Friday, Apr 3 2020 | Time 00:33 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • उत्तराखंड के कोरोना के तीन नये मामलों की पुष्टि
  • वियतनाम में कोरोना मामले बढ़कर 227 हुए
लोकरुचि


तीन शिव मंदिरों के साथ अद्भूत त्रिभुज का निर्माण करता है अंबिका मंदिर

तीन शिव मंदिरों के साथ अद्भूत त्रिभुज का निर्माण करता है अंबिका मंदिर

छपरा, 26 मार्च (वार्ता) बिहार के सारण जिला मुख्यालय छपरा से लगभग 24 किलोमीटर पूर्व दिघवारा इलाके में अवस्थित अम्बिका स्थान मंदिर श्रद्धालुओं के लिए आस्था का केंद्र है जो भगवान शिव के विश्वप्रसिद्ध पशुपतिनाथ मंदिर, विश्वनाथ मंदिर और वैद्यनाथ धाम के साथ अद्भुत त्रिभुज का निर्माण करता है।

मंदिर के पुजारी सह मां अम्बिका स्थान ट्रस्ट के सचिव कामेश्वर तिवारी ने मंदिर की महिमा बताते हुए कहा कि इस मंदिर को यदि केंद्र बिन्दु माना जाता है तो इसके समान दूरी पर ही पड़ोसी देश नेपाल में स्थित काठमांडू का पशुपतिनाथ मंदिर, पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश का विश्वनाथ मंदिर और झारखंड के देवघर में मौजूद बाबा वैद्यनाथ धाम की दूरी एक समान है। अंबिका मंदिर इन सभी मंदिरों से दूरी बना कर एक त्रिभुज का निर्माण करती है।

इस मंदिर की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि यहां मिट्टी की पिंडी की पूजा मां जगत जननी दुर्गा के रूप में की जाती है। इस कारण यह सिद्धपीठ भक्तों के लिए हमेशा ही आस्था का केंद्र रहा है।

    प्रति वर्ष आश्विन और चैत्र मास में नवरात्र के अवसर पर यहां श्रद्धालुओं की भारी भीड़ होती है। भक्त अपने घर से यहां आकर नौ दिनों तक मंदिर में रहकर भी दुर्गा सप्तशती का पाठ एवं जप करते हैं।

पूरे साल मंदिर के पुजारियों के द्वारा सुबह एवं शाम आरती के पश्चात मंदिर का पट श्रद्धालुओं के लिए खोला जाता है, जिसमें आम भक्त हिस्सा लेते हैं। लेकिन नवरात्रि के अवसर पर इसमें मंदिर के पुजारियों के द्वारा ही मां अम्बिका की आरती की जाती है, जिसमें आम भक्त का प्रवेश वर्जित होता है।

इस मंदिर की विशेषता से प्रभावित होकर माननीय पटना उच्च न्यायालय के न्यायाधीश, बिहार में कार्यरत भारतीय प्रशासनिक एवं पुलिस सेवा के अधिकारियों के अलावा भारी संख्या में राजनेता समेत अन्य भक्तगण दूर-दूर से यहां मां अम्बिका से आशीर्वाद प्राप्त करने आते हैं।

वर्तमान समय में विश्वव्यापी कारोना वायरस के कारण मंदिर प्रबंधन समिति ने चैत्र नवरात्र के अवसर पर श्रद्धालुओं के लिए मंदिर परिसर को बंद रखने का निर्णय लिया है। मंदिर प्रबंधन समिति ने भक्तों से अपील की है कि वे इस नवरात्रि अपने घर से ही मां अम्बिका की पूजा अर्चना करें।

More News
यहां राजा राम को पुलिस हर रोज देती है सलामी

यहां राजा राम को पुलिस हर रोज देती है सलामी

01 Apr 2020 | 6:38 PM

ललितपुर 01 अप्रैल (वार्ता) बुंदेलखंड की अयोध्या के तौर पर प्रसिद्ध ओरछा दुनिया का ऐसा इकलौता मंदिर है जहां मर्यादा पुरूषोत्तम श्रीराम की पूजा राजा के रूप में होती है और स्थानीय पुलिस नियमित रूप से अपने राजा को सलामी देकर दिन की शुरूआत करती है।

see more..
थावे दुर्गा मंदिर में श्रद्धालुओं की मनोकामनाएं होती हैं पूरी

थावे दुर्गा मंदिर में श्रद्धालुओं की मनोकामनाएं होती हैं पूरी

31 Mar 2020 | 11:48 AM

गोपालगंज 31 मार्च (वार्ता) बिहार में गोपालगंज जिले के थावे दुर्गा मंदिर में सच्चे मन से पूजा-अर्चना करने वाले श्रद्धालुओं की मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

see more..
चंडिका मंदिर में मां सती के नेत्र की होती है पूजा

चंडिका मंदिर में मां सती के नेत्र की होती है पूजा

30 Mar 2020 | 12:10 PM

मुंगेर, 30 मार्च (वार्ता) बिहार के मुंगेर जिले के प्रसिद्ध मां चंडिका मंदिर में मां सती के एक नेत्र की पूजा की जाती है और श्रद्धालुओं को नेत्र संबंधी विकार से मुक्ति मिलती है।

see more..
शीतला माता श्रद्धालुओं को देती है निरोगी काया

शीतला माता श्रद्धालुओं को देती है निरोगी काया

28 Mar 2020 | 10:57 AM

राजगीर 28 मार्च (वार्ता) बिहार में नालंदा जिले के मघड़ा गांव स्थित शीतला माता मंदिर में पूजा करने से श्रद्धालुओं को निरोगी काया की प्राप्ति है।

see more..
पटना की नगर रक्षिका है मां पटनेश्वरी

पटना की नगर रक्षिका है मां पटनेश्वरी

27 Mar 2020 | 9:53 AM

पटना 27 मार्च (वार्ता) देश के प्रमुख शक्ति उपासना केंद्रों में शामिल पटना के पटन देवी मंदिर में विद्यमान मां भगवती को पटना की नगर रक्षिका माना जाता है।

see more..
image