Sunday, Sep 23 2018 | Time 14:35 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • कानपुर: ट्रक ने मां बेटे को कुचला
  • प्रख्यात फिल्मकार कल्पना लाजमी का निधन
  • चांदी 650 रुपये चमकी;सोना 30 रुपये उछला
  • भारत के साथ राजनयिक संबंध बिगाड़ने को लेकर विपक्षी दलों ने इमरान को घेरा
  • चना,गेहूं नरम;चीनी,गुड़ में उछाल;दालों में घटबढ़
  • ईरान में अस्थिरता पैदा करना चाहता है अमेरिका: रूहानी
  • आर्थिक आंकड़े और वैश्विक संकेत तय करेंगे शेयर बाजार की चाल
  • आर्थिक आंकड़े और वैश्विक संकेत तय करेंगे शेयर बाजार की चाल
  • अर्जुन जूदेव के चर्चित मुकाबले के 30 वर्ष बाद फिर खरसिया सुर्खियों में
  • विदेशी मुद्रा भंडार फिर से 400 अरब डॉलर के पार
  • उत्तराखंड से होगी औद्योगिक भांग की खेती की शुरुआत
  • बारिश के कारण श्रीनगर-लेह राष्ट्रीय राजमार्ग बंद
  • उत्तराखंड से होगी औद्योगिक भांग की खेती की शुरुआत
  • अमेरिकी आइसक्रीम ब्रांड का भारत में विस्तार योजना
  • अाजमगढ:जमीनी विवाद में पोते ने मारी दादी को गोली
दुनिया Share

विकासशील देशों को डिजिटल तकनीकी का लाभ उठाना चाहिए:मोदी

विकासशील देशों को डिजिटल तकनीकी का लाभ उठाना चाहिए:मोदी

जोहानसबर्ग 27 जुलाई (वार्ता) प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि डिजिटल तकनीकी में क्रांति से चौतरफा विकास के नये अवसर खुले हैं और विकासशील देशों को इस तकनीकी का समुचित उपयोग करके इसका भरपूर फायदा उठाना चाहिए।

श्री मोदी ने शुक्रवार को यहां बिक्स-अफ्रीकी आउटरीच और ब्रिक्स-पल्स आउटरीच सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा,“ डिजिटल क्षेत्र में तकनीकी क्रांति ने नये अवसर प्रदान किये हैं। हम औद्योगिक क्रांति के पहले चरण के अवसर से चुक गये हैं लेकिन हम अब अवसर के ऐतिहासिक मोड़ पर खड़े हैं।”

श्री मोदी ने कहा,“ अफ्रीका के साथ भारत के संबध ऐतिहासिक और गहरे हैं। अफ्रीका में स्वतंत्रता, विकास और शांति के लिए भारत के ऐतिहासिक प्रयासों के विस्तार को मेरी सरकार ने सर्वाधिक महत्व दिया है। पिछले चार सालों में हमारे आर्थिक संबंध और विकास सहयोग नयी ऊंचाइयों पर पहुंचे हैं। आज 40 से अधिक अफ़्रीकी देशों में 11अरब डाॅलर से अधिक की 180 लाइन्स ऑफ क्रेडिट जारी हैं। बुधवार को युगांडा की संसद को संबोधित करते हुए मैंने भारत और अफ्रीका की साझेदारी के 10 सिद्धांतों की विस्तार से चर्चा की। ये सिद्धांत अफ्रीका की आवश्यकतानुसार विकास के लिए सहयोग, शांति और दोनों देशों के बीच सैंकड़ों साल पुराने रिश्तों को और मजबूत करने के लिए दिशा-निर्देश हैं।”

इस वर्ष सम्मेलन का विषय ‘चौथी औद्योगिक क्रांति में विकासशील देशों का समावेशी विकास और साझा समृद्धि’ है। श्री मोदी के अलावा इस सम्मेलन में चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग, रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति सिरिल रामफोसा भी मौजूद हैं। ब्रिक्स की स्थापना 2009 में हुई थी और ब्राजील, रूस, भारत, चीन तथा दक्षिण अफ्रीका इसके पांच सदस्य देश हैं।

आशा.श्रवण

जारी वार्ता

More News
चीन ने अमेरिका के साथ सैन्य वार्ता  रद्द की

चीन ने अमेरिका के साथ सैन्य वार्ता रद्द की

23 Sep 2018 | 10:40 AM

शंघाई 23 सितम्बर (रायटर) चीन ने अमेरिका के साथ सैन्य वार्ता रद्द कर दी है। अमेरिका ने चीन के रूस से लड़ाकू जेट विमान और मिसाइल खरीदने के कारण उसकी एक सैन्य एजेंसी को प्रतिबंधित कर दिया है जिससे नाराज होकर चीन ने अमेरिकी राजदूत को तलब किया है और सैन्य समझौता रद्द करने की घोषणा की है।

 Sharesee more..
ईरान में हो सकती है क्रांति: गुलियानी

ईरान में हो सकती है क्रांति: गुलियानी

23 Sep 2018 | 10:34 AM

न्यूयाॅर्क 23 सितंबर (रायटर) अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के निजी वकील रूडी गुलियानी ने शनिवार को कहा कि अमेरिकी प्रतिबंधों के कारण ईरान में पैदा हुआ आर्थिक संकट एक ‘सफल क्रांति’ को जन्म दे सकता है।

 Sharesee more..

23 Sep 2018 | 10:08 AM

 Sharesee more..
image