Thursday, Jul 9 2020 | Time 11:22 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सारण में अपराधियों ने व्यवसायी को मारी गोली
  • रामगढ़ में सेना का वाहन दुर्घटनाग्रस्त, एक जवान की मौत, दो गंभीर
  • कुशीनगर हवाई अड्डा बना अंतरराष्ट्रीय
  • मुर्मू ने की भाजपा नेता, परिवार की हत्या की निंदा
  • अभी भी हेकड़ी नहीं गयी विकास दुबे की
  • रोहतास में मकान गिरने से तीन लोगों की दबकर मौत, सात घायल
  • पेट्रोल-डीजल के दाम स्थिर
  • शिवराज ने योगी आदित्यनाथ से फोन पर की बात
  • विकास दुबे पर पूरी निगाह रखी जा रही थी - मिश्रा
  • राहुल ने चित्रकूट में नाबालिगों के साथ हैवानियत पर जताया रोष
  • विकास दुबे मध्यप्रदेश के उज्जैन से गिरफ्तार
  • रामगढ़ में सेना का वाहन दुर्घटनाग्रस्त, एक जवान की मौत, दो गंभीर
  • देश में कोरोना के रिकॉर्ड 24,879 मामले, संक्रमितों की संख्या 7 67 लाख के पार
  • मेक्सिको में कोरोना से एक दिन में 782 की मौत, सात हजार संक्रमित
खेल


8 दिन में तैयार होती है एक एसजी गुलाबी गेंद

8 दिन में तैयार होती है एक एसजी गुलाबी गेंद

नयी दिल्ली, 19 नवंबर (वार्ता) भारत और बंगलादेश के बीच होने वाले ऐतिहासिक डे-नाइट टेस्ट के लिये तैयारियां जोरों पर है लेकिन इसके बीच सभी की निगाहें उन एसजी गुलाबी गेंदों पर लगी हैं जिन्हें खास प्रक्रिया और आम गेंदों की तुलना में कई दिनों की मेहनत के बाद तैयार किया जाता है।

भारत और बंगलादेश की टीमें 22 नवंबर से ईडन गार्डन मैदान पर अपने क्रिकेट इतिहास के पहले डे-नाइट टेस्ट को खेलने उतरेंगे जिसे यादगार बनाने के लिये पूरे शहर को ही गुलाबी रंग में रंग दिया गया है। लेकिन डे-नाइट प्रारूप में इस्तेमाल की जाने वाली इन गुलाबी गेंदों के पीछे की कहानी भी काफी दिलचस्प है जिसे तैयार करने में नियमित कूकाबूरा गेंदों की तुलना में करीब आठ दिन का समय लगता है।

मेज़बान भारतीय टीम सीरीज़ के दूसरे और अंतिम डे-नाइट टेस्ट को एसजी गुलाबी गेंदों से खेलेगी जबकि नियमित टेस्ट में सफेद रंग की कूकाबूरा गेंदाें से खेला जाता है। एसजी गेंदें यानि की सैंसपेरिल्स ग्रीनलैंड्स क्रिकेट गेंदों को भारतीय खिलाड़ी खासा पसंद करते हैं और भारत में रणजी ट्रॉफी जैसा घरेलू टूर्नामेंट भी इन्हीं एसजी गेंदों से खेला जाता है।

एसजी ब्रांड उत्तरप्रदेश के मेरठ में वर्ष 1950 से ही इन गेंदों का निर्माण कर रहा है। गुलाबी गेंदों की बात करें तो यह नियमित गेंदों की तुलना में काफी अलग है और इस एक गेंद को तैयार करने में कारीगरों को आठ दिन का समय लगता है जबकि आम गेंदें दो दिन में तैयार हो जाती हैं। इन गेंदों को मुख्य रूप से मशीनों के बजाय हाथों से तैयार किया जाता है और इसमें उपयोग होने वाला चमड़ा भी विदेश से ही आयात किया जाता है।

प्रीति

जारी वार्ता

More News
महिला विश्व कप फुटबॉल के एक साल पूरे होने पर होगी ऑनलाइन चर्चा

महिला विश्व कप फुटबॉल के एक साल पूरे होने पर होगी ऑनलाइन चर्चा

08 Jul 2020 | 11:36 PM

ज्यूरिख, 08 जुलाई (वार्ता) फीफा पिछले फ्रांस में हुये महिला फुटबॉल विश्व कप के एक साल पूरे होने के अवसर पर महिलाओं के लिए फुटबॉल के खेल में हुये विकास को लेकर विश्व के शीर्ष कोच और विशेषज्ञों के साथ गुरूवार को ऑनलाइन चर्चा करेगा।

see more..
रोहित शार्ट गेंदों को भी आसानी से खेलते हैं: हेजलवुड

रोहित शार्ट गेंदों को भी आसानी से खेलते हैं: हेजलवुड

08 Jul 2020 | 11:25 PM

नयी दिल्ली, 08 जुलाई (वार्ता) ऑस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज जोश हेजलवुड ने कहा है कि भारतीय बल्लेबाज रोहित शर्मा शार्ट गेंदों को बेहद आसानी से खेलने की क्षमता रखते हैं।

see more..
राष्ट्रमंडल खेल गांव में कोविड केयर सेंटर का उद्घाटन

राष्ट्रमंडल खेल गांव में कोविड केयर सेंटर का उद्घाटन

08 Jul 2020 | 11:06 PM

नयी दिल्ली, 08 जुलाई (वार्ता) राष्ट्रमंडल खेल गांव में दिल्ली सरकार की तरफ से बनाए गए 500 बेड के कोविड केयर सेंटर को शुरू किया गया है जिसमें गुरूवार से मरीजों को इलाज के लिए भेजा जाएगा।

see more..
इंग्लैंड की धीमी शुरुआत, एक विकेट पर 35

इंग्लैंड की धीमी शुरुआत, एक विकेट पर 35

08 Jul 2020 | 9:51 PM

साउथम्पटन, 08 जुलाई (वार्ता) इंग्लैंड ने वेस्ट इंडीज के खिलाफ पहले क्रिकेट टेस्ट के वर्षा और खराब रौशनी से बाधित पहले दिन चायकाल तक 17.4 ओवर में एक विकेट खोकर 35 रन बना लिए हैं।

see more..
एशिया कप रद्द कर दिया गया है: गांगुली

एशिया कप रद्द कर दिया गया है: गांगुली

08 Jul 2020 | 9:21 PM

नयी दिल्ली, 08 जुलाई (वार्ता) भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के अध्यक्ष सौरभ गांगुली ने एशिया कप 2020 के रद्द होने की घोषणा की है।

see more..
image