Friday, Nov 16 2018 | Time 11:28 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • जम्मू-कश्मीर में लेह, मुगल मार्ग पांचवें दिन भी बंद
  • कैलिफोर्निया की आग में मृतकों की संख्या 63 हुई, 630 से अधिक लापता
  • प्रधानमंत्री मध्य प्रदेश-छत्तीसगढ़ में चुनावी रैलियों को संबोधित करेंगे
  • दक्षिण कश्मीर में सुरक्षा बलों का खोजी अभियान शुरू
  • कानपुर पुलिस मुठभेड़ में शातिर बदमाश गिरफ्तार
  • सुरक्षा परिषद ने शांति सैनिकों की मौत पर शोक जताया
  • सबरीमला में तीर्थ यात्रियों के लिए इलैक्ट्रिक बसें
  • आतंकवादियोंं ने युवक का अपहरण करने के बाद हत्या की
  • जर्मनी में दोे बसों की टक्कर, 26 घायल
  • आज का इतिहास(प्रकाशनार्थ 17 नवंबर)
  • पूर्व सांसद प्रफुल्ल कुमार माहेश्वरी का निधन
  • थेरेसा मे नेब्रेक्थेरेसा मे ने ब्रेक्सिट योजना के साथ आगे बढ़ने का वादा कियासिट योजना के साथ आगे बढ़ने का वादा किया
  • खशोगी मामला: कनाडा प्रतिबंध पर कर रहा विचार: फ्रीलैंड
  • सीरिया में इस्लामिक स्टेट के खिलाफ हवाई हमले में 105 की मौत
  • आतंकवाद और साइबर सुरक्षा के मुद्दे पर मिलकर काम करेंगे: अमेरिका
मनोरंजन Share

रूमानी गीतों से दीवाना बनाया था अंजान ने

रूमानी गीतों से दीवाना बनाया था अंजान ने

.. पुण्यतिथि 13 सितम्बर  ..

मुंबई 12 सितम्बर (वार्ता) लगभग तीन दशक से अपने रचित गीतों से हिन्दी फिल्म जगत को सराबोर करने वाले गीतकार अंजान के रूमानी नज्म आज भी लोगों को अपनी ओर आकर्षित कर लेते है ।

अट्ठाइस अक्टूबर 1930 को बनारस मे जन्में अंजान को बचपन के दिनो से हीं उन्हे शेरो शायरी के प्रति गहरा लगाव था। अपने इसी शौक को पूरा करने के लिये वह बनारस मे आयोजित सभी कवि सम्मेलन और मुशायरों के कार्यक्रम में हिस्सा लिया करते थे , हालांकि मुशायरों के कार्यक्रम में भी वह उर्दू का इस्तेमाल कम हीं किया करते थे । जहां हिन्दी फिल्मों में उर्दू का इस्तेमाल एक पैशन की तरह किया जाता था । वही अंजान अपने रचित गीतों मे हिन्दी पर ही ज्यादा जोर दिया करते थे । गीतकार के रूप मे उन्होने अपने कैरियर की शुरूआत वर्ष 1953 में अभिनेता प्रेमनाथ की फिल्म ..गोलकुंडा का कैदी ..से की । इस फिल्म के लिये सबसे पहले उन्होने ..लहर ये डोले कोयल बोले ..और शहीदों अमर है तुम्हारी कहानी गीत लिखा , लेकिन इस फिल्म के जरिये वह कुछ खास पहचान नही बना पाये।

अंजान ने अपना संघर्ष जारी रखा । इस बीच उन्हाेंने कई छोटे बजट फिल्में भी की जिनसे उन्हें कुछ खास फायदा नहीं हुआ । अचानक ही उनकी मुलाकात जी.एस.कोहली से हुयी जिनके संगीत निर्देशन मे उन्होंने फिल्म लंबे हाथ के लिये ..मत पूछ मेरा है मेरा कौन ..गीत लिखा । इस गीत के जरिये वह काफी हद तक पहचान बनाने मे सफल हुए। लगभग दस वर्ष तक मायानगरी मुंबई मे संघर्ष करने के बाद वर्ष 1963 मे पंडित रविशंकर के संगीत से सजी प्रेमचंद के उपन्यास गोदान पर आधारित फिल्म ..गोदान.. मे उनके रचित गीत ..चली आज गोरी पिया की नगरिया .. की सफलता के बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा ।

