Monday, Aug 26 2019 | Time 10:05 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सिंधु ने हर हिंदुस्तानी का सिर गर्व से ऊंचा कर दिया : रघुवर
  • हांगकांग में भड़की हिंसा, 15 पुलिस अधिकारी घायल
  • नीतीश ने पी वी सिंधु को दी बधाई
  • बुमराह का कहर, भारत की विंडीज पर सबसे बड़ी जीत
  • बुमराह का कहर, भारत की विंडीज पर सबसे बड़ी जीत
  • बुमराह का कहर, भारत की विंडीज पर सबसे बड़ी जीत
  • नीतीश ने पी वी सिंधु को दी बधाई
  • केरल में लॉरी के पलटने से तीन लोगों की मौत
  • जी-7 में रूस की वापसी पर ट्रंप का मतभेद
  • केन्द्रीय टीम ने बाढ़ प्रभावित इलाकों का लिया जायजा
  • सोलोमन द्वीप पर भूकंप के झटके
  • मुजफ्फरनगर के शाहपुर इलाके में बस पलटी,32 श्रद्धालु घायल
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 27 अगस्त)
  • इजराइल ने गाज़ा में किया जवाबी हवाई हमला
फीचर्स


आजाद की मां की समाधि झेल रही है उपेक्षा का दंश

आजाद की मां की समाधि झेल रही है उपेक्षा का दंश

झांसी 22 जुलाई (वार्ता) भारत मां की आजादी के लिए अपना र्स्वस्व न्यौछावर करने वाले महानायक चंद्रशेखर आजाद की मां जगरानी देवी की उत्तर प्रदेश के झांसी स्थित समाधि सरकारी उदासीनता के कारण उपेक्षा का दंश झेल रही है।

इस महान स्वतंत्रता सेनानी की जयंती के अवसर पर कल शहर में कई कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे और सरकारी अमला तथा लोग भी उनकी प्रतिमा पर माल्यार्पण करेंगे लेकिन भारत मां को गुलामी की बेडियों से आजाद कराने के लिए सब कुछ बलिदान करने वाले आजाद की खुद की मां की समाधि कल भी अंधेरी ही रह जायोगी। इस भागादौड़ में किसी के पास इतना समय नहीं कि ऐसे वीर सपूत को जन्म देनी वाली जगरानी देवी को भी याद कर लिया जाए जबकि उस दौर में जगरानी देवी की हमसफर रही 95 साल की नूरजहां आपा ने यूनीवार्ता को बताया कि मैं और जगरानी जी सुख दुख के साथी थे। झुर्रियों से भरे चेहरे पर कंपकंपाते हाेठों से वीर शहीद के परिवार के बारे में बताते हुए नूरजहां आपा की आंखों में गजब की चमक दिखायी दे रही थी और लग रहा था कि तिवारी जी,जगरानी जी और उनके बच्चों चंद्रशेखर और सुखदेव को लेकर उनकी सारी स्मृतियां ताजा हो गयीं है।

इस उम्र में भी बेहद अच्छी याद्दाश्त के साथ उन्होंने बताया कि मेरा पीहर और ससुराल दोनों ही भाबरा का ही है। मेरे पति जान मोहम्मद हैड साहब थे और आजाद के हमसखा थे। दोनों का बचपन साथ ही गुजरा । खाने से लेकर कबड्डी तक और कंचे खेलने से लेकर पतंग उड़ाने तक सब कुछ दोनों ने साथ साथ किया। आजाद अपनी मां का बहुत ख्याल रखते थे ।बेहद जल्दी वह आजादी की जंग में शिरकत करने के लिए घर से बाहर निकल गये थे लेकिन मां की परवाह हमेशा उन्हें बनी रहती थी।

पिता तिवारी जी के देहांत के बाद आजाद जब भी घर आते तो नूरजहां और पास पडोस के लोगों को दो चार रूपये दे जाते थे और मां का ध्यान रखने को कहते थे। जैसे जैसे आजादी का जुनून नौजवानों पर बढा तो छोटा बेटा सुखदेव भी घर छोडकर चला गया। जगरानीजी अब घर में अकेली थी तो नूरजहां से ही अपना दुख सुख कहती थीं। नूरजहां अकेले होने के कारण कभी कभी उन्हें खाना भी बनाकर दे जातीं थीं। जगरानी देवी को अपने बेटे आजाद पर बहुत गर्व था वह कहती थीं “ यह मेरा बेटा तो है लेकिन वह अब भारत मां का सपूत हो गया है।”

