Wednesday, Sep 19 2018 | Time 14:27 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • मुर्हरम पर मजहबी सदभाव का प्रतीक है इटावा की “लुट्टस” परम्परा
  • प्रतियोगिता में दौड़ते समय गिरकर छात्र की मृत्यु
  • बुधनी से इंदौर तक नयी रेल लाइन को मंजूरी
  • कांग्रेस का राफेल सौदे पर कैग से व्यापक जांच का आग्रह
  • जन आंकाक्षाओं की चुनौती पर खरा उतरे पुलिस
  • तलचर उर्वरक कारखाने के शेयर निवेश प्रस्ताव को मंजूरी
  • सील तोड़ने पर मनोज तिवारी को सुप्रीम कोर्ट ने किया तलब
  • किसी नेता के अहम की संतुष्टि के लिए राफेल सौदे की जांच नहीं: प्रसाद
  • एससीएसटी एक्ट के खिलाफ महाजन के घर के बाहर प्रदर्शन
  • त्रिपुरा ने बंदरगाह इस्तेमाल की अनुमति के बंगलादेश के निर्णय का किया स्वागत
  • तीन तलाक पर अध्यादेश
  • गुजरात में विधायकों, मंत्रियों के वेतन में बढ़ोत्तरी
  • नन से दुष्कर्म के आरोपी बिशप जांच अधिकारी के समक्ष पेश
  • बिलासपुर लाठी चार्ज घटना को लेकर कांग्रेस ने किया विरोध प्रदर्शन
राज्य Share

श्याम रजक पर बंद समर्थकों का हमला

श्याम रजक पर बंद समर्थकों का हमला

पटना 06 सितम्बर (वार्ता) बिहार में सत्तारूढ़ जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के वरिष्ठ नेता और राज्य के पूर्व मंत्री श्याम रजक पर आज सवर्णों के राष्ट्रव्यापी बंद के दौरान बेगूसराय जिले के मुफस्सिल थाना क्षेत्र में हमला किया गया, जिसमें उनका वाहन क्षतिग्रस्त हो गया और उन्हें चोटें आयी।

श्री रजक ने यहां बताया कि वह बिहार विधानसभा द्वारा अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति कल्याण समिति के सदस्यों के साथ राज्य के विभिन्न जिलों के अध्ययन यात्रा पर हैं और इसी सिलसिले में जब वह बेगूसराय से खगड़िया जा रहे थे तभी मुफस्सिल थाना क्षेत्र के इनियार गांव के निकट बंद समर्थकों ने उनके वाहन पर हमला कर दिया। उन्होंने बताया कि बंद समर्थकों की संख्या 35-40 के करीब थी और उन्होंने उनके वाहन पर ईंट-पत्थरों से हमला कर दिया, जिससे वाहन के शीशे टूट गये।

जदयू नेता ने बताया कि शीशे टूटने के कारण उनके सिर में चोटें आयी हैं। उन्होंने बताया कि बंद समर्थकों के पथराव में उनके अंगरक्षक और वाहन चालक को भी चोटें आयी हैं। उन्होंने कहा, “यह मुझ पर व्यक्तिगत नहीं बल्कि लोकतंत्र पर हमला है और इस घटना से मैं आहत हूं।”

श्री रजक ने कहा कि इसके बाद उनके स्कॉर्ट में लगे जवानों ने दो चक्र गोलियां चलायी, जिसके बाद आक्रमणकारी भाग गये और उनकी जान बच सकी। उन्होंने बताया कि इस मामले में वह बलिया थाने में एक प्राथमिकी दर्ज करायी है। उन्होंने बताया कि उनके साथ अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति कल्याण समिति शामिल अन्य विधायक भी मौजूद थे।

गौरतलब श्री रजक बिहार विधान सभा की अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति कल्याण समिति के सभापति हैं और वह समिति के अन्य सदस्यों के साथ राज्य के विभिन्न जिलों की अध्य्यन यात्रा पर निकले हैं।

उमेश सूरज

वार्ता

image