Wednesday, Oct 17 2018 | Time 13:22 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • विराट के कहने के बाद बीसीसीआई ने दी पत्नियों को दौरे पर अनुमति
  • तमिलनाडु में कार और बस की टक्कर में तीन लोगों की मौत, पांच घायल
  • राहुल के नेतृत्व में बनेगी कांग्रेस की सरकार-शर्मा
  • उन्नाव में कार सवार पांच लोगों के नहर में डूब जाने की आंशका
  • रेलवे ड्राइवर बनना चाहते थे ओमपुरी
  • ईरान में सैन्य परेड पर हमला करने वाले पांच हमलावरों की मौत
  • धनशोधन मामले में पूर्व राष्ट्रपति जरदारी को अग्रिम जमानत
  • सबरीमाला में प्रवेश को लेकर पुलिस और श्रद्धालुओं के झड़पें
  • सड़क दुर्घटना में तीन युवकों की मौत, एक गंभीर
  • रेलवे ड्राइवर बनना चाहते थे ओमपुरी
  • रेलवे ड्राइवर बनना चाहते थे ओमपुरी
  • सिल्वर स्क्रीन पर ‘धूम’ मचाना चाहते हैं अर्जुन कपूर
  • सिल्वर स्क्रीन पर ‘धूम’ मचाना चाहते हैं अर्जुन कपूर
  • बैंक कैशियर से चार लाख रुपये की लूट
  • विद्या बालन को लेकर फिल्म बनायेंगे आर बाल्की
Parliament Share

भारतीय मध्यस्थता एवं सुलह परिषद के गठन का विधेयक लोकसभा में पारित

भारतीय मध्यस्थता एवं सुलह परिषद के गठन का विधेयक लोकसभा में पारित

नयी दिल्ली 10 अगस्त (वार्ता) भारत में घरेलू एवं अंतरराष्ट्रीय विवादों के मध्यस्थता एवं सुलह सफाई के माध्यम से समाधान को संस्थागत रूप देने के लिए लोकसभा ने आज मध्यस्थता एवं सुलह (संशोधन) विधेयक, 2018 को पारित कर दिया। इससे देश में भारतीय मध्यस्थता एवं सुलह परिषद का गठन का मार्ग प्रशस्त होगा।
लोकसभा के मानसून सत्र के अंतिम दिन अल्पकालिक चर्चा का जवाब देते हुए विधि एवं न्याय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि इस विधेयक के पारित करने के साथ ही भारत को घरेलू एवं अंतरराष्ट्रीय विवादों के मध्यस्थता एवं सुलह सफाई का केन्द्र बनाने की दिशा में बड़ी पहल हुई है।
श्री प्रसाद ने कहा कि सरकार एक खास प्रकार से औद्योगिक एवं कारोबारी विवादों के मध्यस्थता एवं सुलह सफाई की दुनिया में सबसे ईमानदार एवं पारदर्शी व्यवस्था को संस्थागत रूप देकर मज़बूत बनाने के लिए भारतीय मध्यस्थता एवं सुलह परिषद का गठन करना चाहती है। इस परिषद का अध्यक्ष उच्च न्यायालय के सेवानिवृत्त मुख्य न्यायाधीश होंगे और उनकी अगुवाई में मध्यस्थों का पैनल काम करेगा। उन्होंने कहा कि इस समय देश भर में 36 मध्यस्थता एवं सुलह केन्द्र चल रहे हैं।
उन्होंने कहा कि परिषद के कामकाज की दिशा-निर्देशिका एवं नियमावली बनायी जाएगी तथा मध्यस्थों के प्रशिक्षण को प्रोत्साहित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि जनसामान्य के साथ-साथ सांसदों, सरकार में वित्त सचिव, बैंकों के अध्यक्ष आदि के पदों पर रह चुके लोग भी बेहतर मध्यस्थ हो सकते हैं। उन्हें भी इसके लिए अवसर मिल सकेगा।
श्री प्रसाद ने कहा कि परिषद में नियमों का कड़ाई से पालन किया जाएगा। मध्यस्थता की पुख्ता प्रणाली होगी। भारत में बहुत अच्छे न्यायाधीश और वकील हैं जिनमें विवादों के समाधान निकालने की विलक्षण क्षमताएं हैं। देश में ऐसे मध्यस्थों का एक बड़ा वर्ग तैयार हो रहा है। उन्हाेंने कहा कि भारत को घरेलू एवं अंतरराष्ट्रीय विवाद निस्तारण केन्द्र बनाने की दिशा में एक बड़ी छलाँग लगायी गयी है।
इसके बाद सदन ने विधयेक को ध्वनिमत से पारित कर दिया। इससे पहले चर्चा में मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के मोहम्मद सलीम, भारतीय जनता पार्टी के गोपाल शेट्टी, कांग्रेस की सुष्मिता देव ने भी भाग लिया। विपक्षी सदस्यों ने विधेयक का समर्थन किया लेकिन उसे अधिक विचार-विमर्श के लिए स्थायी समिति के पास भेजने की बात कही थी।
सचिन अजीत
वार्ता

More News
मानसून सत्र में राज्यसभा की उत्पादकता 74 फीसदी

मानसून सत्र में राज्यसभा की उत्पादकता 74 फीसदी

10 Aug 2018 | 8:02 PM

नयी दिल्ली 10 अगस्त (वार्ता) राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडु ने मानसून सत्र के दौरान सदन के कामकाज के सुचारू रूप चलाये जाने पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुये शुक्रवार को कहा कि इस दौरान सदन की उत्पादकता 74 फीसदी रही है जो पिछले दो सत्रों की तुलना में बहुत बेहतर है।

 Sharesee more..
वाणिज्यिक अदालतों के अधिकार क्षेत्र में बदलाव संबंधी विधेयक पर संसद की मुहर

वाणिज्यिक अदालतों के अधिकार क्षेत्र में बदलाव संबंधी विधेयक पर संसद की मुहर

10 Aug 2018 | 7:47 PM

नयी दिल्ली, 10 अगस्त (वार्ता) कारोबार को अधिक सुगम बनाने तथा प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) को आकर्षित करने के इरादे से वाणिज्यि से संबंधित विवादों के त्वरित समाधान के प्रावधान वाले विधेयक पर शुक्रवार को संसद की मुहर लग गयी।

 Sharesee more..

10 Aug 2018 | 7:44 PM

 Sharesee more..

10 Aug 2018 | 7:11 PM

 Sharesee more..
image