Sunday, Sep 23 2018 | Time 23:14 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • पाकिस्तान से बेहतरी की कोई उम्मीद नहीं: जनरल रावत
  • जयपुर के ट्रांसपोर्ट नगर क्षेत्र में झगड़े के बाद तनाव
  • मंडी जिले में जीप खाई में गिरी, तीन मरे, 12 घायल
  • मोदी सोमवार को सिक्किम हवाई अड्डा का करेंगे उद्घाटन: डॉ जितेंद्र सिंह
  • मानव तस्करी का प्रमुुुख केन्द्र बना पूर्वोतर: मीर
  • राहुल गांधी 27 और 28 को रीवा तथा सतना जिले के दौरे पर रहेंगे
  • रमन ने की आंध्र के विधायक और पूर्व विधायक की हत्या की निन्दा
  • क्रिकेट प्रतियोगिताओं में प्रतिनिधित्व करने वाले खिलाड़ियों के भत्तों में वृदि्ध
  • छोटा उदेपुर में नदी में डूबने से दो युवकों की मौत
  • जम्मू कश्मीर में 90:10 के अनुपात से होगा बीमा योजना के तहत भुगतान
  • कांग्रेस सभी वर्गों को लेकर चलती है साथ- पायलट
  • मुजफ्फरपुर के पूर्व महापौर और उनके चालक की हत्या
  • कायेस और महमूदुल्लाह के अर्धशतकों से बंगलादेश के 249
  • कायेस और महमूदुल्लाह के अर्धशतकों से बंगलादेश के 249
  • संंप्र्रग सरकार द्वारा शुरू की गई योजनाओं का श्रेय ले रहे हैं प्रधानमंत्री: जेना
दुनिया Share

मॉरीशस के बाद अब भारत में भी पाणिनि भाषा प्रयोगशाला खोलने का विचार

मॉरीशस के बाद अब भारत में भी पाणिनि भाषा प्रयोगशाला खोलने का विचार

(शिवाजी/अशोक उपाध्याय से)


गोस्वामी तुलसीदास नगर मॉरीशस 20 अगस्त (वार्ता) भारत सरकार का मॉरीशस की तरह अपने देश के सभी राज्यों में युवा पीढ़ी में हिंदी समेत अन्य भारतीय भाषाओं में पठन-पाठन के प्रति रूचि विकसित करने के उद्देश्य से पाणिनि भाषा प्रयोगशाला खोलने का विचार है।

विदेशी मंत्री सुषमा स्वराज ने 11वें विश्व हिंदी सम्मेलन में आये भारतीय मीडिया के प्रतिनिधियों से बातचीत के दौरान कहा कि केन्द्र सरकार का देश के हर राज्य में पाणिनि प्रयोगशाला खोलने का विचार है ताकि युवा पीढ़ी हिन्दी, तेलगु, तमिल, कन्नड़, मलयालम समेत अन्य भारतीय भाषाओं को सीख सकें। उन्होंने कहा कि किसी भी भाषा को सीखने के लिए किसी को बाध्य करना या दबाव बनाना सही नहीं है। लोगों में स्वत: भाषा सीखने की रूचि होनी चाहिए ।

श्रीमती स्वराज ने कहा कि देश में भाषा-शिक्षण से सम्बन्धित नीति ‘त्रिभाषा सूत्र’ बनायी गयी थी जिसमें हिन्दीभाषी राज्यों में दक्षिण की कोई भाषा पढ़ाने के संबंध में संस्तुति की गयी। इसके तहत कई हिन्दीभाषी राज्यों ने दक्षिण की एक भाषा को अपने राज्य में पढ़ाने के लिए चुना भी था लेकिन यह प्रयोग सफल नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि यह अच्छा होगा कि हिन्दीभाषी राज्यों के लोग दक्षिण की कोई भाषा सीखें और दक्षिण भारत के लोग भी अपनी मातृभाषा के साथ हिन्दी समेत अन्य भारतीय भाषाओं को सीखें। इसमें पाणिनि भाषा प्रयोगशाला काफी मददगार साबित हो सकती है।

गौरतलब है कि त्रिभाषा सूत्र को वर्ष 1956 में अखिल भारतीय शिक्षा परिषद् ने इसे मूल रूप में अपनी संस्तुति के रूप में मुख्यमंत्रियों के सम्मेलन में रखा था और मुख्यमंत्रियों ने इसका अनुमोदन भी कर दिया था। वर्ष 1968 राष्ट्रीय शिक्षा नीति में इसका समर्थन किया गया था और वर्ष 1968 में ही पुन: अनुमोदित कर दिया गया था। वर्ष 1992 में संसद ने इसके कार्यान्वयन की संस्तुति कर दी थी। यह संस्तुति राज्यों के लिए बाध्यता मूलक नहीं थी क्योंकि शिक्षा राज्यों का विषय है। वर्ष 2000 में यह देखा गया कि कुछ राज्यों में हिन्दी और अंग्रेजी के अतिरिक्त इच्छानुसार संस्कृत, अरबी, फ्रेंच, तथा पोर्चुगीज भी पढ़ाई जाती हैं। त्रिभाषा सूत्र में पहली, शास्त्रीय भाषाएं जैसे संस्कृत, अरबी, फारसी। दूसरी राष्ट्रीय भाषाएं और तीसरी आधुनिक यूरोपीय भाषाएं शामिल हैं। इन तीनों श्रेणियों में किन्हीं तीन भाषाओं को पढ़ाने का प्रस्ताव है। संस्तुति यह भी है कि हिन्दीभाषी राज्यों में दक्षिण की कोई भाषा पढ़ाई जानी चाहिए।

More News

23 Sep 2018 | 2:30 PM

 Sharesee more..
चीन ने अमेरिका के साथ सैन्य वार्ता  रद्द की

चीन ने अमेरिका के साथ सैन्य वार्ता रद्द की

23 Sep 2018 | 10:40 AM

शंघाई 23 सितम्बर (रायटर) चीन ने अमेरिका के साथ सैन्य वार्ता रद्द कर दी है। अमेरिका ने चीन के रूस से लड़ाकू जेट विमान और मिसाइल खरीदने के कारण उसकी एक सैन्य एजेंसी को प्रतिबंधित कर दिया है जिससे नाराज होकर चीन ने अमेरिकी राजदूत को तलब किया है और सैन्य समझौता रद्द करने की घोषणा की है।

 Sharesee more..
ईरान में हो सकती है क्रांति: गुलियानी

ईरान में हो सकती है क्रांति: गुलियानी

23 Sep 2018 | 10:34 AM

न्यूयाॅर्क 23 सितंबर (रायटर) अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के निजी वकील रूडी गुलियानी ने शनिवार को कहा कि अमेरिकी प्रतिबंधों के कारण ईरान में पैदा हुआ आर्थिक संकट एक ‘सफल क्रांति’ को जन्म दे सकता है।

 Sharesee more..
image