Wednesday, Nov 21 2018 | Time 21:23 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • कांग्रेस के नेता सत्ता का मक्खन खाने को बेकरार: तोमर
  • शिवराज ने पूछा, क्या यही है कांग्रेस का बदलाव
  • हिन्दू-मुसलमान को वोट में बांट रही है कांग्रेस: शिवराज
  • किसान आलू की फसल को झुलसा रोग एवं कीट से बचायें:राघवेन्द्र
  • नीतीश ने की चादरपोशी, बिहार में अमन, चैन के लिए दुआएं मांगी
  • असम में बंद के दौरान एक की मौत, तीन घायल
  • फेसबुक के सीईओ पद से हटने का इरादा नहीं: जुुुकरबर्ग
  • सर्विसेज के खिलाफ यूपी को उपयोगी बढ़त
  • देश में बैडमिंटन प्रतिभाओं की कमी नहीं : सायना
  • सैयद मोदी टूर्नामेंट : सायना, प्रणीत, कश्यप प्री क्वार्टर फाइनल में
  • केजरीवाल ने शहीद नरेंद्र सिंह के परिवार को दी एक करोड़ रुपये की सम्मान राशि
  • कमलनाथ के वीडियो पर विवाद
  • दुनिया भर में भारतीयों का डंका: राष्ट्रपति
  • केरल कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष एमआई शानवास का निधन
  • उत्तराखंड में हथियारों के साथ एक गिरफ्तार
भारत Share

खाद्य जरूरतों को पूरा करने के लिए सभी देश मिलकर काम करें : हरसिमरत

खाद्य जरूरतों को पूरा करने के लिए सभी देश मिलकर काम करें : हरसिमरत

नयी दिल्ली 11 सितम्बर (वार्ता) खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने विश्व की बढ़ती जनसंख्या के लिए खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए कृषि, तकनीक और खाद्य प्रसंस्करण के क्षेत्र में सभी देशों के मिलजुल कर काम करने पर जोर दिया है।

श्रीमती बादल ने यहाँ मंगलवार को वाणिज्य एवं उद्योग महासंघ फिक्की और खाद्य वस्तुओं की कम्पनी कारगिल की ओर से पोषण सुरक्षा को लेकर आयोजित सम्मेलन को सम्बोधित करते हुये कहा कि वर्ष 2050 तक विश्व की आबादी 9.5 अरब हो जायेगी। उस समय तक खाद्य वस्तुओं की माँग दोगुनी हो जायेगी। साथ ही दुनिया में हर छठा व्यक्ति भारतीय होगा।

उन्होंने कहा कि 2030 तक भारत, चीन और इंडोनिशया की आबादी विश्व की कुल आबादी का 65 प्रतिशत हो जायेगी। उस समय तक इन तीनों देशों में 85 प्रतिशत शहरीकरण हो जायेगा। गाँव से शहर में आने के बाद बढ़ते काम की वजह से लोगों के खानपान की आदतों में बदलाव आयेगा और वे प्रसंस्कृत खाद्य वस्तुएँ खाना पसंद करेंगे।

उन्होंने कहा कि ऐसी स्थिति में खाद्य पदार्थों की माँग पूरी करने के लिए सभी देशों को मिलकर काम करने की जरूरत होगी जिससे फसलों की भरपूर पैदावार हो। इसके साथ ही जल्द खराब होने वाली वस्तुओं को नष्ट होने से बचाने की तकनीक, खाद्य प्रसंस्करण की प्रौद्योगिकी और विकास के अन्य क्षेत्रों में दशों को मिलजुल कर काम करना होगा।

अरुण अजीत

जारी वार्ता

More News
नोटबंदी का रबी अभियान पर असर नहीं हुआ था :कृषि मंत्रालय

नोटबंदी का रबी अभियान पर असर नहीं हुआ था :कृषि मंत्रालय

21 Nov 2018 | 6:40 PM

नयी दिल्ली 21 नवम्बर (वार्ता) कृषि मंत्रालय ने स्पष्ट किया है कि 2016-17 में नोटबंदी का रबी अभियान पर विपरीत असर नहीं हुआ था। कृषि मंत्रालय ने मीडिया में नोटबंदी का किसानों पर हुए असर की खबर पर टिप्पणी करते हुए आज कहा कि उसका मत है कि रबी अभियान पर नोटबंदी का विपरीत असर नहीं हुआ था।

 Sharesee more..
टीआरएस सांसद से मिले राहुल

टीआरएस सांसद से मिले राहुल

21 Nov 2018 | 6:28 PM

नयी दिल्ली, 21 नवंबर (वार्ता) कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरए) से मंगलवार को इस्तीफा देने वाले लोकसभा सदस्य के विशेश्वरैया रेड्डी से आज यहां मुलाकात की।

 Sharesee more..
नवाचार परिषद् से एक हजार संस्थान जुड़े: जावड़ेकर

नवाचार परिषद् से एक हजार संस्थान जुड़े: जावड़ेकर

21 Nov 2018 | 6:04 PM

नयी दिल्ली, 21 नवंबर (वार्ता) देश में नवाचार को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने भारतीय नवाचार परिषद् का गठन किया है जिससे एक हज़ार उच्च शिक्षण संस्थानों को जोड़ा गया है।

 Sharesee more..
image