Monday, Aug 26 2019 | Time 10:52 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • मध्यप्रदेश में जारी बादलों का प्रकोप
  • अभिनेता बनना चाहते थे मुकेश
  • अभिनेता बनना चाहते थे मुकेश
  • ईरान ने अमेरिका से तनाव घटाने का रखा विचार
  • पाकिस्तान वाणिज्य दूतावास के पास विस्फोट
  • विराट ने धोनी की बराबरी की, तोड़ा गांगुली का रिकॉर्ड
  • विराट ने धोनी की बराबरी की, तोड़ा गांगुली का रिकॉर्ड
  • चीन में सड़क हादसे में सात की मौत, 11 घायल
  • सिंधु ने हर हिंदुस्तानी का सिर गर्व से ऊंचा कर दिया : रघुवर
  • हांगकांग में भड़की हिंसा, 15 पुलिस अधिकारी घायल
  • नीतीश ने पी वी सिंधु को दी बधाई
  • बुमराह का कहर, भारत की विंडीज पर सबसे बड़ी जीत
  • बुमराह का कहर, भारत की विंडीज पर सबसे बड़ी जीत
  • बुमराह का कहर, भारत की विंडीज पर सबसे बड़ी जीत
मनोरंजन » कला एवं रंगमंच


खलनायकी के बेताज बादशाह थे अमजद खान

खलनायकी के बेताज बादशाह थे अमजद खान

..पुण्यतिथि 27 जुलाई के अवसर पर .
मुंबई 26 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड की ब्लॉक बस्टर फिल्म ..शोले.. के किरदार गब्बर सिंह ने अमजद खान को फिल्म इंडस्ट्री में सशक्त पहचान दिलायी लेकिन फिल्म के निर्माण के समय गब्बर सिंह की भूमिका के लिये पहले डैनी
का नाम प्रस्तावित था।

फिल्म ..शोले ..के निर्माण के समय गब्बर सिंह वाली भूमिका डैनी को दी गयी थी लेकिन उन्होंने उस समय धर्मात्मा में काम करने की वजह से शोले में काम करने से लिये इंकार कर दिया।
शोले के कहानीकार सलीम खान की सिफारिश पर रमेश सिप्पी ने अमजद खान को गब्बर सिंह का किरदार निभाने का अवसर दिया।
जब सलीम खान ने अमजद खान से फिल्म ..शोले ..में गब्बर सिंह का किरदार निभाने को कहा तो पहले तो अमजद खान घबरा से गये लेकिन बाद में उन्होंने इसे एक चैलेंज के रूप में लिया और चंबल के डाकुओं पर बनी किताब .अभिशप्त चंबल.. का बारीकी से अध्य्यन करना शुरू किया।
बाद में जब फिल्म ..शोले ..प्रदर्शित हुयी तो अमजद खान का निभाया किरदार ..गब्बर सिंह ..दर्शको में इस कदर लोकप्रिय हुआ कि लोग गाहे बगाहे उनकी आवाज और चाल ढ़ाल की नकल करने लगे ।

12 नवंबर 1940 को जन्मे अमजद खान को अभिनय की कला विरासत में मिली।
उनके पिता जयंत फिल्म इंडस्ट्री में खलनायक की भूमिका निभा चुके थे।
अमजद खान ने बतौर कलाकार अपने अभिनय जीवन की शुरूआत वर्ष 1957 में प्रदर्शित फिल्म ..अब दिल्ली दूर नही ..से की ।
इस फिल्म में अमजद खान ने बाल कलाकार की भूमिका निभायी।
वर्ष 1965 में अपनी होम प्रोडक्शन मे बनने वाली फिल्म ..पत्थर के सनम ..के जरिये अमजद खान बतौर अभिनेता अपने करियर की शुरूआत करने वाले थे लेकिन किसी कारण से फिल्म का निर्माण नही हो सका ।

सत्तर के दशक मे अमजद खान ने मुंबई से अपनी कॉलेज की पढ़ाई पूरी करने के बाद बतौर अभिनेता काम करने के लिये फिल्म इंडस्ट्री का रूख किया ।
वर्ष 1973 में बतौर अभिनेता उन्होंने फिल्म ..हिंदुस्तान की कसम ..से अपने करियर की शुरूआत की लेकिन इस फिल्म से दर्शको के बीच वह अपनी पहचान नहीं बना सके।
इसी दौरान अमजद खान को थियेटर में अभिनय करते देखकर पटकथा लेखक सलीम खान ने अमजद खान से शोले में गब्बर सिंह के किरदार को निभाने की पेशकश की जिसे अमजद खान ने स्वीकार कर लिया।
  

