Tuesday, Aug 4 2020 | Time 22:14 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • कोरोना महामारी : श्राद्ध भोज में नाच का आयोजन, तीन गिरफ्तार
  • श्री रामजन्मभूमि मंदिर देश में रामराज्य की बुनियाद रखेगा : आडवाणी
  • छत्तीसगढ़ में मिले 289 नए संक्रमित मरीज,आठ की मौत
  • पुरी बीच पर सुदर्शन ने उकेरी राममंदिर की कलाकृति
  • कोरोना मामले 19 लाख के पार, रिकवरी दर 67 फीसदी के पार
  • बिना राम के भारत को पहचाना नहीं जा सकता - शिवराज
  • मुरादाबाद में 98 और नये कोरोना पॉजिटिव मिले,संख्या हुई 2196
  • खगड़िया में गंगा नदी में नौका पलटी, 30 लापता
  • बाराबंकी में 54 नये कोरोना पॉजिटिव मिले,संख्या 1407 पहुंची
  • आगरा पुलिस ने तीन साईबर अपराधियों समेत दस बदमाशों को किया गिरफ्तार
  • नायडू , मोदी समेत अनेक हस्तियों ने अल्काजी के निधन पर शोक जताया
  • निशंक ने राष्ट्रपति को नयी शिक्षा नीति का दस्तावेज पेश किया
  • देश में कोरोना मामले 19 लाख के पार, पौने 13 लाख से अधिक हुए स्वस्थ
  • जौनपुर नहीं थम रहा कोरोना संक्रमण,120 नये मामले,संख्या हुई 2405
  • मुंबई में फिर से 709 नये मामले, पुणे बना नया हॉटस्पॉट
राज्य » गुजरात / महाराष्ट्र


पेड़ काटने का विरोध करने वालों पर से मामला समाप्त करने की घोषणा

पेड़ काटने का विरोध करने वालों पर से मामला समाप्त करने की घोषणा

मुंबई 01 दिसंबर (वार्ता) महाराष्ट्र की नवनिर्वाचित सरकार ने मेट्रो परियोजना के लिए मुंबई की आरे कॉलोनी में पेड़ों की कटाई का विरोध करने वाले लोगों पर दर्ज मामले वापस लिए जाने की घोषणा की है। इससे पहले राज्य सरकार ने आरे कॉलोनी में मेट्रो कार शेड परियोजना पर रोक लगाई थी।

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने विधानसभा के दो दिवसीय सत्र की आज समाप्ति के बाद यह घोषणा की।

इससे पहले राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के विधायक जितेन्द्र अवहद ने नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री को बधाई देते हुए आरे कॉलोनी में मेट्रो कार शेड परियोजना पर राेक की चर्चा करते हुए कहा कि राज्य सरकार को अब पेड़ काटने का विरोध करने वाले पर्यावरणविदों के खिलाफ दर्ज मामले वापस लेना चाहिए।

उल्लेखनीय है कि राज्य प्रशासन ने चार अक्टूबर की रात 29 लोगों के खिलाफ मामले दर्ज किये थे। उन पर सरकारी कर्मचारियों के काम में बाधा पहुंचाने का आरोप लगाया गया था। उन्हें एक दिन जेल में भी रखा गया था। बाद में उन्हें हर 15 दिन में तीन घंटे तक पुलिस थाना में हाजिरी लगाने और पुलिस को जांच में मदद करे की शर्त पर जमानत दी गयी। जिन 29 लाेगों पर मामले दर्ज थे उनमें अधितकर विद्यार्थी थे।

मुंबई की आरे कॉलोनी में पेड़ काटने के मुद्दे पर प्रशासन और पर्यावरण प्रेमी आमने-सामने थे। मामला सुप्रीम कोर्ट में पहुंच गया था।

आशा राम

वार्ता

image