Thursday, Jun 13 2024 | Time 09:11 Hrs(IST)
image
राज्य


बंगाल के राज्यपाल ने सभी नागरिकों को फुटेज देखने के लिए आमंत्रित किया

बंगाल के राज्यपाल ने सभी नागरिकों को फुटेज देखने के लिए आमंत्रित किया

कोलकाता, 08 मई (वार्ता) पश्चिम बंगाल के राज्यपाल सीवी आनंद बोस ने बुधवार को नागरिकों को उन आरोपों की पृष्ठभूमि में प्रासंगिक सीसीटीवी फुटेज देखने के लिए आमंत्रित किया कि राजभवन छेड़छाड़ के एक कथित मामले में पुलिस को फुटेज उपलब्ध नहीं करा रहा है।

हालांकि, राजभवन ने कहा कि राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और पुलिस को इस मुद्दे पर उनके रुख के मद्देनजर निमंत्रण के दायरे से बाहर रखा गया है।

राजभवन ने एक्स पर एक पोस्ट में कहा, 'पश्चिम बंगाल के राज्यपाल सीवी आनंद बोस ने आज कोलकाता पुलिस के कथित शरारती और मनगढ़ंत आरोपों की पृष्ठभूमि में एक कार्यक्रम 'सच के सामने' लॉन्च किया कि राजभवन सीसीटीवी फुटेज को नहीं छोड़ रहा है।' (एक कर्मचारी पर छेड़छाड़ का आरोप), जो "पुलिस की अवैध और असंवैधानिक जांच के तहत है। "

पोस्ट में कहा गया "माननीय राज्यपाल ने फैसला किया है कि सीसीटीवी फुटेज पश्चिम बंगाल के नागरिकों द्वारा देखा जा सकता है , राजनेता ममता बनर्जी और उनकी पुलिस को छोड़कर। "सच के सामने' कार्यक्रम के तहत जो कोई भी सीसीटीवी फुटेज देखना चाहता है वह राज्यपाल को ईमेल भेज सकता है या राजभवनपीबीएक्स को 033-22001641 पर कॉल कर सकता है। पहले सौ लोग 09 मई को सुबह 1130 बजे राजभवन, कोलकाता के अंदर के फुटेज देख सकते हैं।

कोलकाता पुलिस ने राजभवन से छेड़छाड़ के आरोप के संबंध में सीसीटीवी फुटेज साझा करने का अनुरोध किया था।

पिछले गुरुवार प्रधानमंत्री के रात्रि विश्राम के लिए राजभवन पहुंचने से कुछ घंटे पहले एक महिला कर्मचारी ने श्री बोस पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाते हुए पुलिस में शिकायत दर्ज कराई।

सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) ने विवादास्पद मुद्दे को उजागर किया, राज्यपाल ने पलटवार करते हुए कहा, "सच्चाई की जीत होगी" और वह "इंजीनियरिंग आख्यानों से डरेंगे नहीं।"

जांगिड़

वार्ता

image