     फिल्म ..शोले की सफलता से अमजद खान के सिने कैरियर में जबरदस्त बदलाव आया और वह खलनायकी की दुनिया के बेताज बादशाह बन गये।
इसके बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नही देखा और अपने दमदार अभिनय से दर्शको की वाहवाही लूटने लगे।
वर्ष 1977 मे प्रदर्शित फिल्म ..शतरंज के खिलाडी ..मे उन्हें महान निर्देशक सत्यजीत रे के साथ काम करने का मौका मिला।
इस फिल्म के जरिये भी उन्होंने दर्शको का मन मोह लिया।
अपने अभिनय मे आई एकरूपता को बदलने और स्वंय को चरित्र अभिनेता के रूप मे भी स्थापित करने के लिये अमजद खान ने अपनी भूमिकाओं में परिवर्तन भी किया ।
इसी क्रम में वर्ष 1980 मे प्रदर्शित फिरोज खान की सुपरहिट फिल्म .कुर्बानी. में अमजद खान ने हास्य अभिनय कर दर्शको का भरपूर मनोरंजन किया ।

वर्ष 1981 मे अमजद खान के अभिनय का नया रूप दर्शको के सामने आया।
प्रकाश मेहरा की सुपरहिट फिल्म .लावारिस .में वह अमिताभ बच्चन के पिता की भूमिका निभाने से भी नही हिचके।
हांलाकि अमजद खान ने फिल्म लावारिस से पहले अमिताभ बच्चन के साथ कई फिल्मों में खलनायक की भूमिका निभायी थी पर इस फिल्म के जरिये भी अमजद खान दर्शको की वाहवाही लूटने में सफल रहे।
वर्ष 1981 में प्रदर्शित फिल्म ..याराना .. में उन्होंने सुपर स्टार अमिताभ बच्चन के दोस्त की भूमिका निभायी।
इस फिल्म में उन पर फिल्माया यह गाना ..बिशन चाचा कुछ गाओ ..बच्चों के बीच काफी लोकप्रिय हुआ।
इसी फिल्म मे अपने दमदार अभिनय के लिये अमजद खान अपने सिने करियर में दूसरी बार सर्वश्रेष्ठ सह कलाकार के फिल्म फेयर पुरस्कार से भी सम्मानित किये गये ।

इसके पहले भी वर्ष 1979 में उन्हें फिल्म दादा के लिये सर्वश्रेष्ठ सह कलाकार के फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।
इसके अलावा वर्ष 1985 में फिल्म ..मां कसम .. के लिये अमजद खान सर्वश्रेष्ठ हास्य अभिनेता के फिल्म फेयर पुरस्कार से भी सम्मानित किये गये।
वर्ष 1983 में अमजद खान ने फिल्म ..चोर पुलिस.. के जरिये निर्देशन के क्षेत्र में भी कदम रखा लेकिन यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर बुरी तरह से नकार दी गयी।
इसके बाद वर्ष 1985 में भी अमजद खान ने फिल्म ..अमीर आदमी गरीब आदमी .. का निर्देशन किया लेकिन यहां पर भी उन्हें शिकस्त का सामना करना पड़ा ।

वर्ष 1986 में एक दुर्घटना के बाद अमजद खान लगभग मौत के मुंह से बाहर निकले थे और इलाज के दौरान दवाइयों के लगातार सेवन से उनके स्वास्थ्य में लगातार गिरावट आती रही।
उनका शरीर लगातार भारी होता गया ।

नब्बे के दशक में स्वास्थ्य खराब रहने के कारण अमजद खान ने फिल्मों मे काम करना कुछ कम कर दिया।
अपने फिल्मी जीवन के आखिरी दौर में वह अपने मित्र अमिताभ बच्चन को लेकर ..लंबाई चैड़ाई .. नाम की फिल्म बनाना चाहते थे लेकिन उनका यह ख्वाब अधूरा ही रह गया।
अपनी अदाकारी से लगभग तीन दशक तक दर्शको का भरपूर मनोरंजन करने वाले लोकप्रिय अभिनेता अमजद खान 27 जुलाई 1992 को इस दुनिया से रूखसत हो गये।

किसी

किसी फिल्म में इंटरफेयर नहीं किया :सुनील शेट्टी

मुंबई 25 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड के माचो मैन सुनील शेट्टी का कहना है कि उन्होंने अपने करियर के दौरान किसी भी फिल्म में इंटरफेयर नही किया है।

बचपन

बचपन से ही अभिनेत्री बनना चाहती थी सारा अली खान

मुंबई 25 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री सारा अली खान का कहना है कि वह बचपन के दिनों से ही अभिनेत्री बनना चाहती थी।

सलमान,आलिया

सलमान,आलिया की इंशाअल्लाह, प्रीटी वूमेन से होगी प्रेरित!

