Monday, Aug 26 2019 | Time 05:51 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • गाज़ा से इजराइल की ओर दागी गयी मिसाइल
  • बुमराह का कहर, भारत की विंडीज पर सबसे बड़ी जीत
  • स्विज़रलेंड में विमान दुर्घटना में तीन की मौत
  • सोनिया,ममता, प्रिंयका ने सिंधू को दी बधाई
मनोरंजन » जानीमानी हस्तियों का जन्म दिन


भारतीय सिनेमा जगत के युगपुरूष थे बी.आर. चोपड़ा

भारतीय सिनेमा जगत के युगपुरूष थे बी.आर. चोपड़ा

..जन्मदिवस 22 अप्रैल  ..
मुम्बई 21 अप्रैल (वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत में बी.आर.चोपड़ा को एक ऐसे फिल्मकार के रूप में याद किया जायेगा जिन्होंने पारिवारिक, सामाजिक और साफ-सुथरी फिल्में बनाकर लगभग पांच दशक तक सिने प्रेमियों के दिलो-दिमाग में
अपनी खास जगह बनायी।

बाइस अप्रैल 1914 को पंजाब के लुधियाना शहर में जन्मे बी आर चोपड़ा उर्फ बलदेव राय चोपडा बचपन के दिनों से ही फिल्म में काम करके शोहरत की बुलंदियों पर पहुंचना चाहते थे।
बी.आर.चोपड़ा ने अंग्रेजी साहित्य में अपनी स्नातकोत्तर की शिक्षा लाहौर के मशहूर गवर्नमेंट कालेज में पूरी की।
बी.आर.चोपड़ा ने अपने कैरियर की शुरूआत बतौर फिल्म पत्रकार के रूप में की।
फिल्मी पत्रिका ..सिने हेराल्ड.. में वह फिल्मों की समीक्षा लिखा करते थे।
वर्ष 1949 में फिल्म ..करवट.. से उन्होंने फिल्म निर्माण के क्षेत्र में कदम रखा लेकिन दुर्भाग्य से यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर बुरी तरह असफल हो गयी।
वर्ष 1951 में अशोक कुमार अभिनीत फिल्म ..अफसाना ..को बी.आर.चोपड़ा ने निर्देशित किया।
फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर अपनी सिल्वर जुबली:25 सप्ताह:पूरी की।
इस फिल्म की सफलता के बाद बी.आर. चोपडा फिल्म इंडस्ट्री में अपनी पहचान बनाने में सफल हो गये।

वर्ष 1955 में बी.आर.चोपडा ने ..बी.आर.फिल्मस ..बैनर का निर्माण किया।
बी.आर.फिल्मस के बैनर तले उन्होंने सबसे पहले फिल्म ..नया दौर .. का निर्माण किया।
फिल्म नया दौर के माध्यम से बी.आर.चोपडा ने आधुनिक युग और ग्रामीण संस्कृति के बीच टकराव को रूपहले पर्दे पर पेश किया जो दर्शकों को काफी पसंद आया।
फिल्म ..नया दौर .. ने सफलता के नये कीर्तिमान स्थापित किये।
बी.आर.चोपड़ा के बैनर तले निर्मित फिल्मों पर यदि एक नजर डालें तो उनकी निर्मित फिल्में समाज को संदेश देने वाली होती थीं।
बी.आर.चोपड़ा अपने दर्शकों को हर बार कुछ नया देना चाहते थे।
इसी को देखते हुये वर्ष 1960 में उन्होंने कानून जैसी प्रयोगात्मक फिल्म का निर्माण किया।
यह फिल्म इंडस्ट्री में एक नया प्रयोग था जब फिल्म का निर्माण बगैर गीतों के भी किया गया।

