Wednesday, Nov 14 2018 | Time 12:14 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • चुनाव ड्यूटी से लौट रहे जवानों को नक्सलियों ने बनाया निशाना
  • कुपवाड़ा में सुरक्षा बलों का खोजी अभियान फिर शुरू
  • भाई-बहन के अटूट प्रेम का प्रतीक सामा-चकेवा शुरू
  • ट्रक एवं कार की टक्कर में छह लोगों की मौत, चार घायल
  • पुलिस मुठभेड़ में कुख्यात अपराधी हीरो मारा गया , दो गिरफ्तार
  • प्रणव, हामिद ने नेहरू को उनके जन्मदिवस पर नमन किया
  • तेलंगाना विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला
  • सिंगापुर में आज शुरू होगी दो दिवसीय पूर्वी एशिया शिखर बैठक
  • हैदराबाद में कार पेड़ से टकराई, आठ लोग घायल
  • बाल दिवस: गूगल ने डूडल बनाकर नेहरु और बच्चों को किया समर्पित
  • बिहार में सूर्योपासना का महापर्व छठ समाप्त
  • कैलिफोर्निया में भीषण आग, मरने वालो की संख्या बढ़ कर 48 हुुई
  • गोण्डा सड़क दुर्घटना में कार सवार तीन लोगों की मृत्यु
  • मोदी ने नेहरू की जयंती पर उन्हें किया याद
  • अमेरिकी रक्षा मंत्री और कतर के उप प्रधानमंत्री ने अफगानिस्तान केे मसले पर बातचीत की
भारत Share

भूषण स्टील के प्रोमोटर की अंतरिम जमानत बरकरार

भूषण स्टील के प्रोमोटर की अंतरिम जमानत बरकरार

नयी दिल्ली 04 सितम्बर (वार्ता) उच्चतम न्यायालय ने भूषण स्टील के प्रोमोटर नीरज सिंघल को दी गई अंतरिम जमानत पर रोक लगाने से मंगलवार को इन्कार कर दिया।

गंभीर धोखाधड़ी जांच कार्यालय (एसएफआईओ) ने दिल्ली उच्च न्यायालय की ओर से श्री सिंघल को दी गई जमानत को चुनौती दी थी।

मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली तीन-सदस्यीय पीठ ने अपने आदेश में श्री सिंघल को दिल्ली उच्च न्यायालय से मिली अंतरिम जमानत को बहाल रखा है। न्यायालय ने हालांकि मामले पर रोक लगाते हुए पूरे मामले को अपने पास स्थानांतरित करने का भी आदेश दिया है।

भूषण स्टील के पूर्व प्रबंध निदेशक श्री सिंघल पर आरोप है कि उन्होंने अलग-अलग 80 तरह की फर्मों को तैयार किया और उसके बाद बैंक कर्ज से 2500 करोड़ रुपये से ज्यादा का ऋण लेकर उसमें हेराफेरी की।

इस महीने की शुरुआत में ही एसएफआईओ ने श्री सिंघल को गिरफ्तार कर उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया था। श्री सिंघल को उच्च न्यायालय से अंतरिम जमानत मिलने के बाद एसएफआईओ ने 29 अगस्त को शीर्ष अदालत का रुख किया था। एजेंसी ने हवाला दिया था कि उनकी रिहाई से जांच प्रक्रिया में बाधा आ सकती है।

गौरतलब है कि बीते साल भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की ओर से जिन 12 गैर-निष्पादित परिसम्पत्ति (एनपीए) खातों की पहचान की गई थी, भूषण स्टील भी उनमें से एक था, जिनके खिलाफ दिवालिया प्रक्रिया शुरू की जानी थी। मई महीने में टाटा स्टील ने इस कंपनी को खरीद लिया और उसने बकाये का निपटारा 35,200 करोड़ रुपये में किया।

सुरेश टंडन

वार्ता

More News

मोदी ने नेहरू की जयंती पर उन्हें किया याद

14 Nov 2018 | 9:13 AM

 Sharesee more..

कोविंद ने नेहरु को किया नमन

14 Nov 2018 | 8:58 AM

 Sharesee more..

आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 15 नवंबर)

14 Nov 2018 | 8:40 AM

 Sharesee more..
image