Monday, Jul 6 2020 | Time 18:10 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • पूर्णबन्दी उल्लंघन पर वसूला गया सवा छह करोड़ का जुर्माना
  • उत्तराखंड सिख फेडरेशन ने एसपी सिटी को किया सम्मानित
  • उप्र में कोरोना के मद्देनजर जारी एडवाइजरी का उल्लंघन,22,40,542 का चालान
  • केदारनाथ धाम में विभिन्न कार्यों के लिये एमओयू हस्ताक्षरित
  • इस सीजन में दो करोड़ पौधे लगाये जायेंगे : त्रिवेंद्र
  • सोनाली पेशी पर दूसरी बार नहीं पहुंची अदालत, 16 को फिर सुनवाई
  • ऑस्ट्रेलिया में कोरोना प्रतिबंधों में ढील देने में सतर्कता की अपील
  • ‘कोरोना’ के साये सावन, श्री काशी विश्वनाथ मंदिर में नहीं उमड़े श्रद्धालु
  • सोनीपत में प्रेमी से मिलकर करा दी पति की हत्या
  • मुजफ्फरनगर के खतौली इलाके में नवविवाहिता की हत्या, प्रेमी पर शक
  • हांगकांग सुरक्षा कानून की गलत व्याख्या के लिए ब्रिटेन मीडिया की निंदा
  • सारण में ट्रक की चपेट में आने से वृद्ध की मौत
  • ट्रेनों की संख्या बढ़ाने पर फैसला इसी महीने
  • मोटोजीपी विश्व चैंपियनशिप का प्रसारण यूरोस्पोर्ट पर
  • मोटोजीपी विश्व चैंपियनशिप का प्रसारण यूरोस्पोर्ट पर
Business


एयर इंडिया विनिवेश : सरकार ने हितधारकों को किया आश्वस्त

एयर इंडिया विनिवेश : सरकार ने हितधारकों को किया आश्वस्त

नयी दिल्ली 14 जनवरी (वार्ता) सरकार ने कहा है कि एयर इंडिया के विनिवेश को लेकर हितधारकों को चिंतित होने की आवश्यकता नहीं है और विनिवेश प्रक्रिया के दौरान एयरलाइन का निर्बाध परिचालन सुनिश्चित किया जायेगा।
सरकारी विमान सेवा कंपनी के विनिवेश प्रक्रिया के तहत इसके लिए विशेष रूप से गठित मंत्रियों के समूह ने आरंभिक सूचना दस्तावेज और बोली की शर्तों को मंजूरी दे दी है। आरंभिक सूचना दस्तावेज जारी कर बोली प्रक्रिया जल्द शुरू किये जाने की उम्मीद है।
नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने आज ट्वीट कर कहा “मंत्रालय एक बार फिर इस बात को दुहराना चाहता है कि विनिवेश की दिशा में आगे बढ़ने के साथ सरकार यह सुनिश्चित करेगी कि एयर इंडिया का परिचालन निर्बाध रूप से चलता रहे और इसमें सुधार हो। किसी भी हितधारक को चिंता करने की कोई आवश्यकता नहीं है।”
इससे पहले एयर इंडिया के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक अश्विनी लोहानी भी हितधारकों को आश्वस्त कर चुके हैं कि विनिवेश प्रक्रिया के कारण सरकारी विमान सेवा कंपनी का परिचालन प्रभावित नहीं होने दिया जायेगा और उचित मौका मिलने पर कंपनी अपने नेटवर्क तथा बेड़े का विस्तार भी करेगी।
उल्लेखनीय है कि एयर इंडिया की देनदारी बढ़कर 80 हजार करोड़ रुपये के पार पहुँच चुकी है तथा उसे पिछले साल रोजाना 22 से 25 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में भी उसके विनिवेश का प्रयास किया गया था, लेकिन उस समय कंपनी को खरीदने के लिए कोई खरीददार सामने नहीं आया। पिछले साल दुबारा सत्ता में आने पर पहले ही बजट में सरकार ने यह स्पष्ट कर दिया कि वह एक बार फिर एयर इंडिया के विनिवेश का प्रयास करेगी।
अजीत
वार्ता

More News
रुपया दो पैसे फिसला

रुपया दो पैसे फिसला

06 Jul 2020 | 3:18 PM

मुंंबई 06 जुलाई (वार्ता) कच्चे तेल की मजबूती के दबाव में अंतरबैंकिंग मुद्रा बाजार में रुपया आज दो पैसे फिसलकर 74.68 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ।

see more..
image