलावा किसी को प्रवासी श्रमिकों के कागजात की जांच करने का अधिकार नहीं: संगमा

20 Jul 2024 | 12:09 AM

शिलांग, 19 जुलाई (वार्ता) मेघालय के मुख्यमंत्री कॉनराड संगमा ने शुक्रवार को दोहराया कि कानून-प्रवर्तन एजेंसियों को छोड़कर, राज्य में प्रवासी श्रमिकों के कागजात की जांच करने का अधिकार किसी को नहीं है। हालांकि खासी छात्र संघ (केएसयू) ने कहा कि वह राज्य के बाहर से आए श्रमिकों के दस्तावेजों की जांच जारी रखेगी।

see more..
image