Monday, Mar 25 2019 | Time 21:16 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • गोण्डा में असलहा फैक्ट्री का पर्दाफाश, एक बदमाश गिरफ्तार
  • चहेते अफसरों को सेवा विस्तार देना चुनावी आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन : कांग्रेस
  • 72 हजार देने का वादा गरीबों के साथ क्रूर मजाक : भाजपा
  • उप्र में लोकसभा के प्रथम चरण में 146 जबकि दूसरे चरण में 43 पर्चे दाखिल
  • ----
  • फाइनेंस कंपनी के कर्मी से एक लाख 40 हजार की लूट
  • रोस्टर प्रणाली : अध्यादेश पर रोक से सुप्रीम कोर्ट का इन्कार
  • अन्नपूर्णा देवी तथा जर्नादन पासवान ने ली भाजपा की सदस्यता
  • शराबी पति ने की पत्नी की हत्या
  • वाड्रा की याचिका पर दिल्ली हाईकोर्ट ने प्रवर्तन निदेशालय से जवाब मांगा
  • कांग्रेस के वायदे से अधिक मोदी सरकार दे चुकी है गरीबों को : जेटली
  • बिहार में पहले चरण की चार सीट के लिए 60 उम्मीदवारों ने भरा पर्चा
  • गुजरात में मार्च की समाप्ति से पहले ही तापलहर, कल भी जारी रहने की चेतावनी
  • तीन तलाक अध्यादेश के खिलाफ याचिका खारिज
भारत


अयोध्या मामला : दो याचिकाकर्ता अदालत के बाहर हल के समर्थन में

अयोध्या मामला : दो याचिकाकर्ता अदालत के बाहर हल के समर्थन में

नयी दिल्ली, 12 नवम्बर (वार्ता) अयोध्या में बाबरी मस्जिद-राम जन्मभूमि विवाद मामले के दो याचिकाकर्ताओं ने इस मामले को अदालत से बाहर निपटाने के आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्री श्री रविशंकर के प्रयासों का समर्थन किया है।

सूत्रों ने सोमवार को यहां बताया कि अंजुमन मोहाफिज मस्जिद-वा-मकाबीर के अध्यक्ष एवं अयोध्या विवाद के याचिकाकर्ताओं में से एक हाजी महबूब अहमद और एक अन्य याचिकाकर्ता मोहम्मद उमर ने इस बाबत एक संयुक्त वक्तव्य जारी किया है।

अयोध्या स्थित केवड़ा मस्जिद के इमाम मौलाना जलाल अशरफ तथा दो अन्य व्यक्तियों ने भी बयान पर हस्ताक्षर किये हैं।

बयान में कहा गया है, “श्री श्री रविशंकर के अयोध्या मुद्दे को आपसी भाईचारे से हल करने के प्रयासों से हम भलीभांति परिचित हैं। हमारा मानना है कि अयोध्या मुद्दे का अदालत से बाहर किया गया फैसला ही हिन्दुओं और मुसलमानों के बीच लम्बे समय तक शांति, सौहार्द और सद्भाव कायम कर सकता है।”

बयान में श्री श्री रविशंकर के प्रयासों की प्रशंसा करते हुए कहा गया है कि वे इन प्रयासों का पूर्ण रूप से समर्थन करते हैं।

बाबरी मस्जिद-राम जन्मभूमि विवाद उच्चतम न्यायालय में लंबित है। इसकी सुनवाई अगले साल जनवरी में होने वाली है।

सुरेश उनियाल

वार्ता

image