Tuesday, Sep 25 2018 | Time 18:12 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • दक्षिण-पश्चिम मानसून असम और मेघालय में अति सक्रिय
  • जनता की अपेक्षाएं निष्पक्षता के साथ हो पूरी : नीतीश
  • रक्षा सौदों में दलाली लेता रहा है गांधी परिवार -भाजपा
  • पाइप लाइन से ऑयल चोरी मामले में तीन गिरफ्तार
  • वीडीसी सदस्य ने पत्नी समेत स्वयं को गोली मारी
  • कश्मीर में पंचायत घर में आग लगने का आठवां मामला
  • स्वत: संज्ञान का अधिकार खंडपीठ को नहीं : ए राजा
  • आईटीओ, मुकरबा चौक पर लगा प्रदूषण कम करने वाला यंत्र
  • रुपया छह पैसे टूटा
  • फेयरसेंटडॉटकॉम की व्यक्तिगत ब्याज दरों में कमी
  • कमेन्टेटर जसदेव सिंह का निधन
  • मोदी बताएं, राफेल में किसको हुआ फायदा : कांग्रेस
  • नीतीश ने छात्र की मौत पर जताया गहरा शोक
मनोरंजन Share

खलनायकी के बेताज बादशाह थे अमजद खान

खलनायकी के बेताज बादशाह थे अमजद खान

..पुण्यतिथि 27 जुलाई के अवसर पर .

मुंबई, 26 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड की ब्लॉक बस्टर फिल्म ..शोले.. के किरदार गब्बर सिंह ने अमजद खान को फिल्म इंडस्ट्री में सशक्त पहचान दिलायी लेकिन फिल्म के निर्माण के समय गब्बर सिंह की भूमिका के लिये पहले डैनी का नाम प्रस्तावित था।

फिल्म ..शोले ..के निर्माण के समय गब्बर सिंह वाली भूमिका डैनी को दी गयी थी लेकिन धर्मात्मा में काम करने की वजह से उन्होंने शोले में काम करने से इंकार कर दिया था। शोले के कहानीकार सलीम खान की सिफारिश पर रमेश सिप्पी ने अमजद खान को गब्बर सिंह का किरदार निभाने का अवसर दिया। जब सलीम खान ने अमजद खान से फिल्म ..शोले ..में गब्बर सिंह का किरदार निभाने को कहा तो पहले तो अमजद खान घबरा गये लेकिन बाद में उन्होंने इसे चुनौती के रूप में लिया और चंबल के डाकुओं पर बनी किताब .अभिशप्त चंबल.. का बारीकी से अध्य्यन करना शुरू किया। बाद में जब फिल्म ..शोले ..प्रदर्शित हुयी तो अमजद खान का निभाया किरदार ..गब्बर सिंह ..दर्शको में इस कदर लोकप्रिय हुआ कि लोग गाहे बगाहे उनकी आवाज और चाल ढ़ाल की नकल करने लगे ।

12 नवंबर 1940 जन्मे अमजद खान को अभिनय की कला विरासत में मिली। उनके पिता जयंत फिल्म इंडस्ट्री में खलनायक रह चुके थे। अमजद खान ने बतौर कलाकार अपने अभिनय जीवन की शुरुआत वर्ष 1957 में प्रदर्शित फिल्म ..अब दिल्ली दूर नहीं ..से की। इस फिल्म में अमजद खान ने बाल कलाकार की भूमिका निभायी। वर्ष 1965 में अपनी होम प्रोडक्शन में बनने वाली फिल्म ..पत्थर के सनम ..के जरिये अमजद खान बतौर अभिनेता अपने करियर की शुरुआत करने वाले थे लेकिन किसी कारण से फिल्म का निर्माण नहीं हो सका।

सत्तर के दशक में अमजद खान ने मुंबई से अपनी कॉलेज की पढाई पूरी करने के बाद बतौर अभिनेता काम करने के लिये फिल्म इंडस्ट्री का रूख किया। वर्ष 1973 में बतौर अभिनेता उन्होंने फिल्म ..हिंदुस्तान की कसम ..से अपने करियर की शुरुआत की लेकिन इस फिल्म से दर्शकों के बीच वह अपनी पहचान नहीं बना सके। इसी दौरान अमजद खान को थियेटर में अभिनय करते देखकर पटकथा लेखक सलीम खान ने अमजद खान से शोले में गब्बर सिंह के किरदार को निभाने की पेशकश की जिसे अमजद खान ने स्वीकार कर लिया।

      फिल्म ..शोले की सफलता से अमजद खान के सिने करियर में जबरदस्त बदलाव आया और वह खलनायकी की दुनिया के बेताज बादशाह बन गये। इसके बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा और अपने दमदार अभिनय से दर्शकों की वाहवाही लूटने लगे। वर्ष 1977 मे प्रदर्शित फिल्म ..शतरंज के खिलाडी ..में उन्हें महान निर्देशक सत्यजीत रे के साथ काम करने का मौका मिला। इस फिल्म के जरिये भी उन्होंने दर्शकों का मन मोहे रखा। अपने अभिनय मे आई एकरूपता को बदलने और स्वंय को चरित्र अभिनेता के रूप मे भी स्थापित करने के लिये अमजद खान ने अपनी भूमिकाओं में परिवर्तन भी किया। इसी क्रम में वर्ष 1980 में प्रदर्शित फिरोज खान की सुपरहिट फिल्म.कुर्बानी .में अमजद खान ने हास्य अभिनय कर दर्शकों का भरपूर मनोरंजन किया ।

