Tuesday, Apr 23 2019 | Time 18:27 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • ईरानी संसद ने सेंटकाॅम को आतंकवादी समूह घोषित किया
  • मजबूत सरकार-देश के लिए मजबूत चौकीदार की जरूरत: मोदी
  • म्यांमार के शीर्ष न्यायालय ने रॉयटर्स पत्रकारों की अपील खारिज की
  • बेयरस्टो, वार्नर की वतन वापसी से हैदराबाद को लगेगा झटका
  • छत्तीसगढ़ में शाम पांच बजे तक 64 3 प्रतिशत मतदान
  • बेयरस्टो, वार्नर की वतन वापसी से हैदारबाद को लगेगा झटका
  • बेयरस्टो, वार्नर की वतन वापसी से हैदारबाद को लगेगा झटका
  • गुजरात में 65 प्रतिशत से अधिक मतदान , मोदी, आडवाणी, शाह, जेटली ने भी की वोटिंग
  • तीसरे चरण में बंगाल, असम,गोवा, केरल और त्रिपुरा में भारी मतदान
  • बिहार जैसे पिछड़े राज्यों के विकास के लिए मोदी सरकार जरूरी : नीतीश
  • ताकतवर नौसेना देश की सुरक्षा और समृद्धि की गारंटी
  • ईवीएम की खराबी की जानकारी देने वाले मतदाता के खिलाफ मुकदमा अस्वीकार्य: रमेश
  • सपा-बसपा गठबंधन के कमाल से भाजपा नेताओं की भाषा बदलीःअखिलेश
  • रुपया पाँच पैसे मजबूत
राज्य


शाह ने कबीरपंथ के धर्मगुरू प्रकाश मुनि साहेब से लिया आर्शीवाद

शाह ने कबीरपंथ के धर्मगुरू प्रकाश मुनि साहेब से लिया आर्शीवाद

रायपुर 05सितम्बर(वार्ता)छत्तीसगढ़ के एक दिवसीय दौरे पर पहुंचे भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह ने आज यहां कबीरपंथ के बड़े धर्मगुरू प्रकाश मुनि साहेब से मुलाकात उनसे आर्शीवाद लिया।

मुख्यमंत्री डा.रमन सिंह की आज राजनांदगांव के प्रसिद्ध मां बम्लेश्वरी के स्थल डोगरगढ़ से शुरू हो रही अटल विकास यात्रा को हरी झंडी दिखाने पहुंचे श्री शाह रायपुर पहुंचने के बाद विमानतल से सीधे राजधानी के कटोरा तालाब इलाके में स्थित आश्रम में पहुंचे,और प्रकाश मुनि साहेब से मुलाकात की।श्री शाह के साथ मुख्यमंत्री डा.सिंह भी थे। दोनो नेताओं ने कबीरपंथी धर्मगुरू से आर्शीवाद लिया।

श्री शाह का पहले विमानतल से सीधे डोगरगढ़ पहुंचने का कार्यक्रम था,लेकिन अचानक ही उनका प्रकाश मुनि साहेब से मुलाकात का कार्यक्रम तय हुआ। दोनो नेता इस मुलाकात के बाद हेलीकाप्टर से लगभग 100 किमी दूर डोगरगढ़ के लिए रवाना हो गए।

श्री शाह के अचानक कार्यक्रम तय होने को राज्य में नवम्बर के अन्त में होने वाले विधानसभा चुनावों से भी जोड़कर देखा जा रहा है। राज्य में कबीरपंथ के अनुयायियों की बहुत बड़ी तादाद है। इस कारण सभी राजनीतिक दलों के नेता कबीरपंथी अनुयायियों को रिझाने का प्रयास करते है।

image