Wednesday, Sep 26 2018 | Time 08:37 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • फिनलैंड में परमाणु ऊर्जा संयंत्र बनाने के लिए शीघ्र मिलेगा लाइसेंस
  • चुनाव कराना राष्ट्रीय हित में नहीं: थेरेसा मे
  • तेलंगाना में रिश्वत लेने के मामले अधिकारी समेत दो गिरफ्तार
  • टाई रहा भारत और अफगानिस्तान का रोमांचक मुकाबला
  • टाई रहा भारत और अफगानिस्तान का रोमांचक मुकाबला
  • जम्मू निकाय चुनाव के लिए 815 उम्मीदवारों ने भरे पर्चे
  • पश्चिमी पाकिस्तान का शरणार्थी एक प्रतिनिधि मंडल जितेंद्र सिंह से मिला
मनोरंजन Share

रोते हुये आते है सब, हंसता हुआ जो जायेगा

रोते हुये आते है सब, हंसता हुआ जो जायेगा

जन्मदिन 13 जुलाई के अवसर पर

मुंबई 12 जुलाई (वार्ता) वर्ष 1973 में प्रदर्शित सुपरहिट फिल्म जंजीर जिससे अमिताभ बच्चन एंग्री यंग और सुपरस्टार बनकर उभरे, के लिये प्रकाश मेहरा ने अमिताभ को एक रुपया साइनिंग अमाउंट दिया था।

उत्तर प्रदेश के बिजनौर में 13 जुलाई 1939 को जन्मे प्रकाश मेहरा अपने करियर के शुरूआती दौर में अभिनेता बनना चाहते थे। साठ के दशक में अपने इसी सपने को पूरा करने के लिये वह मुंबई आ गये। उन्होंने अपने करियर

की शुरूआत बतौर उजाला और प्रोफेसर जैसी फिल्मों में काम किया। वर्ष 1968 में प्रदर्शित फिल्म हसीना मान जायेगी बतौर निर्देशक प्रकाश मेहरा की पहली फिल्म थी। इस फिल्म में शशि कपूर ने दोहरी भूमिका निभायी थी। वर्ष 1973 में प्रदर्शित फिल्म जंजीर न सिर्फ प्रकाश मेहरा बल्कि अमिताभ के करियर के लिये मील का पत्थर सबित हुयी। बताया जाता है। धर्मेन्द्र और प्राण के कहने पर प्रकाश मेहरा ने अमिताभ को जंजीर में काम करने का मौका दिया और साइंनिग अमाउंट एक रूपया दिया था।

प्रकाश मेहरा अमिताभ को प्यार से ‘लल्ला’ कहकर बुलाते थे। जंजीर की सफलता के बाद अमिताभ और प्रकाश मेहरा की सुपरहिट फिल्मों का कारंवा काफी समय तक चला। इस दौरान लावारिस, मुकद्दर का सिकंदर, नमक हलाल, शराबी, हेराफेरी जैसी कई फिल्मों ने बॉक्स ऑफिस पर सफलता का परचम लहराया। प्रकाश मेहरा एक सफल फिल्मकार के अलावा गीतकार भी थे और उन्होंने अपनी कई फिल्मों के लिये सुपरहिट गीतों की रचना की थी। इन गीतों में ..ओ साथी रे तेरे बिना भी क्या जीना.लोग कहते है मैं शराबी हूँ..जिसका कोई नहीं, उसका तो खुदा है यारों, जवान जाने मन हसीन दिलरूबा, जहां चार यार मिल जाये वहां रात हो गुलजार.इंतहा हो गयी इंतजार की.दिल तो है दिल .दिल का ऐतबार क्या कीजे.दिलजलो का दिलजला के क्या मिलेगा दिलरूबा.दे दे प्यार दे.और इस दिल में क्या रखा है और अपनी तो जैसे तैसे कट जायेगी और रोते हुये आते है सब हंसता हुआ जो जायेगा..आदि शामिल है।

बताया जाता है मुंबई में अपने संघर्ष के दिनों में प्रकाश मेहरा को अपने जीवन यापन के लिये केवल पचास रुपये में गीतकार भरत ब्यास को, तुम गगन के चंद्रमा हो, मैं धरा की धूल हूं, गीत बेचने के लिये विवश होना पड़ा था। प्रकाश मेहरा ने अपने सिने करियर में 22 फिल्मों का निर्देशन और 10 फिल्मों का निर्माण किया। वर्ष 2001 में प्रदर्शित फिल्म मुझे मेरी बीबी से बचाओ प्रकाश मेहरा के सिने करियर की अंतिम फिल्म साबित हुयी। फिल्म टिकट खिड़की पर बुरी तरह से नकार दी गयी। प्रकाश मेहरा अपने जिंदगी के अंतिम पलों में अमिताभ को लेकर ..गाली.. नामक एक फिल्म बनाना चाह रहे थे लेकिन उनका यह सपना अधूरा ही रहा और अपनी फिल्म के जरिये दर्शकों का भरपूर मनाेरंजन करने वाले प्रकाश मेहरा 17 मई 2009 को इस दुनिया को अलविदा कह गये।

प्रेम, यामिनी

वार्ता

More News
देवानंद को भी करना पड़ा था संघर्ष

देवानंद को भी करना पड़ा था संघर्ष

25 Sep 2018 | 11:57 AM

मुंबई 25 सितंबर (वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत में लगभग छह दशक से दर्शकों के दिलों पर राज करने वाले सदाबहार अभिनेता देवानंद को अदाकार बनने के ख्वाब को हकीकत में बदलने के लिए कड़ा संघर्ष करना पड़ा था।

 Sharesee more..
अक्षय के बाद अर्जुन कहेंगे सिंह इज किंग !

अक्षय के बाद अर्जुन कहेंगे सिंह इज किंग !

25 Sep 2018 | 11:45 AM

मुंबई 25 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता अर्जुन कपूर सुपरहिट फिल्म सिंह इज किंग के सीक्वल में काम करते नजर आ सकते हैं।

 Sharesee more..
साहिर का किरदार निभाने के लिये बेताब हैं अभिषेक बच्चन

साहिर का किरदार निभाने के लिये बेताब हैं अभिषेक बच्चन

25 Sep 2018 | 11:30 AM

मुंबई 25 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड के जूनियर बी अभिषेक बच्चन सिल्वर स्क्रीन पर दिवंगत गीतकार-शायर साहिर लुधियानवी का किरदार निभाने के लिये बेताब हैं।

 Sharesee more..

25 Sep 2018 | 11:24 AM

 Sharesee more..

25 Sep 2018 | 11:21 AM

 Sharesee more..
image