Tuesday, Oct 20 2020 | Time 16:37 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • नैनीताल रोप-वे मामले में सरकार और सभी पक्षकार उचित समाधान निकालें: हाईकोर्ट
  • आंध्र में अगले 48 घंटों में भारी बारिश के आसार
  • हिमाचल में प्रशासनिक फेरबदल, सात जिलों के उपायुक्तों समेत 21 आईएएस बदले
  • नीतीश सरकार ने बिहार में राेजगार देने की कोई पहल ही नहीं की : तेजस्वी
  • उमर, महबूबा ने की इंस्पेक्टर की हत्या की निंदा
  • वामपंथी नेता मारुति मनपाडे का कोरोना से निधन
  • तीसरे दिन चढ़ा शेयर बाजार, सेंसेक्स 113 अंक मजबूत
  • भाजपा नेता दिलीप घोष को अस्पताल से मिली छुट्टी
  • केजरीवाल तेलंगाना को 15 करोड़ की देंगे मदद
  • प्लेऑफ की दावेदारी पुख्ता करने उतरेंगे बेंगलुरु और कोलकाता
  • प्लेऑफ की दावेदारी पुख्ता करने उतरेंगे बेंगलुरु और कोलकाता
  • बुल्गारिया में कोरोना संक्रमितों की संख्या 30,527 हुई
  • त्योहारों, उर्स और मेलों के दृष्टिगत डीजीपी ने अधीनस्थों को दिये निर्देश
राज्य » बिहार / झारखण्ड


केंद्र के पैकेज का लाभ किसानों-उद्यमियों काे पहुंचाने में सहयोग करे बैंक : सुशील

केंद्र के पैकेज का लाभ किसानों-उद्यमियों काे पहुंचाने में सहयोग करे बैंक : सुशील

पटना 09 सितंबर(वार्ता) बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कोरोना संकट से निबटने के लिए केंद्र सरकार के घोषित 20 लाख करोड़ रुपये के पैकेज का अधिक से अधिक लाभ राज्य के किसानों, उद्यमियों, छोटे कारोबारियों तक पहुंचाने में बैंकों को सहयोग करने का आह्वान किया।

श्री मोदी ने बुधवार को यहां राज्यस्तरीय बैंकर्स समिति की 73वीं बैठक में आत्मनिर्भर भारत योजना के विभिन्न अव्ययों की गहन समीक्षा करते हुए कोरोना संकट से निपटने के लिए केंद्र सरकार के घोषित 20 लाख करोड़ रुपये के पैकेज का अधिक से अधिक लाभ बिहार के किसानों, उद्यमियों, छोटे कारोबारियों तक पहुंचाने में बैंकों को सहयोग करने का आह्वान किया। इसके साथ ही उन्होंने वार्षिक साख योजना की 10 प्रतिशत से भी कम उपलब्धि वाले राज्य के 10 जिलों जैसे बांका (6.29 प्रतिशत), अरवल (6.63 प्रतिशत), मधुबनी (7.68 प्रतिशत), सिवान (8.01 प्रतिशत) की अगले 15 दिन में अलग से वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के जरिए समीक्षा करने का भी निर्देश दिया।

उप मुख्यमंत्री ने बैंकों से कहा कि वे बिहार के काष्ठ आधारित उद्योगों एवं कृषि व्यवसाय से जुड़े सात प्रक्षेत्रों, जिनमें मखाना, फल-सब्जियां, शहद, मक्का और बीज के प्रसंस्करण शामिल हैं को राज्य सरकार ने 15 से 35 प्रतिशत तक पूंजीगत और ब्याज अनुदान देने का प्रावधान किया है। इन प्रक्षेत्रों को अधिक से अधिक ऋण उपलब्ध कराएं।

श्री मोदी ने कहा कि आत्मनिर्भर भारत योजना के तहत फुटपाथ पर दुकान लगाने वाले दुकानदारों को अब तक दिए गए ऋण पर चिन्ता व्यक्त करते हुए कहा कि बैंकों में आए 14917 आवेदनों में से 3974 को स्वीकृत किया गया और मात्र 45 को 10-10 हजार रुपये का ऋण उपलब्ध कराया गया है। बिहार सरकार ने नगर विकास विभाग के माध्यम से एक लाख फुटपाथी दुकानदारों का आवेदन बैंकों को देने का निर्देश दिया है।

सूरज शिवा

जारी (वार्ता)

image