Wednesday, Apr 24 2019 | Time 09:43 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • चीन में रसायन संयंत्र में विस्फोट, तीन लोगों की मौत
  • ‘आतंकवाद के खिलाफ न्यूजीलैंड-फ्रांस मिलकर करेंगे काम’
  • कश्मीर में एक दिन स्थगित रहने के बाद ट्रेन सेवा शुरू
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 25 अप्रैल)
  • ट्रंप ने ट्वीटर के सीईओ से मुलाकात की
  • रुस के खसान शहर में किम के आगमन पर सुरक्षा व्यवस्ता दुरुस्त
  • उत्तर कोरिया के नेता किम पुतिन से बातचीत करने निजी ट्रेन से रवाना हुए
  • श्रीलंका हमले में 45 बच्चों की जान गई :यूनीसेफ
  • सउदी ने आतंकवाद फैलाने के आरोप में 37 नागरिकों को दी फांसी
  • अबू धाबी के क्राउन प्रिंस ने दक्षिण सूडान के राष्ट्रपति से की मुलाकात
  • रक्षा बलों के प्रमुखों को बदल सकते हैं श्रीलंका के राष्ट्रपति
  • मोरक्को पुलिस ने आईएस से जुड़े संदिग्ध को हिरासत में लिया
भारत


अयोध्या विवाद : विशेष जज की याचिका पर उप्र सरकार को नोटिस

अयोध्या विवाद : विशेष जज की याचिका पर उप्र सरकार को नोटिस

नयी दिल्ली, 10 सितम्बर (वार्ता) उच्चतम न्यायालय ने अयोध्या के विवादित ढांचे को ढहाये जाने के मामले की सुनवाई कर रहे विशेष न्यायाधीश सुरेन्द्र कुमार यादव की याचिका पर सोमवार को उत्तर प्रदेश सरकार से जवाब तलब किया।

श्री यादव ने अपनी याचिका में कहा है कि बाबरी विध्वंस मामले की सुनवाई पूरी किये जाने तक संबंधित जज का स्थानांतरण नहीं किये जाने का शीर्ष अदालत का आदेश उनकी पदोन्नति में आड़े आ रहा है।

याचिकाकर्ता ने न्यायालय से अपने आदेश में बदलाव करने और इलाहाबाद उच्च न्यायालय को उन्हें जिला जज पद पर पदोन्नत करने के आदेश की मांग की है।

सुनवाई के दौरान शीर्ष अदालत ने पूछा कि वह किस तरीके से सुनवाई दो साल के तय वक्त में पूरी करेंगे।

शीर्ष अदालत ने श्री यादव की अर्जी पर योगी सरकार के अलावा इलाहाबाद उच्च न्यायालय के रजिस्ट्रार को भी नोटिस जारी किया है।

सर्वोच्च न्यायालय ने सीलबंद लिफाफे में जवाबी हलफनामा दायर करने को कहा है।

गौरतलब है कि गत एक जून को इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने जजों के स्थानांतरण और पदोन्नति की अधिसूचना निकाली थी। इसमें श्री यादव का पदोन्नति के साथ-साथ स्थानांतरण किया गया था। उन्हें बदायूं का जिला एवं सत्र न्यायाधीश नियुक्त किया गया था, लेकिन उसी दिन एक और अधिसूचना निकाली गयी और उसमें उनका स्थानांतरण और प्रमोशन अगले आदेश तक निरस्त कर दी गई।

श्री यादव का कहना है कि वह आठ जून, 1990 को मुंसिफ मजिस्ट्रेट नियुक्त हुए थे। अठाईस साल का उनका बेदाग कैरियर है। उन्होंने ईमानदारी और निष्ठा से काम किया है। अब वह अपनी सेवा पूरी कर सेवानिवृत्ति के मुकाम पर पहुंचने वाले हैं। उनके साथ नियुक्त हुए सहयोगी और कनिष्ठ जिला न्यायाधीश तक पहुंच चुके हैं, लेकिन उनकी पदोन्नति को नकार दिया गया है। वह अब भी अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश (अयोध्या प्रकरण) पद पर काम कर रहे हैं।

सुरेश टंडन

वार्ता

More News
अतीक अहमद के खिलाफ सीबीआई जांच के आदेश

अतीक अहमद के खिलाफ सीबीआई जांच के आदेश

24 Apr 2019 | 12:02 AM

नयी दिल्ली 23 अप्रैल (वार्ता) उच्चतम न्यायालय ने उत्तर प्रदेश के पूर्व सांसद एवं बाहुबलि अतीक अहमद पर शिकंजा कसते हुए उसके खिलाफ जेल में व्यवसायी का अपहरण कर पिटाई किये जाने के मामले की केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से जांच कराने तथा घटना में शामिल जेल अधिकारियों को मंगलवार को निलंबित करने का आदेश दिया।

see more..
सुप्रीम कोर्ट ने राहुल काे व्यक्तिगत उपस्थिति से दी छूट

सुप्रीम कोर्ट ने राहुल काे व्यक्तिगत उपस्थिति से दी छूट

24 Apr 2019 | 12:02 AM

नयी दिल्ली, 23 अप्रैल (वार्ता) उच्चतम न्यायलय ने आपराधिक मानहानि मामले में मंगलवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को व्यक्तिगत उपस्थिति से छूट दे दी।

see more..
सनी देओल को गुरदासपुर से मिला भाजपा का टिकट

सनी देओल को गुरदासपुर से मिला भाजपा का टिकट

23 Apr 2019 | 10:06 PM

नयी दिल्ली, 23 अप्रैल (वार्ता) भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने मशहूर बॉलीवुड कलाकार सनी देओल को पंजाब की गुरदासपुर संसदीय क्षेत्र से उम्मीदवार बनाया है जबकि होशियारपुर (सु.) सीट से केन्द्रीय मंत्री विजय सांपला का टिकट काट कर सोम प्रकाश को प्रत्याशी घोषित किया है।

see more..
समुद्र के अंदर बुलेट ट्रेन की लाइन बिछाने की निविदा जारी

समुद्र के अंदर बुलेट ट्रेन की लाइन बिछाने की निविदा जारी

23 Apr 2019 | 8:29 PM

नयी दिल्ली, 23 अप्रैल (वार्ता) राष्ट्रीय हाईस्पीड रेल निगम ने मुंबई-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन परियोजना में मुंबई में समुद्र के अंदर से गुजरने वाली 20 किलोमीटर से अधिक लंबी रेललाइन बिछाने के लिए मंगलवार को निविदा जारी की।

see more..
महिला उत्पीड़न संबंधी सिफारिशों के क्रियान्वयन पर आयोग की नजर

महिला उत्पीड़न संबंधी सिफारिशों के क्रियान्वयन पर आयोग की नजर

23 Apr 2019 | 8:29 PM

नयी दिल्ली 23 अप्रैल (वार्ता) राष्ट्रीय महिला आयोग ने मंगलवार को कहा कि देश भर में महिला उत्पीड़न और प्रताड़ना की जांच के लिए गठित की गयी जांच समिति की सिफारिशों को संबंधित अधिकारियों के पास भेजा गया है और इनको लागू करने की प्रक्रिया की पूरी निगरानी की जा रही है।

see more..
image