Saturday, May 30 2020 | Time 07:06 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • चीन में कोरोना के चार नए मामले सामने आए
  • ठाणे के भाजपा निगम पार्षद का निधन
  • ब्राजील में कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा 27878 पहुंचा
  • फ्रांस में कोरोना से 52 और लोगों की मौत
  • ओमान में कोरोना के 811 नए मामले, कुल 9820 संक्रमित
  • न्यूजीलैंड के विटियांगा में भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए
  • ट्यूनीशिया ने स्टेट ऑफ इमरजेंसी छह महीने तक बढ़ायी
  • डब्ल्यूएचओ के साथ संबंध खत्म करेगा अमेरिका : ट्रंप
  • मोरक्को के पूर्व प्रधानमंत्री एबदर्रहमान यूसुफ़ि का निधन
  • मोरक्को में 1 54 टन गांजा बरामद, चार गिरफ्तार
  • पाकिस्तान में 30 मई से शुरु होगी अंतरराष्ट्रीय उड़ानें : प्रशासन
  • मेघालय में दो भाई नदी में डूबे
  • पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव ने धनखड़ से की मुलाकात
फीचर्स


सेहत के लिये मुफीद है साइकिल

सेहत के लिये मुफीद है साइकिल

लखनऊ 02 जून (वार्ता) चिकित्सकों का मानना है कि साइकिल के नियमित इस्तेमाल से न सिर्फ मोटापा, मधुमेह और गठिया जैसी तमाम स्वास्थ्य संबंधी विसंगतियों से बचा जा सकता है बल्कि हृदय और श्वांस रोग से ग्रसित मरीजों के लिये यह अचूक औषधि का काम कर सकती है।

चीन,जापान,नीदरलैंड,फिनलैंड,स्विटजरलैंड और बेल्जियम जैसे तमाम विकसित देशों में साइकिल का बढ़ता प्रचलन इस बात का द्योतक है कि शरीर को फिट रखने के लिये मुफीद दो पहियों की यह सवारी पर्यावरण संरक्षण में अहम भूमिका निभाती है। देश में भी कई जानेमाने प्रतिष्ठान और शैक्षणिक संस्थायें साइकिल के इस्तेमाल को प्रोत्साहन देती है लेकिन सड़कों में अतिक्रमण और आटो मोबाइल वाहनों की तेजी से बढती तादाद से सेहत के प्रति गंभीर लोग चाह कर भी साइकिल की सवारी करने से कतराते है।

यूनीवर्सिटी आफ लंदन के एक शोध के मुताबिक साइक्लिंग से दिमाग में सिरोटोनिन, डोपामाईन और फेनिलइथिलामीन जैसे जैविक रसायनो का उत्पादन बढ़ जाता है जिससे तनाव कम होता है और दिलोदिमाग ताजा रहता है। ब्रिटिश मेडिकल जर्नल में प्रकाशित एक शोध के अनुसार साइकिल चलाना पैदल चलने से अधिक फायदेमंद है। साइकिल के नियमित इस्तेमाल से कैंसर का खतरा 45 प्रतिशत और दिल की बीमारियों का खतरा 46 फीसदी तक कम हो जाता है जबकि पैदल चलने से हृदयरोग का खतरा लगभग 27 प्रतिशत कम होता है।

पर्यावरणविदों और चिकित्सकों का कहना है कि कि उत्तर प्रदेश की पूर्ववर्ती समाजवादी पार्टी (सपा) सरकार ने साइक्लिंग को बढावा देने के लिये तमाम उपाय किये थे लेकिन अफसरशाही की उदासीनता और अतिक्रमण ने साइकिल पथों को लील लिया है। मौजूदा योगी सरकार के साथ साथ केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार को चाहिये कि देश में पर्यावरण की हालत में सुधार लाने के अहम हथियार के तौर पर साइकिल को बढावा दे। कानपुर के लाला लाजपत राय चिकित्सालय में वरिष्ठ अस्थिरोग विशेषज्ञ प्रो रोहत नाथ ने यूनीवार्ता से कहा “ साइकिल सौ मर्ज की एक दवा है। साइकिल चलाने वाले युवकों में गठिया की संभावना न के बराबर होती है। पैडलिंग से जोड़ों और कूल्हे की एक्सरसाइज होती है। हजार रोगों की वजह शरीर में जमा अतिरिक्त चर्बी साइकिल की सवारी करने वाले को छू भी नहीं पाती। रक्तचाप बेहतर रहने से हृदय और श्वांस रोग से ग्रसित होने के बचा जा सकता है। ”

प्रो नाथ ने कहा कि लोगबाग फिट रहने के लिये जिम जाना तो पसंद करते है लेकिन छोटी मोटी दूरी तय करने के लिये कार और मोटरसाइकिल का सहारा लेते है। अगर नियमित रूप से पांच किमी साइकिल चलायी जाये तो उन्हे फिट रहने के लिये किसी और एक्सरसाइज की खास जरूरत नहीं रहेगी।