अपने भाई और जाने-माने निर्माता निर्देशक यश चोपड़ा को शोहरत की बुलंदियों पर पहुंचाने में बी.आर.चोपडा का अहम योगदान रहा है।
धूल का फूल, वक्त और इत्तेफाक जैसी फिल्मों की सफलता के बाद ही यश चोपड़ा फिल्म इंडस्ट्री में निर्देशक के रूप में स्थापित हुये थे।
सुप्रसिद्ध पार्श्वगायिका आशा भोंसले को कामयाबी के शिखर पर पहुंचाने में निर्माता.निर्देशक बी.आर.चोपड़ा की फिल्मों का अहम योगदान रहा है।
पचास के दशक में जब आशा भोंसले को केवल बी और सी ग्रेड की फिल्मों मे ही गाने का मौका मिला करता था।
बी.आर. चोपड़ा ने आशा भोंसले की प्रतिभा को पहचाना और अपनी फिल्म ..नया दौर.. में गाने का मौका दिया।
यह फिल्म आशा भोंसले के सिने कैरियर की पहली सुपरहिट फिल्म साबित हुई।
इस फिल्म में मोहम्मद रफी और आशा भोंसले के गाये युगल गीत बहुत लोकप्रिय हुये जिनमें ..मांग के साथ तुम्हारा.. ..उड़े जब जब जुल्फें तेरी..गीत शामिल हैं।

फिल्म ..नया दौर .. की कामयाबी के बाद हीं आशा को अपना सही मुकाम हासिल हुआ।
इसके बाद बी.आर. चोपड़ा ने आशा को अपनी कई फिल्मों में गाने का मौका दिया।
इन फिल्मों में वक्त .गुमराह हमराज आदमी और इंसान और धुंध प्रमुख हैं।
आशा भोंसले के अलावा पार्श्वगायक महेन्द्र कपूर को भी हिन्दी फिल्म इंडस्ट्री में स्थापित करनें में बी.आर.चोपड़ा की अहम भूमिका रही।
अस्सी के दशक में स्वास्थ्य खराब रहने के कारण बी.आर.चोपड़ा ने फिल्म का निर्माण करना कुछ कम कर दिया।
वर्ष 1985 में बी.आर .चोपड़ा ने दर्शकों की नब्ज पहचानते हुये छोटे पर्दे की ओर भी रूख कर लिया ।
दूरदर्शन के इतिहास में अब तक सबसे कामयाब सीरियल ..महाभारत.. के निर्माण का श्रेय भी बी.आर. चोपड़ा को हीं जाता है ।
लगभग 96 प्रतिशत दर्शकों तक पहुंचने के साथ ही इस सीरियल ने अपना नाम ..गिनीज बुक ऑफ वल्र्ड रिकार्ड में भी दर्ज कराया।

बी.आर.चोपड़ा को मिले सम्मान पर यदि नजर डाले वर्ष तो वह 1998 में हिन्दी सिनेमा के सर्वोच्च सम्मान दादा साहब फाल्के अवार्ड से सम्मानित किये गये।
इसके अलावा वर्ष 1960 में प्रदर्शित फिल्म ..कानून ..के लिये वह सर्वश्रेष्ठ निर्देशक के फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित किये गये।
बहुमुखी प्रतिभा के धनी बी.आर.चोपड़ा ने फिल्म निर्माण के अलावा बागवान और बाबुल की कहानी भी लिखी।
अपनी निर्मित फिल्मों से दर्शकों के बीच खास पहचान बनाने वाले फिल्मकार बी.आर. चोपड़ा पांच नवंबर 2008 को इस दुनिया को अलविदा कह गये ।

किसी

किसी फिल्म में इंटरफेयर नहीं किया :सुनील शेट्टी

मुंबई 25 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड के माचो मैन सुनील शेट्टी का कहना है कि उन्होंने अपने करियर के दौरान किसी भी फिल्म में इंटरफेयर नही किया है।

बचपन

बचपन से ही अभिनेत्री बनना चाहती थी सारा अली खान

मुंबई 25 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री सारा अली खान का कहना है कि वह बचपन के दिनों से ही अभिनेत्री बनना चाहती थी।

सलमान,आलिया

सलमान,आलिया की इंशाअल्लाह, प्रीटी वूमेन से होगी प्रेरित!

