Tuesday, Feb 18 2020 | Time 17:34 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • नागरिक केन्द्रित सेवाएं प्रदान करने के लिए सर्वोच्च प्राथमिकता दी जाए:सोनी
  • सरोज पांडेय की देख-रेख में होगा भाजपा दिल्ली विस नेता का चुनाव
  • फिलीपींस ने हांगकांग-मकाओ की यात्रा संबंधी प्रतिबंध हटाये
  • हिंदू सिख शरणार्थियों को मुफ्त शिक्षा प्रदान की जायेगी: सिरसा
  • मिर्जापुर सड़क हादसों में छात्र और महिलाओं की मृत्यु
  • हिम स्खलन में लापता छात्र का पता लगाने के लिए तलाशी अभियान जारी
  • उप्र में 2017 से 20120 तक जहरीली शराब पीने से 128 लोगों की हुई मौत
  • अमर सिंह ने अमिताभ और उनके परिवार के प्रति खेद जताया
  • सुनील फाइनल में, अर्जुन और मेहर हारे
  • सुनील फाइनल में, अर्जुन और मेहर हारे
  • मोदी सरकार काम करे, बोलना-डोलना कम करे: शिव सेना
  • रक्षा अध्ययन एवं विश्लेषण संस्थान का नाम बदला
  • मारुति ने अपनी कार नयी इग्निस की घोषित की कीमतें
  • गोधरा से 22 लाख के सामान के साथ छह लुटेरे गिरफ्तार
  • कृषि निर्यात के लिए राज्यों में होगा अलग बजट
भारत


अयोध्या मामला : दो याचिकाकर्ता अदालत के बाहर हल के समर्थन में

अयोध्या मामला : दो याचिकाकर्ता अदालत के बाहर हल के समर्थन में

नयी दिल्ली, 12 नवम्बर (वार्ता) अयोध्या में बाबरी मस्जिद-राम जन्मभूमि विवाद मामले के दो याचिकाकर्ताओं ने इस मामले को अदालत से बाहर निपटाने के आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्री श्री रविशंकर के प्रयासों का समर्थन किया है।

सूत्रों ने सोमवार को यहां बताया कि अंजुमन मोहाफिज मस्जिद-वा-मकाबीर के अध्यक्ष एवं अयोध्या विवाद के याचिकाकर्ताओं में से एक हाजी महबूब अहमद और एक अन्य याचिकाकर्ता मोहम्मद उमर ने इस बाबत एक संयुक्त वक्तव्य जारी किया है।

अयोध्या स्थित केवड़ा मस्जिद के इमाम मौलाना जलाल अशरफ तथा दो अन्य व्यक्तियों ने भी बयान पर हस्ताक्षर किये हैं।

बयान में कहा गया है, “श्री श्री रविशंकर के अयोध्या मुद्दे को आपसी भाईचारे से हल करने के प्रयासों से हम भलीभांति परिचित हैं। हमारा मानना है कि अयोध्या मुद्दे का अदालत से बाहर किया गया फैसला ही हिन्दुओं और मुसलमानों के बीच लम्बे समय तक शांति, सौहार्द और सद्भाव कायम कर सकता है।”

बयान में श्री श्री रविशंकर के प्रयासों की प्रशंसा करते हुए कहा गया है कि वे इन प्रयासों का पूर्ण रूप से समर्थन करते हैं।

बाबरी मस्जिद-राम जन्मभूमि विवाद उच्चतम न्यायालय में लंबित है। इसकी सुनवाई अगले साल जनवरी में होने वाली है।

सुरेश उनियाल

वार्ता

image