उन्होने कहा कि सरकार को भी साइकिल के प्रचलन को बढावा देने के लिये खास उपाय करने की जरूरत है। इसके लिये साइकिल ट्रैक बनाये जायें ताकि भीड़भाड़ वाली सड़कों पर दुर्घटना से बचा जा सके। सड़कों पर साइकिल पथ के किनारे पेड़ लगाये जाये। इससे न सिर्फ प्रदूषण में कमी आयेगी बल्कि स्वास्थ्य पर खर्च होने वाले लंबे चौड़े बजट में भी कमी लायी जा सकेगी। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) कानपुर के छात्र मयंक अग्रवाल बताते है कि संस्थान में साइकिल का प्रचलन है। शिक्षक से लेकर छात्र सभी साइकिल से चलते हैं। एक विभाग से दूसरे विभाग में जाने हो या फिर हास्टल में किसी से मिलना हो। साइकिल का उपयोग किया जाता है।

एक अन्य छात्र दीपक सिंहल ने कहा कि पश्चिमी देशों की तरह भारत में साइकिल के इस्तेमाल को बढावा देने की जरूरत है। नीदरलैंड की पहचान साइकिल के देश के रूप में होती है। वहां की सरकार ने प्राकृतिक सुंदरता और पर्यावरण का अक्षुण्य बनाये रखने के लिये साइक्लिंग को प्रोत्साहन दिया है। वहां के प्रधानमंत्री भी साइकिल से चलते हैं। इसी तरह डेनमार्क के काेपेनहेगन को सिटी आफ साइक्लिस्ट भी कहा जा है। अगर विकसित देश के लोग खुद को फिट रखने के लिये साइकिल को प्रोत्साहन देते है तो हमारे देश में इसका अनुसरण करना चाहिये।

सिंहल ने कहा कि सरकार को कार और दो पहिया वाहनो के लिये रोड टैक्स को बढा देना चाहिये जबकि साइकिल के लिये हर शहर में अलग पथ बनाना चाहिये। विज्ञापन के जरिये साइक्लिंग के प्रति जागरूकता फैलाने की जरूरत है जबकि वरिष्ठ पदों पर कार्यरत सरकारी अधिकारियों को कार के बजाय साइकिल से चलने पर जोर देना चाहिये ताकि वह आम लोगों में साइकिल के प्रति रूचि पैदा कर सकें।

प्रदीप

वार्ता

More News
लाकडाउन के दौरान दिनोदिन निर्मल हो रही है श्यामल यमुना

लाकडाउन के दौरान दिनोदिन निर्मल हो रही है श्यामल यमुना

12 Apr 2020 | 2:11 PM

मथुरा, 12 अप्रैल (वार्ता) पतित पावनी श्याम वर्ण यमुना की निर्मलता को वापस लाने के लिए जो काम न्यायपालिका, सरकार और स्वयंसेवी संस्थायें न कर सकी, उस काज को दुनिया के लिये काल बन कर विचरण कर रहे अनचाहे सूक्ष्म विषाणु ‘कोरोना’ के डर ने कर दिखाया है।

see more..
मुगलकालीन चित्रकला और रागमाला का बेजोड़ संगम है रजा लाइब्रेरी

मुगलकालीन चित्रकला और रागमाला का बेजोड़ संगम है रजा लाइब्रेरी

01 Apr 2020 | 4:46 PM

रामपुर 01 अप्रैल (वार्ता) सदियों तक नवाबी सभ्यता के केन्द्र रहे उत्तर प्रदेश के रामपुर में स्थित रजा लाइब्रेरी में संग्रहित पांडुलिपियां मुगलकालीन चित्रकला की अनूठी दास्तां बयां कर रही है वहीं रागमाला पर आधारित अलबम किसी का भी ध्यान बरबस अपनी ओर खींच लेता है।

see more..
हमीरपुर के 37 गावों के मिट्टी के टीलों की खुदायी पर लगायी रोक

हमीरपुर के 37 गावों के मिट्टी के टीलों की खुदायी पर लगायी रोक

21 Mar 2020 | 8:24 PM

हमीरपुर,21 माच्र (वार्ता) पुरातत्व विभाग ने उत्तर प्रदेश में हमीरपुर जिले के तीन ब्लाकों के 32 गांव में सर्वे करने के बाद दस हजार साल पुरानी सभ्यता के कई अवशेष मिलने के बाद 37 गांवों के मिट्टी के टीलाें को खोदने पर रोक लगाने के आदेश दिये है।

see more..
मुलायम के इटावा में आज भी शिद्दत से याद किये जाते हैं कांशीराम

मुलायम के इटावा में आज भी शिद्दत से याद किये जाते हैं कांशीराम

14 Mar 2020 | 11:34 AM

इटावा, 14 मार्च (वार्ता) दलितों की राजनीति की बदौलत देश के लोकप्रिय नेताओं में शुमार रहे बहुजन समाज पार्टी (बसपा) संस्थापक कांशीराम को आज भी समाजवादी पार्टी (सपा) संस्थापक मुलायम सिंह यादव के गृह जिले इटावा में पूरे आदर भाव के साथ याद किया जाता है।

see more..
देश में तेजी से बढ़ रही है गठिया रोगियों की तादाद

देश में तेजी से बढ़ रही है गठिया रोगियों की तादाद

07 Mar 2020 | 9:09 PM

लखनऊ 07 मार्च (वार्ता) अनियमित दिनचर्या और खानपान के चलते देश में तेजी से पांव पसार रही गठिया रोग के मरीजों की तादाद में पिछले एक दशक के दौरान अप्रत्याशित बढ़ोत्तरी हुयी है।

see more..
image