Friday, Jun 14 2024 | Time 14:08 Hrs(IST)
image
बिजनेस


कोविड से प्राभावित एमएसएमई को सशक्त बनाने की अपील

कोविड से प्राभावित  एमएसएमई को सशक्त बनाने की अपील

नई दिल्ली 26 जून (वार्ता) अंतरराष्ट्रीय एमएसएमई दिवस के मौके पर वाधवानी फाउंडेशन ने एमएसएमई के सशक्तिकरण की अपील करते हुए कहा है कि जिनकी क्षमता है उन्हें अपने विकास को गति देनी चाहिए। इसके अलावा, कोविड महामारी के कारण संघर्ष कर रहे एमएसएमई को भी मजबूत किया जाना चाहिए।

फाउंडेशन ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय एमएसएमई दिवस 2021 एक ऐसा समय है जब हमें आत्मनिरीक्षण करना चाहिए और एमएसएमई क्षेत्र को जिन मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है उसका ख्याल रखना चाहिए। हालांकि, एमएसएमई देश के आर्थिक और सामाजिक ताना-बाना का अहम हिस्सा है और पूरी रीकवरी उच्च सघनता और रणनीतिक ढंग से तैयार सहायता से ही संभव होगी और बेहद उत्साह वाले क्षेत्र को इसकी जरूरत है। इसलिए, यह आवश्यक है कि इस क्षेत्र को स्थिर किया जाए और इसके लिए तात्कालिक चुनौतियों का मुकाबला किया जाए। इनमें नकद प्रवाह, वेतन, दबाव डाल रहे कर्जदाताओं का ख्याल रखने के साथ शायद ज्यादा महत्वपूर्ण चुनौती यह पता लगाने की है कि विकास कहां है और यह इसकी सच्ची संभावना को हासिल करने के लिए आवश्यक है।

वाधवानी एडवांटेज के कार्यकारी उपाध्यक्ष समीर साठे ने कहा “महामारी ने जब सारी दुनिया को परेशान कर रखा है खासकर विकासशील अर्थव्यवस्थाओं को तो इत तथ्य को नए सिरे से स्वीकार किया जा रहा है कि एमएसएमई को सहायता की जरूरत है। उनपर ध्यान दिया जाना चाहिए और अगर ऐसा नहीं किया गया तो कारोबार, वाणिज्य, अर्थव्यवस्था और आजीविका की विश्व व्यवस्था भरभरा कर गिर जाएगा और समय नहीं लगेगा, खत्म हो जाएगी।”

उन्होनें कहा कि एमएसएमई पंजीकरण में हाल में आई तेजी और उनके कारोबारों में डिजिटल नवीनता का निगमन एमएसएमई के लचीलेपन का एक उत्साहवर्धक संकेत है और यह महामारी के बावजूद है। वाधवानी एडवांटेज उनके कारोबारी बुनियाद को गति देने औऱ मजबूत करने के साथ उन्हें स्थिर करने पर फोकस करता है। इस तरह, दीर्घ अवधि में द्रुत विकास को संभव करता है। हम कारोबारों का सशक्तिकरण करते हैं और उन्हें अपनी विकास संभावना को अधिकत्तम करने की क्षमता से लैस करते हैं। इसके लिए ऑटोमेटेड बिजनेस डिसकवरी और ट्रांसफॉर्मेशन टूल्स मुहैया करवाते हैं। हम चाहते हैं कि उद्यमियों को प्रशिक्षण दिया जाए ताकि वे अपने सलाहकार बन सकें।

एमएसएमई क्षेत्र को आम तौर पर देश के विकास के इंजन के रूप में जाना जाता है और देश की अर्थव्यवस्था में इसका योगदान 30 फीसदी से ज्यादा है और यह जीडीपी के साथ-साथ रोजगार भी पैदा करते है। कोविड महामारी का पूरे एमएसएमई क्षेत्र में गंभीर प्रभाव पड़ा था।

शेखर

वार्ता

More News
राज्य, समवर्ती क्षेत्र के सुधारों के लिए जीएसटी परिषद जैसा मंच हो: सीआईआई

राज्य, समवर्ती क्षेत्र के सुधारों के लिए जीएसटी परिषद जैसा मंच हो: सीआईआई

13 Jun 2024 | 10:58 PM

नयी दिल्ली, 13 जून (वार्ता) भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) ने राज्यों से जुड़े विषयों में नीतिगत सुधार के लिए जीएसटी परिषद जैसा मंच बनाने का सरकार को सुझाव दिया है और संगठन का अनुमान है कि चालू वित्त वर्ष में भारत की आर्थिक वृद्धि दर तथा मजबूत हो कर आठ प्रतिशत के स्तर पर पहुंच जाएगी।

see more..
रत्न आभूषण क्षेत्र का निर्यात प्रदर्शन इसकी मजबूती दर्शाता है: जीजेईपीसी-इंडिया

रत्न आभूषण क्षेत्र का निर्यात प्रदर्शन इसकी मजबूती दर्शाता है: जीजेईपीसी-इंडिया

13 Jun 2024 | 10:54 PM

मुंबई 13 जून (वार्ता) भारतीय रत्न आभूषण निर्यात संवर्धन परिषद (जीजेईपीसी-इंडिया) ने निर्यात के ताजा आंकड़ों का हवाला देते हुए अपनी एक रिपोर्ट में गुरुवार को कहा कि देश के रत्न और आभूषण क्षेत्र में मजबूती बनी हुई और कारोबार में वृद्धि जारी है।

see more..
रिलायंस जियो को मिला अंतरराष्ट्रीय ‘सीडीपी क्लाइमेट’ अवार्ड

रिलायंस जियो को मिला अंतरराष्ट्रीय ‘सीडीपी क्लाइमेट’ अवार्ड

13 Jun 2024 | 7:40 PM

नई दिल्ली, 13 जून (वार्ता) रिलायंस जियो इन्फोकॉम लिमिटेड को जलवायु परिवर्तन को थामने और व्यवसाय में कार्बन उत्सर्जन को सीमित करने की उसकी पहल के लिए वर्ष 2022-23 के लिए ‘कार्बन डिसक्लोजर प्रोजेक्ट (सीडीपी) क्लाइमेट’ अवार्ड दिया गया है। यह जानकारी कंपनी की गुरुवार को जारी एक विज्ञप्ति में दी गयी।

see more..
image