Friday, Sep 20 2019 | Time 14:04 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • पाक अधिकृत कश्मीर को भारत में किया जाए शामिल-खान
  • प्रणीत की हार से चाइना ओपन में भारतीय चुनौती खत्म
  • उर्वरकों को लेकर किसान संगठनों से भी बातचीत हो :रुपाला
  • टिड्डी दल का राजस्थान में हमला
  • सुशील क्वालिफिकेशन में हारे
  • सुशील क्वालिफिकेशन में हारे
  • सड़क दुर्घटना में बच्चे और व्यक्ति की मौत
  • एचपीएल की नाप्था इकाई में भीषण आग,15 श्रमिक झुलसे
  • कर्तव्य में लापरवाही बरतने के आरोप में प्रधानाध्यापक निलंबित
  • मनप्रीत की कप्तानी में बेल्जियम दौरे के लिये टीम घोषित
  • मनप्रीत की कप्तानी में बेल्जियम दौरे के लिये टीम घोषित
  • एचपीएल की नाप्था इकाई में लगी भीषण आग
  • भाजपा ने सुप्रियाे के साथ हुई बदसलूकी पर ममता पर साधा निशाना
  • जरदारी और उनकी बहन पर भ्रष्टाचार मामले में चार अक्टूबर को तय होंगे आरोप
  • अर्थव्यवस्था को रफ्तार देने के लिए सरकार के बड़े ऐलान: कंपनी कर दर घटाकर 22 फीसदी
नए सांसद » नए सांसद


संत से सांसद बने बाबा बालकनाथ

संत से सांसद बने बाबा बालकनाथ

अलवर 02 जून (वार्ता) नाथ सम्प्रदाय के आठवें मुख्य महंत बाबा बालकनाथ ने एक संत के रुप में प्रसिद्धि पाने के साथ राजनीति में भी अपनी पहचान बनाई और वह राजस्थान के अलवर संसदीय क्षेत्र से सांसद का चुनाव लड़कर पहले प्रयास में ही लोकसभा पहुंचने में सफल रहे।

बाबा बालकनाथ का जन्म अलवर जिले के बहरोड़ तहसील के कोहराना गांव में 16 अप्रैल 1984 को एक किसान परिवार में हुआ। उनके पिता सुभाष यादव नीमराना के बाबा खेतानाथ आश्रम में सेवा करते थे और बालकनाथ का जन्म गुरुवार को होने के कारण महंत खेतानाथ ने उनका नाम गुरुमुख रखा था। बाद में बाबा बालकनाथ को संत बनने के लिए छह वर्ष की उम्र में ही उन्हें आश्रम के महंत सोमनाथ को सौंप दिया गया। सोमनाथ ने छह महीने बाद ही गुरुमुख को हरियाणा के अस्थल बोहर रोहतक आश्रम में महंत बाबा चांदनाथ के पास भेज दिया गया। गुरुमुख की चंचलता के कारण उन्हें बालकनाथ के नाम से पुकारा जाने लगा और उनका नाम बालकनाथ पड़ गया।

महंत चांदनाथ ने 29 जुलाई, 2016 को बालकनाथ को उनके उत्तराधिकारी के रूप में घोषित किया था, इस अवसर पर आयोजित समारोह में योगी आदित्यनाथ और बाबा रामदेव भी मौजूद थे। अलवर से सांसद रहे महंत चांदनाथ का 17 सितंबर 2018 को निधन हो गया था। वह रोहतक में बाबा मस्त नाथ विश्वविद्यालय के चांसलर भी है।

बाबा चांदनाथ के निधन के बाद अलवर संसदीय क्षेत्र में हुए लोकसभा उपचुनाव में भाजपा को यह सीट कांग्रेस के सामने खोनी पड़ी थी। लेकिन सत्रहवीं लोकसभा चुनाव में भाजपा ने चांदनाथ के उत्तराधिकारी बाबा बालकनाथ को चुनाव मैदान में उतारकर कांग्रेस से यह सीट फिर छीन ली। बाबा बालकनाथ ने कांग्रेस उम्मीदवार पूर्व केन्द्रीय मंत्री भंवर जितेन्द्र सिंह को तीन लाख 29 हजार 971 मतों से हराया। बाबा बालकनाथ को सात लाख 60 हजार 201 तथा श्री सिंह को चार लाख 30 हजार 230 मत मिले।

चुनाव जीतने के बाद बाबा बालकनाथ ने कहा कि अलवर की जनता ने ऐतिहासिक परिणाम देते हुए उन्हें बड़ी जिम्मेदारी दी है और इसे इससे ज्यादा निभाना है। वह विकास के लिए हमेशा तत्पर रहेंगे।

More News
संत से सांसद बने बाबा बालकनाथ

संत से सांसद बने बाबा बालकनाथ

02 Jun 2019 | 5:17 PM

अलवर 02 जून (वार्ता) नाथ सम्प्रदाय के आठवें मुख्य महंत बाबा बालकनाथ ने एक संत के रुप में प्रसिद्धि पाने के साथ राजनीति में भी अपनी पहचान बनाई और वह राजस्थान के अलवर संसदीय क्षेत्र से सांसद का चुनाव लड़कर पहले प्रयास में ही लोकसभा पहुंचने में सफल रहे।

see more..
पार्श्वगायक से सासंद बने हंस राज हंस

पार्श्वगायक से सासंद बने हंस राज हंस

02 Jun 2019 | 2:31 PM

मुंबई 02 जून (वार्ता) बॉलीवुड के जाने माने पार्श्वगायक हंस राज ने संघर्ष के बदौलत न सिर्फ पार्श्वगायन की दुनिया में खास पहचान बनायी बल्कि इस बार के लोकसभा चुनाव में जीत हासिल कर वह सांसद बनने में कामयाब हुए।

see more..
अर्जुन ने तय किया पार्षद से सांसद तक का सफर

अर्जुन ने तय किया पार्षद से सांसद तक का सफर

01 Jun 2019 | 3:30 PM

कोलकाता, 01 जून (वार्ता) कभी तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी के करीबी रहे अर्जुन सिंह पश्चिम बंगाल की बैरकपुर लोकसभा सीट से अपने ही पूर्व साथी और दो बार के सांसद दिनेश त्रिवेदी को हराकर भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर चुनाव जीतकर संसद पहुंचे हैं।

see more..
पेशे से चिकित्सक के पी यादव ने ढहाया सिंधिया का किला

पेशे से चिकित्सक के पी यादव ने ढहाया सिंधिया का किला

30 May 2019 | 4:08 PM

शिवपुरी 30 मई (वार्ता) मध्यप्रदेश में सिधिंया परिवार की परंपरागत संसदीय सीट गुना शिवपुरी में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया पर अप्रत्याशित जीत हासिल कर पहली बार लोकसभा पहुंचे के पी यादव इस क्षेत्र का तेजी से विकास को अपनी पहली प्राथमिकता मानते हैं।

see more..
परंपरा तोड़ पितृपक्ष में शादी करने वाली कविता सिंह पहली बार बनी सांसद

परंपरा तोड़ पितृपक्ष में शादी करने वाली कविता सिंह पहली बार बनी सांसद

30 May 2019 | 2:37 PM

सीवान 30 मई (वार्ता) राजनीतिक विवशता के कारण स्थापित परंपराओं को तोड़कर पितृपक्ष में विवाह करने वाली कविता सिंह पहले बिहार में सीवान के दरौंधा की विधायक और अब पहली बार सीवान से सांसद बनने में भी कामयाब हुई हैं।

see more..
image