गीतकार अंजान को इसके बाद कई अच्छी फिल्मों के प्रस्ताव मिलने शुरू हो गये , जिनमें बहारे फिर भी आयेगी.बंधन.कब क्यों और कहां.उमंग.रिवाज.एक नारी एक बह्चारी. हंगामा.जैसी कई फिल्में शामिल है । साठ के दशक में अंजान ने संगीतकार श्याम सागर के संगीत निर्देशन में कई गैर फिल्मी गीत भी लिखे । अंजान द्वारा रचित इन गीतो को बाद में मोहम्मद रफी.मन्ना डे और सुमन कल्याणपुरी जैसे गायको ने अपना स्वर दिया , जिनमें मोहम्मद रफी द्वारा गाया गीत ..मै कब गाता ..काफी लोकप्रिय भी हुआ था । अंजान ने कई भोजपुरी फिल्मो के लिये भी गीत लिखे । सत्तर के दशक में बलम परदेसिया का..गोरकी पतरकी के मारे गुलेलवा ..गाना आज भी लोगो के जुबान पर चढ़ा हुआ है ।

अंजान के सिने कैरियर पर यदि नजर डाले तो सुपरस्टार अमिताभ बच्चन पर फिल्माये उनके रचित गीत कापी लोकप्रिय हुआ करते थे । वर्ष 1976 में प्रदर्शित फिल्म दो अंजाने के.. लुक छिप लुक छिप जाओ ना ..गीत की कामयाबी के बाद अंजान ने अमिताभ बच्चन के लिये कई सफल गीत लिखे जिनमें ..बरसो पुराना ये याराना.खून पसीने की मिलेगी तो खायेंगे.रोते हुये आते है सब.ओ साथी रे तेरे बिना भी क्या जीना.खइके पान बनारस वाला जैसे कई सदाबहार गीत

शामिल है ।

अमिताभ बच्चन के अलावे मिथुन चक्रवर्ती की फिल्मो के लिये भी अंजान ने सुपरहिट गीत लिखकर उनकी फिल्मों को सफल बनाया है । इन फिल्मों में डिस्को डांसर.डांस डांस.कसम पैदा करने वाले.करिश्मा कुदरत का.कमांडो .हम इंतजार करेंगे.दाता और दलाल आदि फिल्में शामिल है । जाने माने निर्माता-निर्देशक प्रकाश मेहरा की फिल्मों के लिये अंजान ने गीत लिखकर उनकी फिल्मो को सफल बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी है। उनकी सदाबहार गीतों के कारण ही प्रकाश मेहरा की ज्यादातार फिल्मे अपने गीत-संगीत के कारण ही आज भी याद की जाती है । अंजान के पसंदीदा संगीतकार के तौर पर कल्याण जी आनंद जी का नाम सबसे उपर आता है ।

अंजान ने अपने तीन दशक से भी ज्यादा लंबे सिने कैरियर में लगभग 200 फिल्मो के लिये गीत लिखे । लगभग तीन दशकों तक हिन्दी सिनेमा को अपने गीतों से संवारने वाले अंजान 67 वर्ष की आयु मे 13 सितम्बर 1997 को सबको अलविदा कह गये । अंजान के पुत्र समीर ने बतौर गीतकार फिल्म इंडस्ट्री ने अपनी खास पहचान बनायी है।



वार्ता

More News
अगले साल शुरू होगा आंखे का सीक्वल

अगले साल शुरू होगा आंखे का सीक्वल

15 Nov 2018 | 2:21 PM

मुंबई 15 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड के महनायक अमिताभ बच्चन की सुपरहिट फिल्म आंखे का सीक्वल अगले साल शुरू किया जायेगा।

 Sharesee more..
विद्या बालन के पति का किरदार निभायेंगे संजय कपूर

विद्या बालन के पति का किरदार निभायेंगे संजय कपूर

15 Nov 2018 | 2:10 PM

मुंबई 15 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता संजय कपूर सिल्वर स्क्रीन पर विद्या बालन के पति के किरदार में नजर आयेंगे।

 Sharesee more..
बाइचुंग भूटिया पर बनेगी फिल्म

बाइचुंग भूटिया पर बनेगी फिल्म

15 Nov 2018 | 2:01 PM

मुंबई 15 नवंबर (वार्ता) भारतीय फुटबाल टीम के पूर्व कप्तान बाईचुंग भूटिया पर फिल्म बनायी जायेगी।

 Sharesee more..
रूमानी अदाओं से दीवाना बनाया मीनाक्षी ने

रूमानी अदाओं से दीवाना बनाया मीनाक्षी ने

15 Nov 2018 | 1:53 PM

मुंबई 15 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड में मीनाक्षी शेषाद्री एक ऐसी अभिनेत्री के रुप में शुमार की जाती है जिन्होंने अपनी रूमानी अदाओं से लगभग दो दशक तक सिने प्रेमियों को अपना दीवाना बनाया ।

 Sharesee more..
कव्वाली को संगीतबद्ध करने में महारत थे रोशन

कव्वाली को संगीतबद्ध करने में महारत थे रोशन

15 Nov 2018 | 1:45 PM

मुंबई 15 नवंबर (वार्ता) हिंदी फिल्मों में जब कभी कव्वाली का जिक्र होता है तो संगीतकार रोशन का नाम सबसे पहले लिया जाता है ।

 Sharesee more..
image