Monday, Jan 20 2020 | Time 22:35 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • चाड में बम विस्फोट, 11 लोगों की मौत
  • हेमंत ने बिजली की समस्या पर झारखंडवासियों को लिखा पत्र
  • सोनिया ने कांग्रेस शासित राज्यों में गठित की समितियां
  • देश में तीन करोड़ राशन कार्ड फर्जी : पासवान
  • बरेली में लेखपाल चार हाजार रिश्वत लेते रंगेहाथ गिरफ्तार
  • सोनिया ने गठित की घोषणा पत्र क्रियान्वयन समितियां
  • गोरखपुर पुलिस ने किए दो वांछित इनामी बदमाश गिरफ्तार
  • नागरिकता संशोधन कानून में सुधार की जरुरत: नजीब
  • बांका में भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद
  • जौनपुर में तस्कर गिरफ्तार,मकान से साढ़े आठ लाख का गांजा बरामद
  • यूनीटेक का प्रबंधकीय नियंत्रण केंद्र लेगा
  • पत्रकारिता कठिन दौर से गुजर रही है : कोविंद
  • फोटो कैप्शन तीसरा सेट
  • वाराणसी से आईएसआई एजेन्ट गिरफ्तार
  • संदिग्ध आईएसआई एजेंट दिन की रिमांड पर,एटीएस करेगी पूछताछ
राज्य » गुजरात / महाराष्ट्र


पेड़ काटने का विरोध करने वालों पर से मामला समाप्त करने की घोषणा

पेड़ काटने का विरोध करने वालों पर से मामला समाप्त करने की घोषणा

मुंबई 01 दिसंबर (वार्ता) महाराष्ट्र की नवनिर्वाचित सरकार ने मेट्रो परियोजना के लिए मुंबई की आरे कॉलोनी में पेड़ों की कटाई का विरोध करने वाले लोगों पर दर्ज मामले वापस लिए जाने की घोषणा की है। इससे पहले राज्य सरकार ने आरे कॉलोनी में मेट्रो कार शेड परियोजना पर रोक लगाई थी।

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने विधानसभा के दो दिवसीय सत्र की आज समाप्ति के बाद यह घोषणा की।

इससे पहले राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के विधायक जितेन्द्र अवहद ने नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री को बधाई देते हुए आरे कॉलोनी में मेट्रो कार शेड परियोजना पर राेक की चर्चा करते हुए कहा कि राज्य सरकार को अब पेड़ काटने का विरोध करने वाले पर्यावरणविदों के खिलाफ दर्ज मामले वापस लेना चाहिए।

उल्लेखनीय है कि राज्य प्रशासन ने चार अक्टूबर की रात 29 लोगों के खिलाफ मामले दर्ज किये थे। उन पर सरकारी कर्मचारियों के काम में बाधा पहुंचाने का आरोप लगाया गया था। उन्हें एक दिन जेल में भी रखा गया था। बाद में उन्हें हर 15 दिन में तीन घंटे तक पुलिस थाना में हाजिरी लगाने और पुलिस को जांच में मदद करे की शर्त पर जमानत दी गयी। जिन 29 लाेगों पर मामले दर्ज थे उनमें अधितकर विद्यार्थी थे।

मुंबई की आरे कॉलोनी में पेड़ काटने के मुद्दे पर प्रशासन और पर्यावरण प्रेमी आमने-सामने थे। मामला सुप्रीम कोर्ट में पहुंच गया था।

आशा राम

वार्ता

image