मुंबई 24 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड के दबंग स्टार सलमान खान और आलिया भट्ट की जोड़ी वाली फिल्म इंशाअल्लाह के हॉलीवुड फिल्म प्रीटी वूमेन से इंस्पायरड होने की चर्चा है।

शकुंतला

शकुंतला की बायोपिक को लेकर उत्साहित हैं विद्या

मुंबई 24 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री विद्याा बालन गणित जीनियस शकुंतला देवी की बायोपिक में काम करने
को लेकर उत्साहित हैं।

आयुष्मान

आयुष्मान की अंधाधुन साउथ कोरिया में होगी रिलीज

मुंबई 24 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता आयुष्मान खुराना की सुपरहिट फिल्म अंधाधुन साउथ कोरिया में रिलीज होने जा रही है।

करीना

करीना कपूर को अच्छी दोस्त मानती है सारा अली खान

मुंबई 23 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री सारा अली खान का कहना है कि वह करीना कपूर को अच्छी दोस्त मानती है और उनकी बहुत इज्जत करती है।

दिलकश

दिलकश अंदाज से दर्शकों को दीवाना बनाया सायरा बानु ने

.जन्मदिन 23 अगस्त.
मुंबई 22 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड में सायरा बानु को एक ऐसी अभिनेत्री के तौर पर शुमार किया जाता है जिन्होंने साठ और सत्तर के दशक में अपनी दिलकश अदाओं और दमदार अभिनय से सिने प्रेमियों को दीवाना बनाया।

हॉलीवुड

हॉलीवुड प्रोजेक्ट में एक्शन में नजर आएंगी प्रियंका

मुंबई 23 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा अपने नये हॉलीवुड प्रोजेक्ट में एक्शन अवतार में नजर आएंगी।

हाउसफुल

हाउसफुल 4 में अक्षय-राणा गाएंगे कव्वाली

मुंबई 22 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता अक्षय कुमार और राणा दग्गुबाती आने वाली फिल्म हाउसफुल 4 में कव्वाली गाते नजर आयेंगे।

ओ

ओ साथी रे तेरे बिना भी क्या जीना

..पुण्यतिथि 24 अगस्त के अवसर पर ..
मुंबई 23 अगस्त (वार्ता)
..जिंदगी से बहुत प्यार हमने किया
मौत से भी मोहब्बत निभायेगें हम
रोते रोते जमाने में आये मगर
हंसते हंसते जमाने से जायेगे हम.
जिंदगी के अनजाने सफर से बेहद प्यार करने वाले हिन्दी सिने जगत के मशहूर संगीतकार कल्याण जी का जीवन से प्यार उनकी संगीतबद्ध इन पंक्तियों मे समाया हुआ है।

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

..जन्मदिवस 29 अगस्त के अवसर पर ..
मुंबई 28 अगस्त(वार्ता)किंग ऑफ पॉप माइकल जैक्सन को ऐसी शख्सियत के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने पॉप संगीत की दुनिया को पूरी तरह बदलकर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बनायी है।

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

नयी दिल्ली 15 जनवरी (वार्ता) दिल्ली में भी फिल्म उद्योग स्थापित करने के मकसद से पहले डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह एवं विपणन 2019 की कल रात यहां देश-विदेश के फिल्मी जगत के लोगों की मौजूदगी में शुरूआत हुयी।

ओ साथी रे तेरे बिना भी क्या जीना

ओ साथी रे तेरे बिना भी क्या जीना

..पुण्यतिथि 24 अगस्त के अवसर पर ..
मुंबई 23 अगस्त (वार्ता)
..जिंदगी से बहुत प्यार हमने किया
मौत से भी मोहब्बत निभायेगें हम
रोते रोते जमाने में आये मगर
हंसते हंसते जमाने से जायेगे हम.
जिंदगी के अनजाने सफर से बेहद प्यार करने वाले हिन्दी सिने जगत के मशहूर संगीतकार कल्याण जी का जीवन से प्यार उनकी संगीतबद्ध इन पंक्तियों मे समाया हुआ है।

image