मुंबई 24 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड के दबंग स्टार सलमान खान और आलिया भट्ट की जोड़ी वाली फिल्म इंशाअल्लाह के हॉलीवुड फिल्म प्रीटी वूमेन से इंस्पायरड होने की चर्चा है।

शकुंतला

शकुंतला की बायोपिक को लेकर उत्साहित हैं विद्या

मुंबई 24 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री विद्याा बालन गणित जीनियस शकुंतला देवी की बायोपिक में काम करने
को लेकर उत्साहित हैं।

आयुष्मान

आयुष्मान की अंधाधुन साउथ कोरिया में होगी रिलीज

मुंबई 24 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता आयुष्मान खुराना की सुपरहिट फिल्म अंधाधुन साउथ कोरिया में रिलीज होने जा रही है।

करीना

करीना कपूर को अच्छी दोस्त मानती है सारा अली खान

मुंबई 23 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री सारा अली खान का कहना है कि वह करीना कपूर को अच्छी दोस्त मानती है और उनकी बहुत इज्जत करती है।

दिलकश

दिलकश अंदाज से दर्शकों को दीवाना बनाया सायरा बानु ने

.जन्मदिन 23 अगस्त.
मुंबई 22 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड में सायरा बानु को एक ऐसी अभिनेत्री के तौर पर शुमार किया जाता है जिन्होंने साठ और सत्तर के दशक में अपनी दिलकश अदाओं और दमदार अभिनय से सिने प्रेमियों को दीवाना बनाया।

हॉलीवुड

हॉलीवुड प्रोजेक्ट में एक्शन में नजर आएंगी प्रियंका

मुंबई 23 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा अपने नये हॉलीवुड प्रोजेक्ट में एक्शन अवतार में नजर आएंगी।

हाउसफुल

हाउसफुल 4 में अक्षय-राणा गाएंगे कव्वाली

मुंबई 22 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता अक्षय कुमार और राणा दग्गुबाती आने वाली फिल्म हाउसफुल 4 में कव्वाली गाते नजर आयेंगे।

ओ

ओ साथी रे तेरे बिना भी क्या जीना

..पुण्यतिथि 24 अगस्त के अवसर पर ..
मुंबई 23 अगस्त (वार्ता)
..जिंदगी से बहुत प्यार हमने किया
मौत से भी मोहब्बत निभायेगें हम
रोते रोते जमाने में आये मगर
हंसते हंसते जमाने से जायेगे हम.
जिंदगी के अनजाने सफर से बेहद प्यार करने वाले हिन्दी सिने जगत के मशहूर संगीतकार कल्याण जी का जीवन से प्यार उनकी संगीतबद्ध इन पंक्तियों मे समाया हुआ है।

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

..जन्मदिवस 29 अगस्त के अवसर पर ..
मुंबई 28 अगस्त(वार्ता)किंग ऑफ पॉप माइकल जैक्सन को ऐसी शख्सियत के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने पॉप संगीत की दुनिया को पूरी तरह बदलकर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बनायी है।

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

नयी दिल्ली 15 जनवरी (वार्ता) दिल्ली में भी फिल्म उद्योग स्थापित करने के मकसद से पहले डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह एवं विपणन 2019 की कल रात यहां देश-विदेश के फिल्मी जगत के लोगों की मौजूदगी में शुरूआत हुयी।

ओ साथी रे तेरे बिना भी क्या जीना

ओ साथी रे तेरे बिना भी क्या जीना

..पुण्यतिथि 24 अगस्त के अवसर पर ..
मुंबई 23 अगस्त (वार्ता)
..जिंदगी से बहुत प्यार हमने किया
मौत से भी मोहब्बत निभायेगें हम
रोते रोते जमाने में आये मगर
हंसते हंसते जमाने से जायेगे हम.
जिंदगी के अनजाने सफर से बेहद प्यार करने वाले हिन्दी सिने जगत के मशहूर संगीतकार कल्याण जी का जीवन से प्यार उनकी संगीतबद्ध इन पंक्तियों मे समाया हुआ है।

image