आजाद की मौत की सूचना जब जगरानी जी को मिली तो मैं भी उनके साथ थी। इस बडे धक्के के बाद जगरानी जी बहुत टूट गयीं और बहुत रोयीं। आजाद के शहीद होने के बाद तो जगरानी जी और आंसुओं का चोली दामन का साथ हो गया। जब तक जगरानी जी भाबरा में रहीं तक तक हमारा चूल्हा चौका चक्की खाना सब साथ में ही चला लेकिन इसके बाद वह झांसी चलीं गयीं तो उसके बाद मेरा उनसे मिलना नहीं हो पाया फिर काफी समय बाद जगरानी जी के भी देहांत की सूचना मिली और उनके जाने के साथ ही आजाद के परिवार से वो गहरा जुड़ाव अब केवल मेेरी स्मृतियों में ही बचा है।

सोनिया

वार्ता

More News
आजादी के दीवानो में जोश भरने वीरंगना लक्ष्मीबाई आई थी भरेह किला

आजादी के दीवानो में जोश भरने वीरंगना लक्ष्मीबाई आई थी भरेह किला

12 Aug 2019 | 1:26 PM

इटावा , 12 अगस्त (वार्ता) प्रथम स्वतंत्रता संग्राम की नायिका वीरंगना रानी लक्ष्मी बाई इटावा में चंबल नदी के किनारे स्थित भरेह के ऐतिहासिक किले मे आजादी के दीवानो मे जोश भरने को आई थी ।

see more..
रक्षा बंधन पर ‘पत्थर युद्ध’ के लिए रणबांकुरे हैं तैयार

रक्षा बंधन पर ‘पत्थर युद्ध’ के लिए रणबांकुरे हैं तैयार

11 Aug 2019 | 2:24 PM

नैनीताल, 11 अगस्त (वार्ता) रक्षाबंधन पर जहां पूरा देश भाई बहन के पवित्र प्यार की डोर से बंधकर खुशी में सराबोर रहता है वहीं इस दिन उत्तराखंड में कुमायूं के देवीधूरा में ‘पत्थर युद्ध’ खेला जाता है और इसकी तैयारी में जुटे प्रशासन ने जरूरी चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने की पुख्ता व्यवस्था कर ली है।

see more..
ठाकुर की मदद से ही फूलन ने जमाये थे राजनीति के क्षेत्र में पांव

ठाकुर की मदद से ही फूलन ने जमाये थे राजनीति के क्षेत्र में पांव

09 Aug 2019 | 3:32 PM

इटावा , 09 अगस्त (वार्ता) अस्सी के दशक में चंबल घाटी मे आतंक का पर्याय बनी दस्यु सुंदरी फूलन देवी के तेवर अगणी जाति विशेषकर ठाकुर को प्रति बेहद तल्ख थे लेकिन यह भी सच है कि बीहड़ों से निकल कर राजनीति के गलियारे में कदम रखने में उनकी मदद करने वाला एक ठाकुर ही था।

see more..
बुंदेलो की शौर्य गाथा ‘आल्हा’ पर गुमनामी का साया

बुंदेलो की शौर्य गाथा ‘आल्हा’ पर गुमनामी का साया

04 Aug 2019 | 2:30 PM

महोबा 04 अगस्त (वार्ता) मातृ भूमि की आन,बान और शान के लिए अपना सर्वस्व न्योछावर करने वाले 12वीं सदी के बुंदेले शूरवीरों की लोक शौर्य गाथा ‘आल्हा’ के अस्तित्व पर संकट छाने लगा है।

see more..
आजाद की मां की समाधि झेल रही है उपेक्षा का दंश

आजाद की मां की समाधि झेल रही है उपेक्षा का दंश

22 Jul 2019 | 10:26 PM

झांसी 22 जुलाई (वार्ता) भारत मां की आजादी के लिए अपना र्स्वस्व न्यौछावर करने वाले महानायक चंद्रशेखर आजाद की मां जगरानी देवी की उत्तर प्रदेश के झांसी स्थित समाधि सरकारी उदासीनता के कारण उपेक्षा का दंश झेल रही है।

see more..
image