Thursday, May 28 2020 | Time 21:21 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • झांसी पहुंचे साढ़े चौंतीस हजार श्रमिकों के रोजगार के लिए प्रशासन ने किया मंथन
  • पेरासिटामोल का निर्यात खुला
  • सेना ने स्कूल को बनाया 100 बिस्तरों वाला कोविड केयर सेंटर
  • कोविड- खिलाफ सफलता प्राप्ति के लिए विश्व और राष्ट्रीय स्तर पर प्रयास
  • सूडान में गिद्ध की भेंट चढ़ती बच्ची को बचाने की बजाय फोटो लेनेवाले कार्टर की तरह याचिकाकर्ता : मेहता
  • कोलकाता हवाई अड्डे पर 1745 यात्रियों का आगमन
  • सुपौल में व्यवसायी लूटकांड का उद्भेदन, दो गिरफ्तार
  • बिहार सरकार का निजी लैब में कोरोना जांच की अनुमति देना स्वागतयोग्य : एसोसिएशन
  • आत्मनिर्भर योजना के तहत नई हीट सीम मशीन लॉन्च
  • शिवराज ने किया कमलनाथ के दावे पर पलटवार
  • बंगलादेश में सख्त दिशा-निर्देशों के बीच शुरू हाेंगी आर्थिक गतिविधियां
  • कोरोना में जरूरतमंदों की मदद कर रहे हैं पावरलिफ्टर गौरव
  • कोरोना : सबसे ज्यादा मामले वाला नवाँ देश बना भारत
  • असम में कोरोना वायरस के 73 नये मामले, 856 संक्रमित
राज्य


एआईपीईएफ ने जम्मू कश्मीर राज्यपाल से बिजली विभाग का निगमीकरण न करने का अनुरोध किया

एआईपीईएफ ने जम्मू कश्मीर राज्यपाल से बिजली विभाग का निगमीकरण न करने का अनुरोध किया

चंडीगढ़, 22 सितंबर (वार्ता) आल इंडिया पॉवर इंजीनियर्स फेडरेशन (एआईपीईएफ) ने जम्मू कश्मीर के राज्यपाल से प्रदेश के बिजली विभाग का निगमीकरण न रिपीट न करने का आज अनुरोध किया।

एआईपीईएफ के यहां जारी बयान के अनुसार संस्था ने राज्यपाल को लिखे पत्र में अनुरोध किया है कि बिजली विभाग अधिकारियों को निर्देश दें कि बिजली विभाग का पुनर्गठन किया जाये ताकि सभी इकाइयां (वितरण, पारेषण और उत्पादन) एक कंपनी के रूप में बनी रहें जैसा कि हिमाचल प्रदेश में है। एआईपीईएफ के अनुसार यह प्रदेश के हित में होगा क्योंकि इससे बेहतर समन्वय के साथ अच्छी उपभोक्ता सेवा दी जा सकती है।

एआईपीईएफ के अध्यक्ष शैलेंद्र दुबे ने अपने पत्र में लिखा है कि कई राज्यों में एक अलग समन्वय इकाई स्थापित की गई है जो एकाधिक डिस्कॉम को नियंत्रित कर रही है और यह अधिक प्रभावी, समन्वयकारी और अर्थ की दृष्टि से भी सही होगा कि एक इकाई में वितरण, उत्पादन और पारेषण के कार्यों को समाहित किया जाए।

महेश विजय

वार्ता

More News
ग्रामीणों को मिलेगा आबादी भूमि का मालिकाना हक - चौहान

ग्रामीणों को मिलेगा आबादी भूमि का मालिकाना हक - चौहान

28 May 2020 | 9:19 PM

भोपाल, 28 मई (वार्ता) मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि इतिहास में पहली बार ग्रामीणों को ‘स्वामित्व योजना’ में आबादी भूमि का मालिकाना हक मिलेगा। इस योजना के प्रथम वर्ष में प्रदेश के 10 जिलों का चयन किया गया है।

see more..
image