वर्ष 1981 में अमजद खान के अभिनय का नया रूप दर्शकों के सामने आया। प्रकाश मेहरा की सुपरहिट फिल्म.लावारिस .में वह अमिताभ बच्चन के पिता की भूमिका निभाने से भी नहीं हिचके। अमजद खान ने हालांकि फिल्म लावारिस से पहले अमिताभ बच्चन के साथ कई फिल्मों में खलनायक की भूमिका निभायी थी पर इस फिल्म के जरिये भी अमजद खान दर्शकों की वाहवाही लूटने में सफल रहे। वर्ष 1981 में प्रदर्शित फिल्म ..याराना .. में उन्होंने सुपर स्टार अमिताभ बच्चन के दोस्त की भूमिका निभायी। इस फिल्म में उन पर फिल्माया यह गाना ..बिशन चाचा कुछ गाओ ..बच्चों के बीच काफी लोकप्रिय हुआ। इसी फिल्म में अपने दमदार अभिनय के लिये अमजद खान अपने सिने करियर में दूसरी बार सर्वश्रेष्ठ सह कलाकार के फिल्म पेयर पुरस्कार से भी सम्मानित किये गये।

इसके पहले वर्ष 1979 में भी उन्हें फिल्म दादा के लिये सर्वश्रेष्ठ सह कलाकार के फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। इसके अलावा वर्ष 1985 में फिल्म ..मां कसम .. के लिये अमजद खान सर्वश्रेष्ठ हास्य अभिनेता के फिल्म फेयर पुरस्कार से भी सम्मानित किये गये। वर्ष 1983 में अमजद खान ने फिल्म ..चोर पुलिस.. के जरिये निर्देशन के क्षेत्र में भी कदम रखा लेकिन यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर बुरी तरह से नकार दी गयी। इसके बाद वर्ष 1985 में भी अमजद खान ने फिल्म ..अमीर आदमी गरीब आदमी .. का निर्देशन किया लेकिन यहां पर भी उन्हें शिकस्त का सामना करना पड़ा।

वर्ष 1986 में एक दुर्घटना के दौरान अमजद खान लगभग मौत के मुंह से बाहर निकले थे और इलाज के दौरान दवाइयों के लगातार सेवन करने से उनके स्वास्थ्य में लगातार गिरावट आती रही। उनका शरीर लगातार भारी होता गया। नब्बे के दशक में स्वास्थ्य खराब रहने के कारण अमजद खान ने फिल्मों में काम करना कुछ कम कर दिया । अपने फिल्मी जीवन के आखिरी दौर में वह .अपने मित्र अमिताभ बच्चन को लेकर फिल्म ..लंबाई चैड़ाई .. नाम से फिल्म बनाना चाहते थे लेकिन उनका यह ख्वाब अधूरा ही रह गया । अपनी अदाकारी से लगभग तीन दशक तक दर्शकों का भरपूर मनोरंजन करने वाले अजीम अभिनेता अमजद खान 27 जुलाई 1992 को इस दुनिया से रूखसत हो गये ।

वार्ता

More News
देवानंद को भी करना पड़ा था संघर्ष

देवानंद को भी करना पड़ा था संघर्ष

25 Sep 2018 | 11:57 AM

मुंबई 25 सितंबर (वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत में लगभग छह दशक से दर्शकों के दिलों पर राज करने वाले सदाबहार अभिनेता देवानंद को अदाकार बनने के ख्वाब को हकीकत में बदलने के लिए कड़ा संघर्ष करना पड़ा था।

 Sharesee more..
अक्षय के बाद अर्जुन कहेंगे सिंह इज किंग !

अक्षय के बाद अर्जुन कहेंगे सिंह इज किंग !

25 Sep 2018 | 11:45 AM

मुंबई 25 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता अर्जुन कपूर सुपरहिट फिल्म सिंह इज किंग के सीक्वल में काम करते नजर आ सकते हैं।

 Sharesee more..
साहिर का किरदार निभाने के लिये बेताब हैं अभिषेक बच्चन

साहिर का किरदार निभाने के लिये बेताब हैं अभिषेक बच्चन

25 Sep 2018 | 11:30 AM

मुंबई 25 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड के जूनियर बी अभिषेक बच्चन सिल्वर स्क्रीन पर दिवंगत गीतकार-शायर साहिर लुधियानवी का किरदार निभाने के लिये बेताब हैं।

 Sharesee more..

25 Sep 2018 | 11:24 AM

 Sharesee more..

25 Sep 2018 | 11:21 AM

 Sharesee more..
image