Saturday, Sep 22 2018 | Time 18:12 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • कांग्रेस ने किसानों के साथ वादे क्यों नहीं निभाए : मोदी
  • शहीद विकास गुरुंग की स्मृति में द्वार का शिलान्यास
  • सवर्णों पर लाठीचार्ज करने वालों पर हो कार्रवाई : प्रेमचंद्र
  • ओलांद के बयान पर बेवजह विवाद पैदा किया जा रहा है: रक्षा मंत्रालय
  • जेमिमा का अर्धशतक, भारत को 2-0 की बढ़त
  • खाद्य तेल, दालें स्थिर, चीनी में नरमी
  • मोदी को काले झंडे दिखाने जा रहे कांग्रेस अध्यक्ष एवं अन्य नेता गिरफ्तार
  • शहीदों के कार्यक्रम को पैसों की बर्बादी बताने पर गहलोत मांगे माफी-वसुंधरा
  • बसपा से गठबंधन पर बातचीत जारी - कमलनाथ
  • बारिश से किसानों के माथे पर खिंची चिंता की लकीरें
  • खेलों के जरिये मानवीय मूल्य का विकास जरूरी : लालजी
  • उच्च शिक्षा सामग्री भारतीय भाषाओं में हो उपलब्ध: कोविंद
  • मोदी ने किया बिलासपुर-अनूपपुर तीसरी रेल लाइन, बिलासपुर-पथरापाली फोरलेन सड़क का शिलान्यास
  • मोदी ने किया बिलासपुर-अनूपपुर तीसरी रेल लाइन, बिलासपुर-पथरापाली 4-लेन सड़क का शिलान्यास
  • राहुल ने मोदी काे बताया ‘चोर’ और ‘भ्रष्ट’
भारत Share

श्रमिक विरोधी नीतियों के खिलाफ बीएमएस का धरना

नयी दिल्ली 06 सितंबर (वार्ता) राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सहयोगी संगठन भारतीय मजदूर संघ (बीएमएस) ने केंद्र सरकार की श्रमिक विरोधी नीतियों और ‘निश्चित अवधि रोजगार’ की नीति के खिलाफ आज यहां विरोध प्रदर्शन किया।

श्रमिक संघ ने अनुबंध पर काम कर रहे कामगारों का शोषण बंद करने और फिक्स्ड टर्म्स इम्प्लायमेंट की अधिसूचना वापस लेने की मांग की।

बीएमएस दिल्ली प्रदेश के महासचिव अनीस मिश्रा ने कहा कि ‘निश्चित अवधि रोजगार’ श्रमिक और समाज विरोधी है आैर इसकी अधिसूचना तुरंत वापस लेनी चाहिए। केंद्र सरकार लगातार श्रमिकों के हितों के खिलाफ काम रही है और रोजगार सुरक्षा की अवधारणा खत्म होती जा रही है। श्रमिकों ने केंद्रीय श्रम एवं रोजगार मंत्री संतोष गंगवार को एक ज्ञापन भी सौंपा।

श्रमिक नेताओं ने कहा कि देश में श्रमिक विरोधी माहौल तैयार हो रहा है। सरकार की नीतियां उद्योगपतियों के अनुकूल है जिससे रोजगार सुरक्षा समाप्त हो रही है। उन्होंने कहा कि श्रमिक सुधारों के नाम पर श्रमिकों के हितों पर कुठाराघात हो रहा है।

उन्होंने कहा कि अनुबंध पर काम कर रहे सभी श्रमिकों को सामाजिक सुरक्षा निश्चित की जानी चाहिए और उनको न्यूनतम मजदूरी दी जानी चाहिए।

सत्या संजीव

वार्ता

More News

22 Sep 2018 | 6:03 PM

 Sharesee more..

22 Sep 2018 | 5:34 PM

 Sharesee more..

22 Sep 2018 | 5:25 PM

 Sharesee more..
image